Engineer cuts throat of wife for dowry before stabbing 14 times with knife

engineerAn engineer mercilessly cut the throat of his wife before stabbing 14 times with knife near Ramgarh in Jharkhand state of India. He tried to commit suicide by consuming poison, but was saved.

Murder woman Khirawati Taniya and murderer husband Alok have two children.

Meanwhile, father of Taniya has accused son in law and his family members for dowry death. He alleged that they were demanding huge sum of money to purchase a land.

In the meantime accused Alok has fled away from hospital due to negligence of police.

रांची/ रामगढ़. झारखंड के रामगढ़ के पास भरकुंडा में एक इंजीनियर ने बेरहमी से अपनी पत्नी की हत्या कर दी। आरोपी इंजीनियर आलोक बेहरा ने पहले धारदार चाकू से पत्नी के पेट पर करीब 14 बार वार किया। फिर भी, पत्नी की सांसे चलती रही। पत्नी को जिंदा देख आलोक ने गला रेतकर उसकी जान ले ली। बता दें कि आरोपी इंजीनियर ने जहर खाकर सुसाइड करने की कोशिश भी की थी। लेकिन, लोगों ने उसे बचा लिया। खून से सनी मां को देख चिल्लाने लगे बच्चे

रात में हुई इस वारदात के बारे में किसी को जानकारी नहीं मिली है। दूसरे कमरे में सो रहे बच्चे सुबह होने पर मां के कमरे में आए।

चारों ओर खून फैला देखकर वो चिल्लाने लगे। मांबाप दोनों जमीन पर पड़े हुए थे। उनकी बॉडी पूरी तरह से खून से सनी हुई थी।

बच्चों के रोने की आवाज सुनकर पड़ोसी घर के पास पहुंच गए। दरवाजा खोलते ही उनके होश उड़ गए।

बता दें कि मृतक खीरावती तानिया और आलोक के दो बच्चे हैं। उनकी बेटी आकांक्षा 11 साल की जबकि बेटा आयुष्मान 8 साल का है।

लोगों ने बेहोश पड़े आलोक बेहरा को भुरकुंडा हॉस्पिटल पहुंचाया। जहां से डॉक्टर ने उसे रिम्स हॉस्पिटल रेफर कर दिया।

लोगों के मुताबिक आलोक ने दहेज को लेकर अपनी पत्नी खीरावती की हत्यी की है। आरोपी इंजीनियर वहीं चल रहे एक रीवर प्रोजेक्ट में इंजीनियर है।

जमीन खरीदने के लिए पैसे की कर रहा था डिमांड

मृतका के पिता मधुसूदन महंता ने थाने में हत्या का केस दर्ज कराया है। महंता ने कहा कि उनकी बेटी की हत्या में आलोक के साथसाथ उसके फैमिली का भी हाथ है।

उन्होंने बताया कि बेटी की शादी में दामाद को काफी दान दहेज देकर अपनी बेटी का विवाह किया था।

इसके बाद भी बेटी के ससुराल वाले मोटी रकम, भुनेश्वर में जमीन खरीदने सहित अन्य सामान की मांग कर रहे थे।

मांग पुरी नहीं करने के पर दामाद आलोक बेहरा ने फैमिली की मिलीभगत से उनकी बेटी की हत्या कर दी

पुलिस के लापरवाही से आरोपी हुआ फरार

बता दें कि पुलिस की लापरवाही से आरोपी आलोक बेहरा रिम्स में इलाज के बाद फरार हो गया है।

वारदात के बाद बेसुध पड़े आलोक बेहरा का भुरकुंडा अस्पताल में प्राथमिक उपचार हुआ। जहां से चिकित्सकों ने बेहर इलाज के लिए नई सराय रामगढ़ भेज दिया था।

नई सराय से बेहरा को रिम्स रांची ले जाया गया। यहां उसका इलाज डाॅ सीबी शर्मा के नेतृत्व में बेड नंबर 1056 पर चल रहा था।

आश्चर्य की बात है कि हत्या जैसे संगीन आरोपी का इलाज कब और कहां हो रहा है पुलिस को पता तक नहीं है। उसके सहयोगी ही इलाज की प्रक्रिया की देखभाल कर रहे थे।

36 घंटे से थाना में पड़ा है शव

पुरे मामले पर मानवता भी शर्मसार होते दिख रही है। शुक्रवार की मध्यरात्रि महिला की हत्या हुई थी।

शनिवार की सुबह पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पोस्टमार्टम से लौटने के बाद अभी तक दोनों पक्षों में से कोई भी सदस्य शव को लेने से इंकार कर रहा है।

लगभग 36 घंटा हत्या के बाद भी महिला का शव थाना परिसर में ही पड़ा हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *