Rape in Delhi car having sticker of Home Ministry, Nirbhaya was raped on this day 4 years ago

rapeA shocking news has come to the fore! A girl was allegedly raped in a car in New Delhi. The incident brought back memories of horrific December 16 Nirbhaya gangrape incident that shook the world. According to report, the incident happened in south Delhi’s Moti Bagh. It has been learned that the vehicle was seized and it was bearing Ministry of Home Affairs sticker. The victim hailed from Noida had come to Delhi looking for a job and while she was waiting for a bus near AIIMS, the accused offered her a lift last evening, police said. The accused stopped the car in Moti Bagh and allegedly sexually assaulted her. She managed to escape from there and informed the police. The accused was arrested last night. He was driving a car that had a Home Ministry sticker but police said that he is not a government employee.

Chairperson of the Delhi Commission of Women (DCW) Swati Maliwal, Thursday wrote to Prime Minister Narendra Modi about the increasing number of crimes against women in the national capital. Highlighting the plight of women in Delhi, the letter states, “Minors as young as three-year-olds are being raped in Delhi and the crimes against women are increasing day by day. Every day, over six ‘Nirbhayas’ are being created in Delhi and the city has come to be known as the rape capital of the world.”

Quoting data provided by the Delhi Police, Maliwal wrote: “During 2012 to 2014, of the 31,446 FIRs registered on crimes against women, convictions were achieved only in 146 cases. Thus there is absolutely no fear of law in the mind of criminals in Delhi and a major reason for this is the fact that there are hardly any convictions.”

नई दिल्ली.निर्भया गैंगरेप केस की चौथी बरसी से पहले राजधानी में एक लड़की के साथ रेप की घटना सामने आई है। पुलिस ने आरोपी कार ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया। बताया जा रहा है कि कार पर होम मिनिस्ट्री का स्टीकर लगा था। लड़की नोएडा से इंटरव्यू देने के लिए एम्स के पास एक ऑफिस आई थी। यहां से लौटते वक्त ड्राइवर ने उसे लिफ्ट दी और घंटों दिल्ली की सड़कों पर घुमाता रहा। शीशे बंद होने से सुनाई नहीं दी चीख

– एडिशनल डीसीपी (साउथ) मनीषी चंद्रा ने बताया, ”बुधवार रात 1.30 बजे 20 साल की लड़की पेट्रोलिंग पार्टी को मोतीबाग इलाके में बदहवास मिली थी।”

– ”उसने एक कार में रेप की बात बताई। पुलिस उसे बयान दर्ज करने के लिए साउथ कैम्पस थाने ले गई। मेडिकल जांच रिपोर्ट में रेप की बात कन्फर्म हुई।”

– ”लड़की रात नौ बजे एम्स के पास बस का इंतजार कर रही थी। तभी आरोपी ने नोएडा के लिए उसे लिफ्ट दी।”

– ”आरोपी ने कहा- रात काफी हो गई है, यहां कब तक बस का इंतजार करोगी। मैं नोएडा जा रहा हूं, तुम्हें छोड़ दूंगा। जल्दी घर पहुंचने के लिए लड़की कार में बैठ गई।”

– ”इसके बाद ड्राइवर कार को दिल्ली में इधर-उधर घुमाता रहा। करीब 11 बजे आरोपी ने मोतीबाग के पास कार रोकी और छेड़छाड़ करने लगा।

– ”लड़की ने इसका विरोध किया तो उसे जान से मारने की धमकी दी। आरोपी ने डरा-धमकाकर उसके साथ रेप किया और वहीं छोड़कर फरार हो गया।”

– ”शायद कार के शीशे बंद होने की वजह से लड़की की चीख बाहर नहीं आ पाई। हमारी पुलिस टीम ने इस मामले में पूरी मुस्तैदी दिखाई।”

# कैसे गिरफ्त में आया आरोपी ड्राइवर?

– पुलिस के मुताबिक, ”कार मालिक ने बताया कि उन्होंने 7 दिन पहले एटा निवासी अवनीश को काम पर रखा था। आरोपी मोतीबाग में रहता है।”

– ”जब आरोपी के नंबर पर फोन किया तो ये बंद मिला। कॉल डिटेल से सुराग लेकर उसके दोस्त के घर गुरुवार तड़के 5 बजे रेड की, जहां आरोपी शराब पी रहा था।”

– ”यह एक प्राइवेट गाड़ी है। कार मालिक के पास होम मिनिस्ट्री का स्टीकर कहां से आया। इसकी जांच की जा रही है, बाद में जरूरी कार्रवाई करेंगे।”

# सीआईएसएफ के अफसर के बेटे की है कार

– पुलिस को सूनसान इलाके में कार खड़ी मिली। इसके बाद नंबर की डिटेल निकालकर कार मालिक से कॉन्टेक्ट किया गया।

– कार सीआईएसएफ के एक अफसर के बेटे की है, जो कोटला मुबारिकपुर में रहता है। कुछ दिन से कार अवनीश ही चला रहा था।

– पुलिस टीम को लड़की का मोबाइल इस कार से मिला, सेक्शन 357/376 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

# उस रात क्या हुआ था निर्भया के साथ?

– दिल्ली में पैरामेडिकल की स्टूडेंट 23 साल की निर्भया 16 दिसंबर, 2012 की रात अपने दोस्त के साथ मूवी देखकर लौट रही थी।
– वह एक बस में अपने दोस्त के साथ बैठी। बस में मौजूद कुछ लोगों ने उसे धोखे से बैठा लिया था।
– छह बदमाशों ने निर्भया से बर्बरता के साथ चलती बस में गैंगरेप किया था। बाद में उसे और उसके दोस्त को रास्ते में फेंक दिया था।
– 13 दिन बाद इलाज के दौरान सिंगापुर में निर्भया की मौत हो गई थी। देशभर में गैंगरेप केस का बड़े पैमाने पर विरोध हुआ था।
– एक दोषी ने तिहाड़ में फांसी लगा ली थी। चार को फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है। एक जुवेनाइल था, जिसे पिछले साल दिसंबर में रिहा कर दिया।

– ” लड़की एम्स के पास बस का इंतजार कर रही थी। तभी आरोपी ने नोएडा के लिए उसे लिफ्ट दी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *