Why this woman engineer burnt to death brutally?

womanPatna A female junior engineer was tied to a chair and burnt to death in Bihar’s Muzaffarpur district, police said today.
Sarita Devi, who lived separately from her husband in a rented house, was targeted on Sunday night. The police were told about the crime on Monday.
“We have began an investigation,” Muzaffarpur’s Senior Superintendent of Police Vivek Kumar said. Police said kerosene oil was used to burn her.

The body was completely charred. Her moth identified the remains from her half burnt sandals.

Police questioned the estranged husband and the landlord of a government engineer who is suspected to have been tied to a chair and burnt to death at her rented office in Bihar’s Muzaffarpur, officials said on Tuesday.

Police on Monday recovered the burnt remains of a human they suspect to be Sarita Devi, 42, who was posted as a junior engineer in Sitamarhi district.

Police said a “suicide note”, recovered from the house, has been sent for forensic tests. In the note addressed to her mother, Devi said no was responsible for her death. Police sources, however, said such manner of suicide was very unlikely.

Though crime against women in Bihar declined in 2015 as compared to the previous year, according to National Crime Records Bureau data, the numbers still accounted for 10% of such incidents nationwide.

Police said Devi stayed alone in her newly-constructed house with her younger son Aryan, close to her rented office. Her elder son Dhruv stays with her husband Vijay Nayak, who is based in Sitamarhi, around 65 kms away. The couple has been living separately for nearly 10 years.

Devi had sent Aryan to her mother’s house a couple of days ago.

“It is a challenge for us to find the truth behind her killing. We have taken her landlord Vijay Gupta and her husband into custody. They are being quizzed,” said Muzaffarpur senior superintendent of police (SSP) Vivek Kumar.

Police sources said they are assuming the remains to be of Devi’s as her slippers and some clothes were found at the house which she used as her office.

Deputy SP (town) Ashish Anand visited the incident site for the second consecutive day on Tuesday.

Gupta, whose house Devi had rented before moving to her newly-constructed house, was known to be among the frequent visitors to her house. Police said he helped Devi in preparing estimates for projects.

Police said the incident was reported to them by Gupta.

Devi was deputed as a JE under the Mahatma Gandhi National Rural Employment Scheme (MNREGS) at Muraul block of the district since October 2014.

“Once, we succeed in finding the reason, we can easily detect the men behind the heinous crime. We are taking help of a team of forensic expert. We will also get the bones tested for DNA to ascertain the identity of the victim,” said SP (city) Anand Kumar.

He said chemicals could have also been used to suppress the foul smell of burning a human body as none of her neighbours complained.

मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर में एक महिला इंजीनियर को कुर्सी से बांधकर जिंदा जलाने का मामला सामने आया है। मौके से एक जोड़ी चप्पल और हड्डियां मिली हैं। महिला की मां ने उसकी चप्पल से बॉडी की शिनाख्त की। मौके से एक सुसाइड नोट मिला है, लेकिन पुलिस इसे हत्या का मामला मान रही है। महिला की मां ने कुछ कलीग्स पर शक जताया है। पुलिस मकान मालिक से भी पूछताछ कर रही है। पति से अलग रहती थी इंजीनियर…

मुजफ्फरपुर.10 कट्ठा जमीन हड़पने के लिए मनरेगा की जूनियर इंजीनियर (जेई) सरिता देवी की हत्या कुर्सी से बांधकर की गई है। खुलासा हुआ कि तुर्की ओपी क्षेत्र के छाजन गांव में सरिता देवी के पैसे से ही विजय कुमार गुप्ता ने जमीन खरीदी थी। इंजीनियर को प्रशासनिक भय दिखा कर उसने खुद के नाम से जमीन की रजिस्ट्री करा ली थी। अब सरिता जब उससे जमीन वापस करने की बात बोल रही थी, तो कई माह से विजय उसे शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहा था। सुसाइड नोट में बताया भेड़िया, ऐसे हुआ खुलासा…
– इस बात का खुलासा मंगलवार को पड़ोसी मनीष कुमार के दरवाजे के पास मिले तीन पेज के लेटर से हुआ है।
– मंगलवार को नगर डीएसपी आशीष आनंद मृतका के घर की तलाशी लेने पहुंचे तो पड़ोसी ने दरवाजे पर एक लिफाफा पड़ा होने की जानकारी डीएसपी को दी।
– तीन पेज के लिखे पत्र में कई नए फैक्ट सामने आए हैं, जिसके आधार पर पुलिस छानबीन में जुटी है।
ली जा रही हैंड राइटिंग एक्सपर्ट की राय
– पुलिस मुख्यालय के मुताबिक घटनास्थल से दो कथित सुसाइड नोट बरामद किए गए हैं। एसएसपी विवेक कुमार ने बताया कि पत्र सरिता देवी का लिखा हुआ है।
– इस बात की पुष्टि उनके पुत्र ने की है। मौके से मिले कई कागजात से भी पत्र की लिखावट से मिलान किया गया है। प्रथम दृष्टया पत्र इंजीनियर का ही लिखा लग रहा है।
– हालांकि हैंड राइटिंग एक्सपर्ट की राय के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। लगातार दूसरे दिन पत्र मिलने के बाद से अब पुलिस आत्महत्या के कोण से भी छानबीन कर रही है।
– हालांकि देर शाम पति विजय कुमार नायक के बयान पर मकान मालिक विजय कुमार गुप्ता पर संदेह जाहिर करते हुए प्राथमिकी दर्ज की गई है।
– विजय गुप्ता को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। विजय कुमार गुप्ता के मकान में महिला जेई का ऑफिस चलता था।
मुझे आत्मदाह पर मजबूर कर दिया…
– विजय ने पहले मुझ पर आत्मघाती हमला किया। उसके बाद मुझे आत्मदाह करने पर मजबूर कर दिया।
– उसने आर्थिक रूप से मुझे इतना कमजाेर कर दिया कि मैं कोई अपना काम खुद से नहीं कर सकूं। मेरा सारा पैसा विजय के पास ही है।
– पैसा मांगने पर वह अक्सर मारपीट करता था। कुछ लोगों के पास उसका पैसा है, जिसका सारा हिसाब विजय के पास है।
चिट्‌ठी में लिखा- मकान मालिक भेड़िया है
– सरिता ने लिखा है कि जिसने बसाया, उसने ही यतीम कर दिया। विजय कुमार गुप्ता ने उसके पारिवारिक जीवन को बर्बाद कर दिया। पति से संबंध खराब करने में उसने अहम भूमिका निभाई।
– पति को मारपीट कर मुजफ्फरपुर से भगा दिया। पैसा मांगने पर विजय ने अपनी बेटी से मारपीट भी कराया। यही नहीं, वह अपने बच्चे की पढ़ाई के लिए फीस देता था,
– लेकिन जब मैं अपने बच्चे की पढ़ाई के लिए पैसे मांगती तो मारपीट करता था। वह इंसान नहीं है, भेड़िया है। पत्र में शोषण की भी बात सामने आई है।
मेरे बच्चे को इंजीनियर ही बनाना…
– लेटर में उसने लिखा है कि मां, मेरे बच्चे को इंजीनियर ही बनाना। उसने मुखिया सहित कई अन्य को बच्चे की पढ़ाई में मदद के लिए अनुरोध भी किया है। अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए बच्चों के साथ जिंदगी जी रही थी।

– महिला इंजीनियर का नाम सरिता देवी है। मौके पर जो नोट मिला है, उसमें मृतका ने अपनी मां से बच्चों का ख्याल रखने की बात कही है।

– घटना रविवार देर रात अहियापुर थाना क्षेत्र के कोल्हुआ बजरंग विहार कॉलोनी की है।

– सोमवार सुबह मोहल्ले वालों की सूचना पर इंस्पेक्टर विश्वमोहन चौधरी मौके पर पहुंचे। महिला का शरीर बुरी तरह से जला था, सिर्फ हड्डियां ही मिलीं।

पुलिस मान रही हत्या, मां को कलीग्स पर शक

– एसएसपी विवेक कुमार ने बताया कि पहली नजर में यह मामला हत्या का दिखाई दे रहा है।

– पुलिस को शक है कि बॉडी को जलाने के लिए किसी केमिकल का भी इस्तेमाल हुआ है।

– पुलिस ने बताया कि घटनास्थल की एफएसएल टीम ने जांच की है। मौके से सुसाइड नोट भी मिला है।

– मोबाइल कॉल डिटेल के आधार पर छानबीन चल रही है। मकान मालिक से भी पूछताछ हो रही है।

– मृतका की मां ने कुछ कलीग्स पर शक जताया है।

– लोगों के मुताबिक, महिला अफसर आखिरी बार रविवार शाम को देखी गई थी।

अनबन के बाद पति से अलग रहती थी सरिता

– सरिता मूल रूप से सीतामढ़ी के कन्हौली फुलकाहां की रहने वाली थी। पिछले तीन साल से मुरौल डिविजन में जेई के पद पर पोस्टेड थी।

– सरिता की शादी नेपाल बॉर्डर पर कन्हौली फूलकाहां निवासी विजय सिंह नायक से हुई थी। उसके दो बेटे हैं।

– बताया जाता है कि सरिता की पति से अनबन हो गई थी। इसके बाद वह अपने छोटे बेटे के साथ अलग रहने लगी थी। पति भी इसी गांव में रहता है।

– सरिता का बड़ा बेटा दरभंगा में पॉलिटेक्नीक की पढ़ाई कर रहा था।

मकान मालिक के दूसरे मकान में करती थी ऑफिस के काम

– सरिता बजरंग विहार कॉलोनी में विजय कुमार गुप्ता के मकान में रहती थी।

– बता दें कि विजय मनरेगा की अलग-अलग योजनाओं का एस्टीमेट बनाता था।

– कॉलोनी में ही विजय का एक और निर्माणाधीन मकान है, जहां पर सरिता अक्सर ऑफिस से जुड़े काम करती थी। घटना वहीं हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *