Mera baap paapi hai, girls write before committing suicide

rapeThe police has arrested a man for raping her two daughters who later committed suicide by writing that “my father is a sinner” at Aligang Dhobi Tola Lane under Babarganj police station in Bhagalpur city of Bihar.

Accused Munnial Sah alias Munna Sah used to rape his daughters. This has come to be known from the diary of victim Saraswati’s diary in which she wrote in detail about reasons behind suicide of her sister Laxmi.

भागलपुर.बिहार भागलपुर के बबरगंज थाने के अलीगंज धोबी टोला लेन की दो सगी बहनों की खुदकुशी का राज खुल गया है। पिता के दुष्कर्म से परेशान होकर तीन महीने में दोनों बहनों (लक्ष्मी, सरस्वती) ने फांसी लगा ली थी। पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है और देर शाम उसे जेल भेज दिया गया। जानिए कैसे हुआ मामले का खुलासा...

– एसएसपी मनोज कुमार ने गुरुवार को प्रेसवार्ता में बताया कि शातिर अपराधी मुन्नी लाल साह उर्फ मुन्ना साह उर्फ मुन्ना टाइगर जबरन घर में अपनी बेटी से दुष्कर्म करता था।

– मुन्ना की इस हरकत का खुलासा सरस्वती की डायरी से हुआ है। अपनी डायरी में उसने बड़ी बहन लक्ष्मी की खुदकुशी के कारणों का विस्तार से उल्लेख किया था।

डायरी से अक्षर मिलान के बाद बुना गिरफ्तारी का जाल

– एसएसपी ने बताया कि लक्ष्मी की मौत के बाद पुलिस इसके कारण को लेकर परेशान रही। कोई सुराग हाथ नहीं लग रहा था।
– एसएसपी ने बताया कि लक्ष्मी की मौत के बाद मामले की जांच कर रहे सिटी डीएसपी शहरयार अख्तर ने सरस्वती की लिखी डायरी बरामद की थी।
– ऐसे में सरस्वती की लिखावट की पुष्टि में देरी होने लगी। सरस्वती के अक्षर की पहचान उसकी मां, स्कूल के शिक्षक व डॉक्टर के परिजनों से कराई गई।
– जब इसकी पुष्टि हो गई तो मुन्ना की गिरफ्तारी का जाल बुना गया अौर बुधवार देर रात वह पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

बेटी ने डायरी में लिखा, मेरा बाप पापी है...

– अलीगंज मोहल्ले के धोबी टोला लेन में सगी बहनों के साथ पिता द्वारा दुष्कर्म करने के मामले का जिस डायरी से खुलासा हुआ है। छोटी बेटी सरस्वती ने अपनी उस डायरी में जो लिखा था…आपके सामने है।
– मेरा बाप पापी है। इसके कारण ही बड़ी बहन लक्ष्मी ने फांसी लगा ली थी। कमरे में बंदकर हम दोनों बहनों के साथ गंदा काम करता था। बहुत पहले भी किया था। घिन्न आती है। विरोध करती थी तो मारता-पीटता था।

– अच्छा हुआ जेल चला गया वह। हमलोग खुश रहते थे। अब फिर पापी जेल से छूटकर आया है। लक्ष्मी के साथ फिर से गंदा काम करने लगा है। कहता था दलाल के पास बेचेंगे।

– दीदी के मरने के बाद राजस्थान से आई तो मेरे साथ भी गंदा काम करने लगा। पहले भी किया था। तब मां को बताया था, मां ने डांटकर भगा दिया। मां को भी मारता-पीटता था।

– जब मां चौका-चूल्हा करने जाती तो फिर हम दोनों बहनों को कमरे में बंदकर गंदा काम करता था। दीदी मैं भी तुम्हारे पास आ रही हूं। मैं भी जीना नहीं चाहती।

– लेकिन देखना भगवान इस पापी को सजा जरूर देंगे। पुलिस बाबू जब इस पापी को पकड़ना तो उसको फांसी दिलवाना। रवि (छोटा भाई) तुम मां को देखना। पापी उसे भी मार डालेगा…।
आपकी सरस्वती

मुन्ना पर विभिन्न थाने में पांच मामले दर्ज

एसएसपी ने बताया कि मुन्ना पर मोजाहिदपुर थाने में ही पांच मामले दर्ज हैं। मुन्ना पर विस्फोटक पदार्थ अधिनियम व अन्य मामले में 16 फरवरी 2001, 19 अप्रैल 2001 और नौ दिसंबर 2008 को अलग-अलग तीन मामले दर्ज हैं। 23 अप्रैल 1997 व 26 जनवरी 2003 को भी डकैती और हत्या के प्रयास का मामला दर्ज है। मुन्ना शातिर बदमाश था। वह बमबाजी में सक्रिय रहा है। कुछ व्यापारियों से रंगदारी की भी मांग कर चुका है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *