BJYM leader shot dead in exchange of shooting in advocates’ room

murderGangster and leader of Bharatiya Janata Yuva Morcha Upendra Singh was shot dead in the hall of Jamshedpur Bar Council on the second floor of the court. He was attacked by several shooters including Vinod Singh and Vikki alias Sonu Singh. For 15 minutes, both gangs continued to fire at each other. After the incident, other advocates overpowered Vinod Singh and Vikki alias Sonu Singh and shut them in a bathroom. Later, the police arrested the assailants.

जमशेदपुर(झारखंड) यहां के नए कोर्ट परिसर के बार एसोसिएशन की दूसरी मंजिल पर बुधवार को गैंगस्टर और झामुमो नेता की हत्या कर दी गई थी। शुक्रवार को जांच के दौरान पुलिस बार भवन गई तो टेबल पर खून से लिखे शब्दों पर नजर पड़ी। सभी के लिए ये रहस्य बना हुआ है। क्या लिखा है टेबल पर…?

-जहां उपेंद्र सिंह की हत्या हुई, वहां एक टेबल पर खून से लिखा मिला है ‘महतो संतोष’, ‘नो’ और फिर ‘वार’ लिखा गया है। महतो अंग्रेजी में लिखा हुआ है और संतोष हिंदी में।
-यह किसने और क्यों लिखा? इसका उद्देश्य क्या है? संतोष महतो कौन है? उपेंद्र सिंह हत्याकांड से उसका कनेक्शन क्या है? पुलिस तमाम पहलुओं की जांच कर रही है।
-पुलिस इस बात का भी पता लगा रही है कि यह शब्द घटना के वक्त शूटरों ने लिखा या किसी और ने। जिस टेबल पर संतोष महतो लिखा गया है, वह भवन के बाथरूम के पास है।
-इसी बाथरूम में अधिवक्ताओं ने शूटर विनोद सिंह और विक्की उर्फ सोनू सिंह को बंद कर रखा था। घटना के दो दिनों के बाद बार एसोसिएशन के भवन को खोला गया था।
-यह भी चर्चा है कि जिस टेबल पर लिखा गया है, वह अधिवक्ता संतोष महतो का है। नाम लिखा जाना रहस्य बना हुआ है।

कैसे हुई थी हत्या
-दरअसल, यहां के नए कोर्ट परिसर के बार एसोसिएशन के दूसरे तल्ले पर बुधवार को 5-6 बदमाशों ने गैंगस्टर और झामुमो नेता उपेन्द्र सिंह पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी थी।
-करीब 15 मिनट तक दोनों गुटों में हाथापाई और फायरिंग हुई। इसमें दूसरी गैंग के एक बदमाश को भी गोली लगी। पुलिस ने यहां से पिस्टल, रिवाल्वर और देशी कट्टा जब्त किया था।
-घटना के बाद कोर्ट परिसर में अफरातफरी का माहौल हो गया। वकील बाहर की तरफ भागने लगे।

-उपेन्द्र सिंह बुधवार को कोर्ट में मारपीट और फायरिंग के मामले में जमानत कराने पहुंचे थे।
-बार एसोसिएशन की पुराने बिल्डिंग के दूसरे तल्ले पर टेबल नंबर 17 पर अधिवक्ता सीएसपी रॉय से बातचीत कर रहे थे।
-करीब 5-6 हमलावर हमले की फिराक में थे। बिनोद ने पीछे से कुर्सी को लात मारकर उन्हें जमीन पर गिरा दिया और ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं।
-बिनोद के साथी विक्की ने भी फायरिंग शुरू कर दी। उपेन्द्र पर गोली चलते देख उनके समर्थक बिनोद और विक्की से भिड़ गए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *