Farmers oppose demonitisation by distribute free potatoes

potatoBhartiya kissan Union on Wednesday distributed freepotatoes as a mark of protest against demonetisation in Lucknow, Uttar Pradesh. The district president of the Kisan Union, Harinam Verma spoke to reporters and said that although the farmers were not against demonetisation but asked as to where they should go with Rs 1000 in November and function in the sowing season. He said that it was therefore as a mark of protest that the farmers were distributing free potatoes and would also stage a protest later in the day. Verma urged the government to do something about the woes of the farmers.

The Reserve Bank of India on Monday announced that farmers were allowed to purchase seeds with the old denomination notes of Rs 500 from State or Cental government centres and outlets, PSUs, National or State Seeds Corporations,Central or State Agricultural Universities and the ICAR. The government had said that in order to further support farmers for the current rabi crop, the government has allowed farmers to purchase seeds with the old high-denomination banknotes of Rs 500 from the government centres on the production of proof of identity. This new measure was in addition to the decision to allow farmers to withdraw up to Rs 50,000 per week — R25,000 from their crop loan accounts and an equal amount from mandi payments received electronically in their accounts.

At the first pre-Budget consultative meeting held by finance minister Arun Jaitley with representatives of agriculture groups on Saturday, Consortium of Indian Farmers’ Association general secretary BD Rami Reddy had requested that farmers should be allowed to do use old notes to buy agricultural inputs until December 30. Farmers’ groups had also demanded to allow the purchase of fertiliser and pesticides using the old notes.

नोटबंदी के खिलाफ किसानों ने लखनऊ विधानसभा के सामने मुफ्त में बांटे आलू

नोटबंदी के खिलाफ किसानों ने लखनऊ विधानसभा के सामने मुफ्त में बांटे आलूनोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन कर किसान यूनियन ने विधानसभा के सामने मुफ्त में आलू बांटे। नोटबंदी के चलते किसानों का आलू और धान नहीं बिक रहे हैं।

लखनऊ (जेएनएन)। भारतीय किसान यूनियन राजधानी लखनऊ में नोटबंदी के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। विरोध प्रदर्शन में किसान यूनियन ने विधानसभा से सामने मुफ्त में आलू बांटे। यह विरोध प्रदर्शन विधानसभा के सामने किया जा रहा है। नोटबंदी के चलते किसानों का आलू और धान नहीं बिक रहे हैं। जिसके चलते किसानों में आक्रोश है। भारतीय किसान यूनियन नोटबंदी के चलते किसानों की फसलों के न बिकने से आक्रोश में है। जिसके तहत उन्होंने विधानसभा के सामने मुफ्त में आलू बांटे।

भारतीय किसान यूनियन का विधानसभा के सामने विरोध प्रदर्शन चल रहा है। जिसके तहत किसान यूनियन मुफ्त में आलू बांट रही है। वहीँ किसान यूनियन के जिला अध्यक्ष हरिनाम वर्मा ने इस विरोध प्रदर्शन को नोटबंदी से नहीं किसानों की समस्या से जुड़ा बताया है। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि, हम नोटबंदी के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन किसान बुवाई के सीजन में २000 की नोट लेकर कहाँ जायेगा।भाकियू के जिला अध्यक्ष ने आगे कहा कि, किसान मुफ्त में आलू बांटकर अपना प्रदर्शन कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि, किसान को जो समस्या हो रही है, उसके लिए सरकार को कुछ करना चाहिए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *