Why they want Sasikala as new AIADMK chief?

sasikalaCHENNAI:  Sasikala Natarajan, former Tamil Nadu Chief Minister J Jayalalithaa’s closest aide, has been urged by senior leaders of the AIADMK to lead the party, a tweet by the AIADMK said this afternoon. Sources in the party say AIADMK leaders are discussing creating a new post like Additional General Secretary for Ms Natarajan as they want Ms Jayalalithaa to remain as permanent General Secretary. Sources said the final call will be taken before the party’s general council meet.

Here are the 10 latest developments in this story:

Speaking to a local news network, Tamil Nadu Chief Minister O Panneeraselvam said, “Like Amma, Chinnamma (as Sasikala is referred to by party workers) knows each and every party worker. To ensure continuance of the party’s functioning… the only way out… is for Chinnamma to become the general secretary and lead the party.”

The Tamil Nadu cabinet met for the first time officially on Saturday after the death of Ms Jayalalithaa. Senior ministers have been paying regular visits to Sasikala Natarajan at the palatial home she shared with Ms Jayalalithaa. In recent days, the AIADMK has praised Ms Natarajan’s loyalty to Ms Jayalalithaa and her “caliber.”

Ms Natarajan has exercised powers this week that suggest she may not be averse to a formal frontline role in the AIAMDK, which was thoroughly dominated by Ms Jayalalithaa. The party says it will soon pick its top decision-maker or General Secretary, a post held by Ms Jayalalithaa for 27 years.

“We will elect a capable person who takes care of the cadres and follows Amma’s footsteps,” said party spokesperson C Ponnaiyan. Ms Jayalalithaa was referred to as Amma or mother by her party and lakhs of supporters. She died on Monday night after a cardiac arrest. She had been in hospital in Chennai since September.

Through that period, any access to her was decided by Ms Natarajan, 54, who reportedly also took important decisions about Ms Jayalalithaa’s treatment along with doctors. According to party members, she also influenced the decision to swear in the new Chief Minister, O Panneerselvam, within hours of Ms Jayalalithaa’s death.

At the funeral, Ms Natarajan performed the former Chief Minister’s last rites. It was she who accepted the condolences offered by VVIPs like Prime Minister Narendra Modi.

The deferential attitude displayed by the new Chief Minister and his cabinet to the woman who once owned a video cassette shop has invited criticism of the AIADMK abandoning democratic processes. “There’s nothing wrong in meeting an AIADMK member,” said party spokesperson Ponniayan when asked whether the new government is effectively reporting to Ms Natarajan.

On Friday, Ms Natarajan visited the beach memorial where Ms Jayalalithaa was buried next to M G Ramachandran, who was her on-screen love interest for decades before serving as her political mentor. Chief Minister Pannerselvam accompanied Ms Natarajan, but stood at a distance when she walked upto the grave.

In May this year, the extent of Ms Jayalalithaa’s popularity was apparent when she was re-elected for a second consecutive term, a political feat unaccomplished in nearly three decades, during which her party and its main adversary, the DMK, took turns at governance.

In 2014, when she was arrested on corruption charges before being acquitted, upset supporters set public buses on fire. 200 killed themselves, her party claimed at the time.

चेन्नई. तमिलनाडु कैबिनेट में शनिवार को एक रिजोल्यूशन पास किया गया, जिसमें जयललिता को भारत रत्न देने की मांग की गई है। उधर, शशिकला AIADMK की तीसरी चीफ बन सकती हैं। जयललिता के निधन के पांच दिन बाद AIADMK ने कहा- सीनियर्स चाहते हैं कि शशिकला पार्टी लीडर बनें। पार्टी ने शनिवार को ट्वीट किया- हमारे सीनियर लीडर्स चाहते हैं कि जो रास्ता जयललिता ने दिखाया, उस राह पर शशिकला ही पार्टी को लीड करें। आखिरी सांस तक अम्मा के साथ रहीं शशिकला...

– पोन्नइयन ने कहा, “शशिकला जयललिता के साथ आखिरी सांस तक रहीं। और, उनको लेकर किए जा रहे सवाल फिजूल हैं।”
– उन्होंने दावा किया, “कोई एक जल्द ही AIADMK का जनरल सेक्रेटरी जल्द ही चुना जाएगा। पन्नीरसेल्वम ने सरकार की अगुआई की और पार्टी चुने गए लोगों ने चलाई।”
– उन्होंने कहा, “AIADMK इलेक्ट किए गए लोग चलाते हैं। जनरल-एक्जिक्यूटिव कमेटी और कई लेवल पर काम करने वाले कई लोग शामिल हैं। शशिकला भी अहम हैं।”

हर बात में कयास लगाना ठीक नहींपोन्नइयन
– मुख्यमंत्री, मंत्रियों और दूसरे अफसरों की पोएस गार्डन में मीटिंग्स पर पूछे गए सवाल पर पोन्नइयन ने कहा कि हर बात में कयास लगाना ठीक नहीं है।
– उन्होंने कहा, “वहां सब मुख्यमंत्री के साथ मीटिंग कर रहे हैं। ये अम्मा का घर है जहां उनकी तस्वीर है। हम सदमे में हैं और अभी इससे उबर नहीं पाए हैं।”
– “वे सब लोग वहां अम्मा को श्रद्धांजलि देने भी जा रहे हैं। हर बात में कयास लगाना ठीक बात नहीं है।”

पार्टी की रक्षा करेगा जनरल सेक्रेटरी
– पोन्नइयन ने कहा कि पार्टी जल्द ही जनरल सेक्रेटरी का चुनाव करेगी, जो पार्टी और कैडर की रक्षा करेगा।
– उन्होंने कहा, “जनरल सेक्रेटरी वो होगा जो पूरी निष्ठा के साथ जयललिता के बताए रास्ते पर चलेगा और तमिलनाडु के लोगों का ध्यान रखेगा।”
– “पार्टी हाईकमान ने जनरल सेक्रेटरी चुनने का निर्णय लिया है और चुनाव जल्द होंगे।”
– जब उनसे पूछा गया कि पार्टी के कुछ कैडर्स के मन में शशिकला के खिलाफ गुस्सा है तो उन्होंने कहा कि ये सुनियोजित अफवाह है।
– उन्होंने कहा, “मीडिया और सोशल मीडिया में कुछ लोग अफवाहें फैला रहे हैं। जनरल सेक्रेटरी कौन होगा, इसको लेकर भी अफवाहें फैलाई जा रही हैं।”
– “AIADMK में किसी तरह की जलन या प्रतिस्पर्धा नहीं है। पार्टी की रक्षा इसके 1.5 करोड़ से ज्यादा सदस्य करते हैं और वही चलाते हैं।”

लगातार मुलाकात कर रहे हैं मंत्रीनेता

– जयललिता के अंतिम संस्कार के बाद से लगातार तमिलनाडु के सीएम ओ पन्नीरसेल्वम, सीनियर मिनिस्टर्स और पार्टी नेता पोएस गार्डन में शशिकला से मिल रहे हैं।

– AIADMK भी लगातार शशिकला के पार्टी में अहम होने की बात कह रही है।
– शशिकला जयललिता के साथ पोएस गार्डन में ही रहती थीं और उन्होंने ही अंतिम संस्कार से जुड़ी सारी रस्में पूरी की थीं।

2011 में पार्टी से निकाला था
– 2011 में शशिकला को जयललिता ने पार्टी से निकाल दिया था।
– आरोप था कि शशिकला और उनके परिवार के लोगों जयललिता के खिलाफ साजिश कर रहे थे।
– बाद में उन्हें फिर से AIADMK में शामिल कर लिया था, लेकिन फैमिली मेंबर्स को शामिल नहीं किया गया।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *