Why Jayalalitha not signing, but putting thumb impression on papers in hospital?

jayalalithaTamil Nadu Chief Minister J Jayalalithaa’s right hand is inflamed, her doctors have said, as the AIADMK party chief signed-off election affidavits with a thumb print and not a signature, documents showed on Friday night.

The 68-year-old leader has been in hospital for over a month since being admitted on September 22 with complaints of fever and dehydration. In subsequent health updates however doctors have said she is suffering from a lung infection and is on respiratory support.

A document filed by her party’s Tiruparangundram candidate A K Bose on Friday for the upcoming by-elections in the Tiruparangundram assembly constituency on November 19 carried an impression of her left hand.

Her thumb impression is also seen in five places on a letter given by her party intimating the Chief Electoral Officer, their official candidate.

The thumb impressions have been authenticated by Dr P Balaji, Professor of Minimal Access Surgery, Madras Medical College.
A note by him added, “The signatory has undergone trachestomy recently and has an inflamed right hand she is temporarily unable to affix her signature. Hence she has affixed her left thumb impression on her own in my presence.”
The last health update issued by her doctors last week said, “She is interacting and gradually progressing.”
A specialist from London and three doctors from AIIMS are treating Ms Jayalalithaa besides a team of doctors from Apollo Hospitals.
Although several leaders including Governor Vidyasagar Rao, BJP President Amit Shah, Congress Vice President Rahul Gandhi, Tamil Nadu opposition leader M K Stalin visited the hospital, none have been able to meet her.
Earlier this month, governor shifted the portfolios she held including Home and Police among others to her Finance Minister O Panneerselvam and authorised him to chair cabinet meetings.
Twice in the past he was her chosen loyalist to be a stand-in Chief Minister when she had step down following her conviction.

68 साल की जयललिता का दाहिना हाथ इलाज के चलते जल गया है। इस बात की जानकारी डॉक्टरों ने दी है। हाथ जलने के चलते जयललिता को इलेक्शन एफिडेविट्स पर दस्तखत करने के बजाय बाएं हाथ का अंगूठा लगाना पड़ा। बता दें कि अपोलो हॉस्पिटल में जयललिता 37 दिन से भर्ती हैं। तमिलनाडु की एक विधानसभा सीट पर होना है बाइइलेक्शन…

– मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जयललिता ने शुक्रवार को विधानसभा सीट पर होने वाले बाइइलेक्शन के एफिडेविट पर अंगूठा लगाया।
– 19 नवंबर को तिरुपरंगुन्द्रम सीट पर बाइइलेक्शन होना है। यहां एआईएडीएमके की तरफ से एके बोस चुनाव लड़ रहे हैं।
– इसके लिए बोस, डॉक्यूमेंट्स पर जयललिता के साइन लेने गए थे जिसपर उन्होंने बाएं हाथ के अंगूठे का निशान लगाया।
– पार्टी के तरफ से चीफ इलेक्टोरल ऑफिसर को जारी लेटर में कहा गया है कि डॉक्यूमेंट्स में 5 जगह जयललिता ने अंगूठा लगाया है।
– जयललिता के अंगूठे के निशान की मद्रास मेडिकल कॉलेज के सर्जरी विभाग के डॉ. पी. बालाजी ने पुष्टि भी की है।
– बता दें कि 22 सितंबर को फीवर और डिहाईड्रेशन की शिकायत के चलते जयललिता को अपोलो हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था।

डॉ. बालाजी ने अपने नोट में क्या लिखा?
– ‘जिन्होंने अंगूठा लगाया है, उनकी हाल ही में ट्रेचियसटॉमी (गले से पाइप डालकर फेफड़ों का इलाज) की गई है। इसके चलते उनका दाहिना हाथ जल गया है। कुछ दिनों तक वे साइन नहीं कर पाएंगी। लिहाजा उन्होंने बाएं हाथ से सिग्नेचर किए हैं।’
– पिछले हफ्ते डॉक्टरों ने जयललिता का हेल्थ अपडेट दिया था। इसमें बताया गया था कि वे बात कर रही हैं और उनकी तबीयत में सुधार हो रहा है।
– बता दें कि अपोलो के डॉक्टर्स के अलावा एक लंदन का स्पेशलिस्ट और एम्स के 3 डॉक्टरों की टीम उनका इलाज कर रही है।

दैनिक भास्कर ने बताया था- वेंटिलेटर पर हैं जयललिता
– दैनिक भास्कर की रिपोर्टर उपमिता वाजपेयी ने 4 दिन पहले अपनी रिपोर्ट में बताया था कि जयललिता वेंटिलेटर पर हैं। वे इशारों में बात कर रही हैं। – डॉक्टर यही कह रहे हैं कि वे ठीक हैं। पर बीमारी के बारे में किसी को नहीं बताया जा रहा है।
– भास्कर ने सीएम आवास, मिनिस्ट्री के सूत्रों और अपोलो के डॉक्टरों, नर्स व दूसरे स्टाफ से बात कर जया की बीमारी और उनकी सेहत के बारे में सूचना जुटाई।
– केरल के एक डॉक्टर के जरिए जब अपोलो के डॉक्टर से बात करने की कोशिश की तो जवाब मिला- ‘मेरी जान और नौकरी दोनों खतरे में है।
– 22 सितंबर की रात 9.45 बजे अचानक मुख्यमंत्री आवास पोएस गार्डन में पता चला कि जयललिता बेहोश हो गई हैं।
– सीएम हाउस से अपोलो हाॅस्पिटल के मालिक की बेटी और सीईओ प्रीथा रेड्‌डी के पास एक फोन आया। फौरन अपोलो से एम्बुलेंस रवाना हुई।
– ये नहीं बताया गया कि मरीज कौन है। अचानक एम्बुलेंस के ड्राइवर को कहा गया कि सीएम हाउस पहुंचो।
– 30 मिनट बाद जया बेहोशी की हालत में ग्रीम्स रोड के अपोलो हॉस्पिटल के आईसीयू में पहुंच चुकी थीं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *