Live-in partner raped by BF’s friend with his consent, murdered and disfigured

murderA live-in partner girl was raped by BF’s friend with his consent, murdered and disfigured at Dausa in Rajasthan. The girl was murdered when she threatened to approach police in this regard. To hide her identity, the accused threw acid on her face and cut her fingers to ensure that her finger prints are not taken by the police,

Boyfriend Mahendra Meena and his friend Bablesh Meena have been arrested. Mahendra and victimg Sumitra had met at a coaching institute at Jaipur. They fell in love and decided for live-in relation. Mahendra took a house on rent at Jagatpura in Jaipur and started living with her in there.

After sometime, their relations were strained and Sumitra went to her house. However, she was called for a rapprochement by Mahendra and then raped and murdered.

लिव इन में रहने वाले ब्वॉयफ्रेंड की सहमती से गर्लफ्रेंड का उसके दोस्त ने रेप कर डाला। जब गर्लफ्रेंड ने पुलिस के पास जाने की धमकी दी तो दोनों लड़कों ने उसका मर्डर कर दिया। लड़की की पहचान छिपाने के लिए उसने लड़की का चेहरे पर तेजाब डाल दी। चेहरा जलाकर फिंगरप्रिंट्स नष्ट करने के लिए चाकू से अंगुलियां काट दी। फिर बॉडी खाली प्लाट में फेंक दी। पढ़ाई के बहाने रह रहे थे साथ …

– दौसा में सीकर की रहने वाली लड़की सुमित्रा मेघवाल का उसके ब्वॉयफ्रेंड महेन्द्र मीणा और महेंद्र के दोस्त बबलेश मीणा ने मर्डर कर दिया था। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

– सुमित्रा जयपुर में कंपीटीटिव एग्जाम की तैयारी कर रही थी। जिस कोचिंग में सुमित्रा पढ़ रही थी, उसी में महेंद्र भी कोचिंग कर रहा था। इसी दौरान दोनों की दोस्ती हो गई।

– दोस्ती इतनी आगे बढ़ गई कि दोनों ने लिव इन में रहने तक का फैसला कर लिया।
– फिर जयपुर के जगतपुरा में एक कमरा किराए पर ले लिया। अपने रिलेशन के बारे में मकान मालिक को भी अंधेरे मेें रखा।

– पुलिस को यह भी जानकारी दी गई कि लड़की ने कुछ माह पहले ही गर्भपात भी कराया।

लड़के के परिजन भी नहीं चाहते थे कि लड़की साथ रहे

– दोनों के साथ रहने से महेन्द्र के पिता और भाई नाराज थे। इस पर महेन्द्र ने लड़की को बोला कि वह उसके साथ शादी नहीं कर सकता। कुछ दिन तक तनाव रहा, लेकिन लड़की सुमित्रा इसके बाद अपने घर चली गई।

दोस्त के घर दौसा बुलाया, फिर दोस्त ने ही कर डाला रेप

– 16 अक्टूबर को महेन्द्र अपने दोस्त बबलेश मीणा के दौसा स्थित कमरे पर पहुंचा।
– यहीं दोस्त बबलेश ने महेंद्र को बोला, तूने सुमित्रा को क्यों छोड़ा। इस पर महेंद्र ने अपनी कहानी सुनाई। बताया कि सुमित्रा अब खुद ही घर चली गई है।
– इसके बाद बबलेश ने ही उसे समझाया कि वह सुमित्रा को यहां बुलाकर बात कर।
– सुमित्रा आई, बातचीत हुई। सुमित्रा भी बोली कि वह उसे नहीं छोड़ना चाहती।
– इसके बाद महेंद्र और सुमित्रा बबलेश के इसी रूम में तीन दिन तक रहे। फिजिकल रिलेशन बनाए।
– बबलेश यहीं था, फिर उसने भी महेंद्र के सामने उसके इशारे पर इसी प्रकार के संबंध बनाने का प्रयास किया।
– सुमित्रा नहीं मानी तो रेप कर डाला। इस पर सुमित्रा ने दोनों के खिलाफ पुलिस में जाने की धमकी दी।

– बस यही धमकी सुमित्रा के मौत का कारण बनी। दोनों दोस्तों ने मिलकर पुलिस के डर से 19 अक्टूबर को लड़की की हत्या कर दी। दोनों ने सुमित्रा की चुन्नी से ही उसका गला घोट दिया।

तेजाब से चेहरा जलाया, अंगुलियां काटी

– चूंकि महेंद्र के पिता सुमित्रा से उसकी शादी के खिलाफ थे। जब महेंद्र और बबलेश ने सुमित्रा की हत्या कर दी तो पिता को पता चला। पिता ने महेंद्र और बबलेश के साथ मिलकर साक्ष्य मिटाने के हर संभव उपाय किए।

– उसने तेजाब की बोतल मंगा ली और लड़की के चेहरे पर तेजाब डाल दिया और उसे जला दिया।
– उनका टारगेट था कि जब लड़की का चेहरा ही पहचाना नहीं जा सकेगा तो पता नहीं चलेगा कि वह सुमित्रा है और शक भी महेंद्र पर नहीं जाएगा।

– तीनों ने मिलकर रात को लाश को ठिकाने लगाने का प्लान बनाया। इससे पहले तीनों ने मिलकर चाकू से बॉडी की अंगुलियां भी काट डाली। दोनों ने पास ही बने एक खाली भूखंड में फेंक दिया।

मुम्बई जाने की फिराक में थे आरोपी, यही था पुलिस का सबसे बड़ा क्लू

– पुलिस को शक हुआ कि प्रेमनगर में एक युवक हत्या के दिन से फरार है।
– 23 अक्टूबर को बबलेश दोस्त महेंद्र के साथ फिर से कमरे पर आया। पुलिस ने वहां दबिश तो वे भाग गए।
– इसके बाद पुलिस ने उसके गांव नांगल लाट में दबिश दी, लेकिन वे नहीं मिले।
– इस पर पुलिस को सूचना मिली कि दोनों आरोपी जयपुर जंक्शन के पास हैं और मुम्बई जाने की फिराक में है। इस पर पुलिस ने दबिश देकर दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *