3 die in accident but onlookers kept making videos instead of help

Three persons traveling in a vehicle died in accident but onlookers kept making videos instead of help. The accident was so tragic that railing of road pierced through the vehicle. It entered the vehicle from engine side and crisscrossed the vehicle for 25 feet. Daughter was killed on the spot while parents died in the hospital.

accidentThe accident occurred at Hoshiyarpur in Punjab. Family members were taking the girl for treatment to Ludhiyana. Driver Gurdayal Singh and his 85 years old mother have been injured in the accident.

The most shameful aspect of the accident is that instead of helping the injured, the onlookers kept making videos. A dutiful army soldier Brajesh Kumar was passing from the area, who rushed the injured to hospital in his vehicle.

 

होशियारपुर। पंजाब में तेज रफ्तार का रविवार को रेलिंग से टकरा गई। हादसा इतना जबरदस्त था कि रिलिंग गाड़ी के अगले हिस्से से घुसा अौर इंजन को फाड़ता हुआ 25 फीटे पीछे तक बाहर निकला आया। हादसे में मां-बेटा जख्मी और लड़की की मौत हो गई।इंजन को चीरती हुई निकली रेलिंग...

– परिवार बीमार लड़की को चैकअप के लिए लुधियाना ले जा रहा था।
– हादसे में गाड़ी चालक गुरदयाल सिंह और उसकी 85 साल की मां राजरानी गंभीर जख्मी हो गए।
– जबकि, गाड़ी सवार अनीता देवी की हॉस्पिटल में मौत हो गई।
– लोगों ने बताया कि गाड़ी ओवरस्पीड थी। ट्रक को ओवर टेकिंग करते हादसा हो गया।
– रेलिंग में गाड़ी इतनी जोर से लगी कि वह गाड़ी के इंजन को चीरती और शीशे को तोड़ करीब 25 फीटे पीछे तक निकल गई।
मदद की बजाय मोबाइल से फोटो खींचते रहे लोग

– हादसे के दौरान पास से गुजर रहे दो लोगों ने बताया कि हादसे के तुरंत बाद जब इन हादसाग्रस्त लोगों को मदद की अहम जरूरत थी तब लोग इनकी मदद करने की बजाय मोबाइलों में वीडियो और तस्वीरें खींचते रहे।
– फौजी ब्रिजेश कुमार और उनके जूनियर शिव राज ने बताया कि वह रास्ते से गुजर रहे थे तो हादसा देखा तीनों को हॉस्पिटल पहुंचा।
– उन्होंने आरोप लगाए कि यहां एक तरफ इस हादसे में गंभीर चोटिल औरत राजरानी दर्द से चीख रही थी वहीं, हॉस्पिटल वाले इनकी तरफ ध्यान नहीं दे रहे थे।
– फौजी अफसर ब्रिजेश ने बताया हादसे में जख्मी गुरदयाल सिंह ने हॉस्पिटल कर्मियों से एम्बुलेंस का नंबर मांगा और उन्हें एंबुलेंस का नंबर देने में सेहत अधिकारियों ने 40 मिनट लगा दिए। वहीं एम्बुलेंस ठीक समय पर नहीं पहुंची।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *