My daughter is my identity: this is the village of daughters

Tiring, a tribal-populated village in Judi panchayat in East Singhbhum district, is the first one in Jharkhand where every dwelling unit will be identified by the name of a girl child and not by the head of the family.

‘Meri Beti, Meri Pehchan’ (My daughter, My Identity), a unique initiative under the ‘Beti Bachao, Beti Padao’ (Save girl, Educate girl) campaign launched by the state government, was kicked off in the village by the East Singhbhum district administration today.

daughterUnder the initiative, District Public Relations Officer Sanjay Kumar said plates in the name of the girl child of each house will be fixed outside the dwelling units, instead of the head of the family to give impetus to the campaign as well as to motivate girls to get educate.

“The village will become the first one in Jharkhand, which will be identified by the identity of the girl child rather than head of the family,” he said.

The campaign would boost self-confidence among girls and help in empowering women, Kumar said, adding the local panchayat pradhan and villagers have agreed to support the cause.

Tiring village is situated 28 km from Jamshedpur and as per the 2011 census, the girl-boy gender ratio in the village was 768 girls per thousand boys, while the girls’ literacy rate was 50.6 per cent.

On selection of the village for the campaign, Kumar said the village has 170 families and 50 per cent of the women need to be educated.

According to the 2011 Census, the sex ratio in this East Singhbhum district village that is located 26 km from Jamshedpur, was 786 female births to 1000 male births. The female literacy rate was only 50.6%. The village has 170 families.

Under the National Food Security Act of 2013, it is already mandatory to list the senior most female household member as the head of household in order to avail of benefits under the public distribution system. The earlier practice was to list a male as head of household.

“We launched this initiative ‘my daughter my identity’ in line with with Prime Minister’s mission ‘Beti Bachao Beti Padhao’ from this village, as it has a very low literacy rate and sex ratio. We have got this proposal duly approved by the gram sabha,” said Sanjay Pandey, Deputy Collector, to Hindustan Times. Nameplates have already been put up in several homes, he added.

“The nameplates are in yellow – symbolising light of hope and energy – while the names of the girl child and mother are in sky blue colour – symbolising the blue horizon. All the 61 households with unmarried girls will have houses named after the daughters and mothers,” Pandey said.

 

जमशेदपुर. झारखंड का तिरिंग गांव इन दिनों काफी चर्चा में है। इस गांव में आने वाला हर शख्स यहां के लोगों की तारीफ कर रहा है। दरअसल, तिरिंग गांव में घरों की पहचान बेटियों से है। हर घर के आगे नेम्पलेट लगा है जिसमें केवल बेटियों का नाम लिखा रहता है। वे ही घर की मुखिया होती हैं।बेटियों से है फैमिली की पहचान...

– बता दें कि जमशेदपुर के पास का तिरिंग गांव आदिवासी बहुल है।
– यहां के लोग ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं हैं। कमाई का जरिया केवल खेती और मजदूरी है।
– इसके बावजूद बेटियों को लेकर ग्रामीणों के काम की हर जगह तारीफ हो रही है।
-170 फैमिली के इस गांव में लड़कियों की संख्या कम होने लगी थी। गांववाले इससे काफी चिंतित हो गए थे।
– जागरुकता फैलाने के लिए उन्होंने ‘मेरी बेटी-मेरी पहचान’ नाम से कैंपेन चलाया।
– हर घर के आगे नेम प्लेट लगवाया गया। जिसपर अनमैरिड बेटियों का नाम लिखा गया।
– बेटी के नाम के नीचे उसकी मां का नाम रहता है। बेटी को ही फैमिली का मुखिया बनाया गया है।
– इस गांव में आने वाला सभी लेटर बेटी के नाम से आता है। उसपर पुरुष मेंबर का नाम नहीं होता है।

बदल गया गांव का माहौल

– तिरिंग गांव की पंचायत समिति सदस्य उर्मिला सामद ने कहा है कि इस पहल से पूरे गांव का माहौल बदल गया है।
– गांव में पुरुषों के बारे में कहा जाने लगा है कि वो उसका भाई है या पिता है।
– दूसरे गांव के लोग भी यहां आकर इस बदलाव को सही बता रहे हैं। वे भी अपने गांव में बेटियों के लिए नेमप्लेट बनवाना चाह रहे हैं।
– उर्मिला सामद ने बताया कि पहले उन्हें नीलसिंह की बहु कहकर पुकारा जाता था। लेकिन, अब बेटी के नाम से बुलाया जाता है।

1 से ज्यादा बेटी होने पर बड़ी बेटी का नाम

– गांव में लड़कियों की संख्या कम होने पर लोगों ने मीटिंग शुरू कर दी थी।
– 1 से ज्यादा बेटी होने पर घर का मुखिया बड़ी बेटी को बनाने का फैसला किया गया।
– ग्रामीणों के इस पहल को जिला सूचना जनसंपर्क कार्यालय से भी समर्थन मिला है।
– जनसंपर्क कार्यालय ने पूरे गांव के लिए नेमप्लेट बनवाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *