He stood before mirror and shot himself seeing his image

suicideA youth committed suicide in a very weird way. He stood before mirror and shot himself seeing his image at Moga in Punjab. The 18 years old youth Robin was perturbed over dowry harassment of his sister and disrespect to his parents by his brother in law in foreign country.

Meanwhile, the police has registered a case of abetment of sucide against brother in law Sandeep Singh.

Robin was a student of class XII and was also a cadet of NCC.

 

धियाना। पंजाब के मोगा में दहेज के लिए बहन को तंग करने और माता-पिता की जीजा द्वारा विदेश में बेइज्जती से दुखी 18 साल के युवक ने खुदकुशी कर ली। उसने माता-पिता और बहन को गुरुद्वारा में माथा टेकने भेजकर शीशे के आगे खड़े होकर कनपटी पर गोली मार ली। खून से लथपथ पड़ी थी लाश...

– मंगलवार को छुटटी के चलते रोबिन के परिवार ने गुरुद्वारा में माथा टेकने जाने का प्रोग्राम बनाया।

– बेटे को साथ चलने के लिए कहा तो उसने सिर में दर्द होने की बात कहकर जाने से इनकार कर दिया। वे सुबह माथा टेकने चले गए।

– बाद में रोबिन ने उसकी लाइसेंसी रिवॉल्वर से शीशे के सामने खड़े होकर खुद को गोली मार ली।

– घर लौटे तो रोबिन सिंह की खून से लथपथ लाश देखी। पास में रिवॉल्वर पड़ी थी।

– पुलिस ने दामाद संदीप सिंह के खिलाफ खुदकुशी के लिए मजबूर करने के आरोप में केस दर्ज कर लिया है।

पिता की बेइज्जत से परेशान था रोबिन
– लड़के के पिता सुखमंदर सिंह ने बताया कि उसने अपनी बेटी की 2 साल पहले लुधियाना के एनआरआई संदीप सिंह के साथ शादी की थी।

– ससुराल वाले शादी के बाद दहेज के लिए परेशान करने लगे थे जिसके चलते 2015 में थाने में उसकी बेटी के बयान पर पति, सास और ससुर के खिलाफ केस दर्ज किया गया था।

– सुखमंदर सिंह ने बताया कि एक महीना पहले वह अपनी पत्नी के साथ कैनेडा में दामाद संदीप सिंह से मिला था।

– उसको बेटी को दोबारा बसाने के लिए काफी मिन्नतें कीं और केस वापस लेने की बात भी कही लेकिन उसने एक नहीं सुनी तथा उनको बेइज्जत किया।

– वह दोनों चार दिन पहले मोगा लौट आए थे। उन्होंने बेटी और बेटे को कैनेडा में हुई बातचीत के बारे बताया जिसके बाद बेटा रोबिन सिंह परेशान रहने लगा था।

15 अगस्त और 26 जनवरी की परेड की कमांड करता था

– रोबिन सिंह 12वी का स्टूडेंट था। वह 15 अगस्त और 26 जनवरी को होने वाले सरकारी समारोह में एनसीसी की परेड की कमांड करता आ रहा था।

– दोस्तों सरूप सिंह, बलदेव सिंह और अकाशदीप ने बताया की रोबिन सिंह पढ़ाई में अव्वल आने के साथ-साथ हैंडबाल का खिलाड़ी था।

– उसने 20 से 26 सितबंर तक महाराष्ट्र में होने वाले हैंडबाल मैचों में भाग लेने के लिए 18 सितबंर को मोगा से महाराष्ट्र के लिए रवाना होना था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *