Note ban fails to deter terrorists, 10 gunmen break into Punjab’s Nabha jail, flee with dreaded Sikh militant

jailTen armed men attacked a high-security Punjab jail on Sunday and fled with dreaded militant and Khalistan Liberation Force (KLF) “chief” Harminder Singh alias Mintoo .

The men were dressed in police uniforms and fired more than 200 rounds before fleeing with Mintoo and four gangsters from the Nabha jail in Patiala district, reports said.

The 49-year-old Harminder Singh’s arrest in 2014 was hailed as a huge success for anti-terror operations in Punjab, which battled Sikh insurgency for almost three decades till early 1990s.

A police team was sent to the jail, where several militants were housed when the Sikh insurgency was at its peak.

Security has been stepped up and an alert sounded in Punjab and neighbouring states following the audacious jail break.

Singh and his aide Gurpreet Singh alias Gopi were arrested in November 2014 at the New Delhi airport on his arrival from Thailand. The two were tracked with the help of central intelligence agencies.

The KLF chief was wanted in at least 10 terror offences, Punjab’s top police officer Sumedh Singh Saini had said after his arrest. His aide Gopi was tasked with executing targeted killings of Hindu leaders in 2013, which the Punjab Police foiled.

Singh, said police, had spent time in Pakistan. The neighbouring country’s all-powerful spy agency the ISI had asked him to carry out a strike on Independence Day that year but the plan didn’t work, the Punjab Police had said.

The ISI has helped Khalistani outfits with money, arms and training.

Singh also sought funds from and Europe and North America-based sympathisers to raise his own outfit.

Born in Dalli village of Jalandhar district in April 1967, Harminder Singh, whose family shifted to Goa in 1980s, was using a fake Malaysian passport and documents to travel.

He also travelled to Cambodia, Laos and Myanmar, besides Thailand, where he set up a base.

The Khalistan Liberation Force was founded after the 1984 Operation Bluestar when the Indian Army stormed the holiest Sikh shrine the Golden Temple in Amritsar to flush out militants, triggering widespread anger.

The KLF remained among the most dreaded of the Sikh organisations fighting for a separate homeland of Khalistan till 1993 when several of its frontline militants were killed in a ruthless anti-terrorist campaign led by Punjab Police chief KPS Gill.

चंडीगढ़. पटियाला की नाभा जेल से रविवार सुबह 6 कैदी फरार हो गए। इसमें 5 अपराधी और एक आतंकी है। बताया जा रहा है कि कुख्यात विक्की गोंडर के 10 साथी जेल में फायरिंग करते हुए घुसे और कैदियों को लेकर भाग गए। सभी अपराधी पुलिस की वर्दी में थे। फरार कैदियों में खालिस्तान लिबरेशन फोर्स (केएलएफ) चीफ हरमिंदर मिंटू भी शामिल है। पुलिस ने पूरे राज्य और हरियाणा-जम्मू-कश्मीर बॉर्डर पर हाईअलर्ट घोषित कर दिया है। फिल्मी स्टाइल में सेंधमारी, 100 राउंड गोलियां चलाईं…
– न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, जेल पर 10 हथियार बंद हमलावरों ने फायरिंग की।
– पुलिस वर्दी में आए अपराधियों ने 100 राउंड गोलियां चलाईँ।
– इसके बाद गैंगस्टर गुरप्रीत सिंह, विक्की गोंडर, नितिन देओल और विक्रमजीत सिंह को जेल से छुड़ाकर ले भागे। फरार कैदियों में केएलएफ चीफ हरमिंदर मिंटू भी शामिल है।
– चश्मदीदों के मुताबिक, ‘वे करीब 20 लोग थे। एक एएसआई की यूनिफॉर्म पहना था, बाकी सब पुलिस की वर्दी में थे। उन लोगों ने खुले में गोलियां चलाईं।’
क्या हुई कार्रवाई?
– पंजाब के डिप्टी सीएम सुखवीर सिंह बादल ने कहा ”डीजी जेल, नाभा जेल के अधीक्षक, उप अधीक्षक को सस्पेंड कर दिया गया है।”
– ”ADGP के तहत एक टीम बनाई गई है। आरोपियों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा।”
क्या बोले डीजीपी?
– कैदियों के फरार होने के लेकर डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल ने पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा से बात की।
– अरोड़ा ने कहा, ‘मैंने नाभा जेल की स्थिति का जायजा लिया। 6 कैदी फरार हैं। सिक्युरिटी अरेंजमेंट अच्छा है। काफी सवाल भी खड़े हो रहे हैं। लेकिन हम अपना काम कर रहे हैं।’
– केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा, ‘स्थिति पंजाब सरकार के कंट्रोल में है। जो भी जरूरी होगा, एजेंसियां उसके मुताबिक काम करेंगी।’
फिल्मी अंदाज में जेल में घुसे से अपराधी
– रविवार सुबह करीब 10 बजे 3 कारों में सवार 10 अपराधी फिल्मी स्टाइल में नाभा जेल में घुसे।
– एक सीनियर पुलिस अफसर की मानें तो चकमा देने के लिए वे दो लोगों को हथकड़ी लगाए हुए थे। वे वर्दी पहने हुए थे। लिहाजा जेल ऑफिशियल्स ने उन्होंने पुलिस ही माना।
– जेल में दाखिल होते ही उन्होंने 100 से ज्यादा राउंड गोलियां चलाईं और एक आतंकी समेत 5 कैदियों को छुड़ाकर भाग गए।
कौन है हरमिंदर मिंटू?

– मिंटू, खालिस्तान लिबरेशन फोर्स (KLF) का चीफ है। पैसे की उगाही, भर्ती और नफरत को फैलाने के लिए केएलएफ इंटरनेट का जमकर इस्तेमाल करता है।
– मिंटू को 2014 में पंजाब पुलिस ने अरेस्ट किया था। आतंक से जुड़े 10 मामलों में उसकी तलाश थी।
– हरमिंदर पर 2008 में सिरसा के डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम पर हमले का आरोप है। साथ ही 2010 में हलवारा एयरफोर्स स्टेशन से एक्सप्लोसिव लूटने का भी आरोप है।
– पंजाब पुलिस के रिकॉर्ड में है कि मिंटू 2010 में कॉन्टैक्ट डेवलप करने के लिए यूरोप गया था। 2013 में उसने यूरोप टूर के लिए पाकिस्तान छोड़ दिया था।
– साउथ-ईस्ट एशिया लौटने से पहले वह इटली, बेल्जियम, जर्मनी, फ्रांस और कई अन्य यूरोपीय देशों में गया था।
कौन हैं गोंडर?
– 2015 में फगवाड़ा में एक गैंगस्टर सुक्खा कहलों की हत्या के बाद गोंडर और उसके 15 साथियों को अरेस्ट कर लिया गया था।
– गोंडर ने कहलों को सरेआम गोली मारी थी। उस वक्त सुक्खा को कोर्ट से ले जाया जा रहा था।
– गोली मारने के बाद गोंडर और उसके साथियों ने सड़क पर डांस किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *