Entire family commits suicide after suicide by MBBS student son

An entire family including an ex-serviceman, his wife and daughter ended their lives in south west Delhi in an apparent suicide pact under depression over loss of a young son who was pursuing MBBS in Russia.

The medical student had ended his life last month.

father Police said Bhagwan Das, 50, his wife Sharda, 48, and their daughter Sunita, 20, consumed poison at their house at Khera Dabar in Jafarpur Kalan area on Friday morning.

“While Das and Sunita were declared brought dead by the doctors at Rao Tula Ram hospital, Sharda died while undergoing treatment at around 1.30 pm,” said Dependra Pathak, Joint Commissioner of Police (south west).

The incident was reported around 7.15 am and the three was rushed to Rao Tula Ram hospital by the neighbours who found them lying unconscious.

Police said the family had committed suicide by consuming insecticide ‘salphas’ used for storing food grains. Mr Pathak said Mr Das’ son, Kuldeep, who was first-year MBBS student in Russia had committed suicide on August 19 while he had come to India on a vacation.

The 23-year-old’s body was found in bathroom with froth coming out of his mouth and his viscera has been sent for forensic test and the report is still awaited, he said. Police have recovered a seven-page suicide note by Mr Das.

In the suicide note, Mr Das has accused two men – Alok Sinha and Nasim – of cheating him of Rs 35 lakh promising admission of his son in a private medical college in India which did not materialise.

He also claimed his son Kuldeep was “worried” as the duo had failed to return the money despite repeated assurances.

However, police said Kuldeep committed suicide as he was depressed over not doing well in his academics and wasting his parents hard-earned money. Besides, he was also worried over the amount paid to the two for his admission.

“A case of abetment to suicide and cheating has been registered against Alok Sinha and Naseem and investigation is underway,” Mr Pathak said.

Mr Das who worked as a driver with DTC, after retirement from army, said in his suicide note he had paid Rs 30 lakh in cash and a demand draft of Rs 5 lakh to the accused for Kuldeep’s admission in a private medical college.

Police said the accused had returned Rs 12.5 lakh to Mr Das and promised to return the balance by September 15.

The returned money was later used to send Kuldeep for MBBS studies in Russia.

The suicide note mentioned phone numbers and addresses of the accused whom the money was given for Kuldeep’s admission. Mr Das also sought forgiveness for his act, from his parents and relatives.

Police said Mr Das belonged to a rich family and had also taken Rs 20 lakh from his father for his son’s studies abroad.

He had constructed a new house and his family members including his parents and brothers were shocked that he had any financial problem which prompted him to take the extreme step.

बहादुरगढ़। रूस में MBBS कर रहे बेटे की मौत से दुखी पूरे परिवार ने आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि लड़के के पिता ड्राइवर थे। उन्होंने बेटे को डॉक्टरी की पढ़ाई के लिए कई लोगों से रुपए उधार लिए थे। सबने मिलकर लिखा सुसाइड नोट…

– जानकारी के अनुसार मृतक का बेटा कुलदीप रूस से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहा था। 19 अगस्त को हार्टअटैक से उसकी मौत हो गई थी।

– इस हादसे के बाद से ही पूरा परिवार काफी डिप्रेशन में था। इस बात का खुलासा मौके से मिले उस सुसाइड नोट में हुआ, जिसे लिखकर भगवानदास ने अपनी पत्नी और बेटी के साथ जहर खाकर सुसाइड कर लिया।

 

– डीटीसी में नौकरी करने से पहले भगवानदास भारतीय सेना से रिटायर्ड थे, जिनके परिवार ने 7 पेज का सुसाइड नोट भी लिखा है।

– सुसाइड नोट में नोएडा और कैथल के कुछ लोगों को अपनी मौत के लिए जिम्मेदार बताया है। उनके मोबाइल नंबर भी लिखे हैं।

सुसाइड नोट में लिखा आलोक सिन्हा और नसीम की वजह से मरा बेटा…

– परिवार ने मरने से पहले तीन पेज का सुसाइड नोट लिखा था जिसमें लिखा है कि उनके बेटे की मौत का जिम्मेदार आलोक सिन्हा और नसीम है इन दोनों की वजह से हमारे बेटे कुलदीप की मौत हुई है।

– सुसाइड नोट के मुताबिक आलोक सिन्हा ने भगवान दास से उसके बेटे कुलदीप को एक प्राइवेट कॉलिज से MBBS कराने के नाम पर 35 लाख रुपए लिए थे। लेकिन उसने कुलदीप का एडमिशन नहीं कराया और बहुत कम पैसे लोटाए।

– इसके बाद इस परिवार ने कुलदीप का एडमिशन रूस में करा दिया। कुलदीप कुछ दिन पहले ही घर आया था और उसने आलोक सिन्हा से पैसे मांगे लेकिन उसने नहीं लोटाए।

– सुसाइड नोट में लिखा है कि इसी वजह से कुलदीप तनाव में रहता था जिस वजह से उसकी मौत हो गई। परिवार ने लिखा है कि हमारे बेटे की मौत के जिम्मेदार आलोक सिन्हा और नसीम है। नसीम ने ही आलोक सिन्हा को इस परिवार से मिलाया था।

– सुसाइड नोट में लिखा है कि कुलदीप की मौत के बाद हम नहीं जी सकते हैं इसलिए मौत को गले लगा रहें है। साथ ही उसकी बहन सरिता भी भाई के बिना नहीं रह सकती है इसलिए वो भी हमारे साथ सुसाइड कर रही है।

‘जो बेटे के फोटो और बाइक की इज्जत करे उसी का है घर’

– सुसाइड नोट में लिखा है कि मेरी संपत्ति पर मेरे पिता का अधिकार है, लेकिन जो भी कोई मेरे बेटे कुलदीप की बाइक, उसके फोटो, कपड़ों और उसके सामान कि इज्जत करें उन्हें सुरक्षित रखें उसी को मेरा घर मिले।

– साथ ही लिखा है कि बैंक में जो मेरे पैसे है उस से इस घर की मरम्मत करा दी जाए, बस यही हमारी इच्छा है।

– साथ ही उन्होंने लिखा है कि हम चाहते हैं कि आलोक और नसीम को सजा मिले। मैं सभी से हाथ जोकड़र माफी मांगना चहाता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *