Lady doc, nurses busy in applying mehandi while woman dies during labour pain

mehandiA woman died during labour pain while lady doctor, nurses and paramedical women remained busy in applying mehandi in Ram Manohar Lohiya Hospital of Lucknow on the occasion of Karwachouth. Due to it, both the pregnant woman and child in her womb died.

The child in the woman Lalita’s womb had died in the night. She was admitted in emergency ward, but no lady doctor or nurse attended her. Next morning, dead child was removed from stomach of woman. She continued to bleed after operation. Even then, no care was given to her and she died. Meanwhile, hospital authorities are trying to hush up the case.

लखनऊ के डॉ. राम मनोहर लोहिया हॉस्‍पि‍टल में डॉक्‍टर की संवेदनहीनताा का मामला सामने आया है। प्रेग्नेंट महि‍ला दर्द से तड़प रही थी, लेकि‍न ड्यूटी पर तैनात डॉक्‍टर करवा चौथ की तैयारी में व्‍यस्‍त थीं। वो महि‍ला के दर्द को अनदेखा कर मेहंदी लगाने में बिजी थीं। आरोप है कि‍ डॉक्‍टर की लापरवाही के चलते मां और बच्‍चे दोनों ने दम तोड़ दि‍या। आगे पढ़ि‍ए पूरा मामला…

– इंदिरानगर के एचएएल कॉलोनी निवासी गर्भवती ललिता (28) को मंगलवार को प्रसव पीड़ा हुई।

-पति सुशील के मुताकिब, वे लोग उसे गोमतीनगर स्‍थि‍त डॉ. राम मनोहर लोहिया हॉस्‍पि‍टल के इमरजेंसी वॉर्ड में लेकर गए।
– मंगलवार की रात को ही वो प्रसव पीड़ा से तड़प रही थी, लेकिन उसका इलाज नहीं किया गया।
– रात में ललिता के गर्भ में पल रहे बच्‍चे की मौत हो गई।
– उनका कहना है कि डॉक्‍टर और स्‍टाफ करवा चौथ की तैयारी में मेहंदी रचाने में बिजी रहीं।

– बुधवार की सुबह 11 बजे ललिता के गर्भ से मरे बच्‍चे को ऑपरेशन करके निकाला गया।
– ऑपरेशन के बाद भी उसे लगातार ब्‍लीडिंग होती रही और हालत उसकी बिगड़ती गई, लेकिन स्‍टाफ की ओर से ध्‍यान नहीं दिया गया।
– दोपहर एक बजे डॉक्‍टरों ने बताया कि मरीज को केजीएमयू शिफ्ट करना पड़ेगा।

एम्‍बुलेंस ईआरओ से नहीं की बात

– पीड़ि‍त परि‍जनों के मुताबिक, इसके बाद उन्‍होंने दोपहर 2 बजे से शाम 4 बजे तक 108 नंबर पर कम से 10 बार फोन किया गया।
– कॉल उठाने वाला व्‍यक्ति बार-बार यही कहता रहा कि डॉक्‍टर मेहंदी रचाने में व्‍यस्‍त रहीं।

– शाम 4 बजे तक एम्‍बुलेंस न मिलने से मरीज को ट्रॉमा शिफ्ट नहीं किया जा सका।
– शाम सवा 4 बजे एम्‍बुलेंस आई तो डॉक्‍टरों ने ललिता के बाजाय दूसरे मरीज को भेज दिया।
– इमरजेंसी में मौजूद डॉक्‍टर से पूछा तो उन्‍होंने कह दिया कि ललिता की हालत दूसरे सेंटर भेजने लायक नहीं है।
– इस बीच एम्‍बुलेंस के इंतजार में शाम 5 बजे ललिता ने दम तोड़ दिया।
मौत के बाद हंगामा

– ललिता की मौत के बाद परि‍जनों ने जमकर हंगामा किया।
– देर रात करीब 9 बजे तक हंगामा होता रहा।

– इसके बाद पुलिस ने लिखित शिकायत और कार्रवाई के आधार पर शव को पोस्‍टमॉर्टम के लिए भेज दिया।

– साथ ही, पुलिस ने गुस्‍साए लोगों को समझाकर मामला शांत किया।

जांच कमि‍टी गठित

– अस्‍पताल के निदेशक डॉ. पदमाकर सिंह ने बताया कि‍ परि‍जनों का आरोप था कि डॉक्‍टर की लापरवाही से ललिता की मौत हुई है।
– इस आधार पर उन्‍होंने मामले की लिखित शिकायत पुलिस से की है।
– मामले की जांच के लिए डॉक्‍टरों की तीन सदस्‍यीय जांच कमि‍टी बनाई जाएगी, जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई होगी।
– पोस्‍टमॉर्टम रिपोर्ट को भी तीन सदस्‍यीय टीम जांच में शामिल करेगी।

– इस टीम में डॉ. एके त्रि‍पाठी, डॉ. ईना गुप्‍ता, डॉ. सुधा सि‍ंह शामि‍ल हैं, जो 7 दि‍न में रि‍पोर्ट देगी।

अभी नहीं जागा अस्‍पताल प्रशासन

– मुख्‍य चिकित्‍सा अधीक्षक महिला डॉ. लिली सिंह ने बताया कि‍ फिलहाल अभी जांच कमि‍टी गठित नहीं हो सकी है और न ही डॉक्‍टर से किसी तरह की पूछताछ हुई है।
– उन्‍होंने बताया कि‍ रात के समय जिन्‍होंने मरीज को एडमिट किया था, उस समय डॉ. निरुपमा सिंह और डॉ. सुनीता इमरजेंसी में थी।

– इसके बाद सुबह डॉ. अल्‍का गुप्‍ता और डॉ. अनीता नेगी डिलीवरी करवाई थी। महिला की मौत के समय डॉ. तरन्‍नुम और डॉ. नीलम की ड्यूटी पर थीं।

आया (मे ड) लगा रही थी मेहंदी

 

– डॉ. लिली सिंह ने बताया कि‍ जानकारी के मुताबिक, आया (मेड)  वगैरह मेहंदी लेकर आई थीं और शायद उनमें से एक-दो ने आपस में मेहंदी लगाई।

– लेकिन डॉक्‍टर ने भी ऐसा किया हैं, अभी तय नहीं है। जब तक सभी से पूछताछ नहीं हो जाती, कुछ कहना ठीक नहीं होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *