Sex workers earn 44 lakh in 48 hours in Rs. 500 and Rs. 1000 notes within 48 hours

redSex workers in India’s bigglest brothel Sonagachhi in Kolkata are still accepting Rs. 500 and Rs. 1000 notes. They would continue to do so till December 31, 2016. Within 48 hours they have earned a whopping Rs. 44 lakh.

As demonetisation of high value notes hit small businessmen across Kolkata, sex workers of Sonagachi here, South Asia’s largest redlight area, are seeing brisk business as they are aceepting these notes.

“Our girls have been asked to accept Rs. 500 and Rs. 1000 notes. But they are telling customers that they will not accept those after this week. Therefore there is a huge rush of customers.Although sex workers in top categories are facing no problem, those who take only Rs 300 to Rs 400 are facing great difficulty,” said Bharati, mentor of the Durbar Mahila Samanwaya Committee, a sex workers’ organisation that has 1.3 lakh registered sex workers under it across Bengal.

Sex workers who charge below Rs. 500 are facing tough time as they have hardly got any customers in the last two days.

Prospective customers first inquire whether the sex workers will accept Rs 500 and Rs 1000 notes. “If we say no, we will lose the customer. We have to accept the notes and the Durbar and Usha bank had assured us that our money will not go waste,” said Rekha, a sex worker.

In the last two days, sex workers in and around Sonagachi have deposited more than Rs. 55 lakh in Usha Multipurpose Cooperative Bank, which was formed and is run by former sex workers in 2001 for women in the same trade.

“Due to the huge rush of customers in Sonagachi, the sex workers in the last two days have deposited more than Rs 50 lakh in their bank accounts in Usha Bank. Generally, sex workers prefer to keep money in their homes but after demonetisation, there is a rush among sex workers to deposit money in the bank,” Shantanu, a senior official of Usha Bank, said.

कोलकाता/ नई दिल्ली. 500 और एक हजार रुपए के नोट बैन होने पर जहां लोग परेशान है। लेकिन इसका असर देश के सबसे बड़े रेड लाइट एरिया सोनागाछी पर नहीं पड़ा। सोनागाछी की सेक्स वर्कर्स अभी भी अपने कस्टमर्स से 500 और 1000 के नोट ले रही हैं। यही कारण है कि केवल 48 घंटे के भीतर सेक्स वर्क्स ने रिकॉर्ड 55 लाख रुपए की कमाई कर ली है। पुराने नोट लेना मजबूरी, महीने के आखिर तक लेगी 500- हजार के नोट…

– पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक नोट पर पाबंदी लगने से पहले यौन कर्मियों को 300 से 400 रुपए ही मिला करते थे, लेकिन पाबंदी लगने के बाद यौन कर्मियों ने ग्राहकों से 500 व 1000 रुपए वसूले।
– सेक्स वर्कर के लिए काम करने वाले एनजीओ दरबार महिला समन्वय कमेटी की भारती डे ने बताया कि इस महीने के आखिर तक ये नोट लेगी।
– सेक्स वर्कर्स के मुताबिक अगर वे भी 500 और 1000 रुपए के नोट लेना बंद कर देंगी, तो ग्राहक ही भाग जाएगा। ऐसे में पुराने नोट लेना उनकी मजबूरी है।

को-ओपरेटिव बैंक कर रहा है मदद

– भारती के मुताबिक सेक्स वर्कर के लिए गठित बैंक उषा को-ऑपरेटिव बैंक इस महीने के आखिर तक प्रतिबंधित नोट ले लेंगे।
– जिस दिन देशभर के बैंक बंद थे, वहीं उषा को-ऑपरेटिव बैंक में 120 यौन कर्मियों ने रुपए जमा किए। जबकि अगले दिन 200 सेक्स वर्कस रुपए जमा कराने पहुंची थी।
– ऐसे में केवल दो दिनों में ही 55 लाख रुपए की राशि जमा हो गई है।

ज्यादातर सेक्स वर्कर्स के पास नहीं है बैंक अकाउंट

– भारती ने कहा कि सेक्स वर्कर्स में से सभी के पास बैंक खाते नहीं हैं।
– उषा बैंक में केवल 30 हजार सेक्स वर्कर्स के खाते हैं। जबकि रजिस्टर्ड सेक्स वर्कर्स की संख्या 1.3 लाख है।
– हालांकि भारती के मुताबिक जिनके पास अकाउंट नहीं है उनके लिए भी कोई रास्ता निकाला जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *