Unmarried step-brother forced sister to live as wife, victim misbehaved in hospital also

rapeAn unmarried step-brother forced sister to live as wife after death of their father. He had promised to support two younger step-sisters after father’s death. But over the years, his intentions changed since all his efforts to get married failed. Then the 35 years old Jitendra started raping one of his step-sisters. However, another sister disclosed the matter. Victim’s misery did not end here. When she was brought for medical test, she was misbehaved in hospital also. She was made to wait for 3 long hours for the test.

Recently, the youngest sister saw them in objectionable condition following which the victim narrated her tale and they reported the matter to the police.

भोपाल/हरदा। मध्य प्रदेश के हरदा जिले में भाई-बहन के रिश्ते को कलंकित कर देने वाला शर्मनाक मामला सामने आया है। मां-बाप की मौत के बाद छोटी बहन का गार्जियन बना अनमैरिड बड़ा भाई उसके संग ‘पत्नी-सा’ बर्ताव करने लगा। हालांकि, उसकी एक अन्य छोटी बहन ने मामला उजागर कर दिया। बुधवार को पीड़िता के संग हॉस्पिटल में भी बुरा बर्ताव हुआ। उसे मेडिकल कराने 3 घंटे इंतजार कराया गया।यूं सामने आया मामला…

लंबे समय से कर रहा था सेक्स, पिटाई भी करता था…
17 वर्षीय पीड़िता और उसकी तीन अन्य छोटी बहनें सौतेले भाई जितेंद्र (35) के साथ रह रही थीं। उनकी दो बड़ी बहनों की शादी हो चुकी है। पीड़िता के माता-पिता के साथ ही उसकी सौतेली मां की भी मौत हो चुकी है। लिहाजा आरोपी गार्जियन के रूप में अपनी छोटी बहनों की परवरिश करने लगा।

पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में सामने आया है कि आरोपी की मैरिज नहीं हो रही थी, इसलिए वह कुंठित हो गया था। वह लंबे समय से पीड़िता से पत्नी की तरह ट्रीट कर रहा था। उसके साथ न केवल दुष्कर्म करता, बल्कि मना करने पर पीटता भी था। मंगलवार को जब पीड़िता की छोटी बहन ने जितेंद्र और उसे आपत्तिजनक हालत में देखा, तब हंगामा हुआ। छोटी बहन के सपोर्ट के बाद पीड़िता सौतेले भाई के खिलाफ आगे आई और पुलिस में मामला दर्ज कराया। सिराली थाना प्रभारी सुशील पटेल ने बताया कि आरोपी जितेंद्र घर से भाग निकला है, उसे पकड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं। बताया जाता है कि एक बार पीड़िता घर से भाग चुकी है, लेकिन वह दोबारा भाई के पास क्यों लौटी, इसकी पड़ताल भी की जा रही है।

हॉस्पिटल में मेडिकल के लिए MLA की डॉक्टर बेटी ने कराया इंतजार
पीड़िता के साथ बुधवार को जिला अस्पताल में अच्छा बर्ताव नहीं किया गया। लेडी डॉक्टर ने नियमों का पाठ पढ़ाते हुए उसे तीन घंटे मेडिकल के लिए इंतजार कराया। बात जब CMHO तक पहुंची, तब मेडिकल हुआ। दरअसल, बुधवार दोपहर 12 बजे पीड़िता का मेडिकल कराने जिला अस्पताल लाया गया था। ड्यूटी पर मौजूद डॉ. नलिनी दोगने ने दूसरे थाना क्षेत्र का मामला बताकर मेडिकल जांच करने से इनकार कर दिया। डॉ. नलिनी दोगने हरदा MLA डॉ. आरके दोगने की बेटी हैं। लिहाजा कोई भी उनसे कुछ बोलने की हिम्मत नहीं जुटा पाया। हालांकि, जब ASI उमेश रघुवंशी CMHO से अनुमति पत्र लेकर आए, तब पीड़िता का मेडिकल हुआ। इस जद्दोजहद में करीब तीन घंटे लग गए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *