Three sisters-in-laws’ deadly attack on software engineer for not living with wife

softwareThree sisters-in-law of a software engineer beat him badly for not living with wife in Tukoganj area of Indore. The attack was so brutal that the man started bleeding profusely. He was rushed to MY Hospital after which matter came to notice of police.

 Software engineer Ashish Chouhan (32) was fed up of frequent disputes with his wife. Due to it, he started living separately in a rented room in the same area.

Chouhan alleged that on Saturday night. His three sisters-in-law came to his apartment and starting thrashing him. Two of them caught him while third one hit him on the hat with cricket. Their parents also indulged in it. His wife Chanchal also sided with them.

 

तुकोगंज इलाके में पत्नी को साथ में न रखने की बात पर एक साफ्टवेयर इंजीनियर को उसकी तीन सालियों ने जमकर पीटा। गंभीर घायल हालत में जीजा एमवायएच पहुंचा तो पुलिस को घटना का पता चला। मामले में तुकोगंज पुलिस जांच कर रही है। क्या है पूरा मामला…
– पुलिस के अनुसार घटना शनिवार रात डेढ़ बजे तुकोगंज इलाके की बांबे की चाल की है।
– यहां रहने वाले आशीष चौहान (32) ने पुलिस को बताया कि उसकी पत्नी परिवार वालों से विवाद करती है।

– इसी के चलते उसने ससुराल के पास ही किराए से एक घर ले लिया और यहां आकर रहने लगा।

– शनिवार देर रात मेरी तीन साली आईं और मुझे गाली देने लगीं। मैंने उन्हें मना किया तो वे हाथापाई पर उतार आईं।

– इसी दौरान मेरी सास भी आ गई, उसके बाद साली आयुषी, मुस्कान के साथ मिलकर सभी ने मुझे पीटना शुरू कर दिया।

– दो सालियों ने जब मुझे पकड़ लिया तो एक ने मेरे सिर पर बैट से वार कर दिया, जिससे मेरा सिर फट गया।

– इसी बीच मेरे ससुर भी आ गए और उन्हाेंने मेरे पैर में मारना शुरू कर दिया। इसमें पत्नी चंचल ने भी उनका साथ दिया।

– जब मैंने बचाने की गुहार लगाई तो बिल्डिंग में ही रहने वाले कुछ लोग आ गए और उन्होंने भी मुझे मारा।

पुलिस ने बताया कि आशीष चौहान साफ्टवेयर इंजीनियर है और पत्नी से विवाद चल रहा है।

– गंभीर घायल हालत में वह खुद एमवायएच पहुंचा। मामले में पुलिस पूरे घटनाक्रम की जांच कर रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *