Rs. 10 crore black money recovered BJP woman leader Preetam Munde

preetam-mundeA day after the Mumbai police seized Rs10.10 crore in old and new currency from three employees of the Vaidyanath Urban Co-operative bank, the case was referred to the income-tax (I-T) department on Friday. The bank has stated that the money belonged to the customers and that it was being transferred from one branch to other.

 Following the seizure, the police has asked the officials of the bank to provide the details of the amount seized. The case was then referred to the I-T department for further investigations. The department is likely to check the bank’s documents and is enquiring about the cash deposits made by people.

 The bank’s website refers to late senior Bharatiya Janata Party (BJP) leader Gopinath Munde as “its inspiration” and his daughter BJP MP Pritam Munde as one of the directors. “The details of cash transferred from one branch to another is available in our register,” said Vinod Kharche, general manager of the bank, adding that the money belongs to the customers.

On Thursday night at Chedda Nagar junction, traffic policemen intercepted a car, in which the cash was stuffed in gunny bags. The police were suspicious as banks transfer huge cash via guarded vehicles.

 The bank said that after the Centre decided to demonetise old notes of Rs500, Rs1,000 on November 8, various customers deposited their money. Further, the money was collected from the deposits in savings, current accounts and other routine bank transactions.

The nationalised banks near Parli Vaijnath refused to accept the old notes, after which the bank had sent Rs25 crore in cash on November 17 to their Ghatkopar branch so that it can be later deposited in banks. They had deposited Rs15 crore in a bank in the city, while the remaining cash of Rs 10 crore, which was intercepted was supposed to be taken to their Pimpri-Chinchwad branch for depositing in another bank, according to officials from the bank.

The Rs10 lakh in new Rs2,000 notes was meant for paying customers in Pune. “Like other banks, this is a part of a a routine transaction,” said Kharche. The entire sum has been insured, the bank officials claimed.

मुंबई। घाटकोपर-मानखुर्द लिंक रोड से पकड़ी गई 10 करोड़ रुपए की नकदी बीजेपी सांसद प्रीतम मुंडे के वैद्यनाथ अर्बन सहकारी बैंक की है। प्रीतम इस बैंक की डायरेक्टर भी हैं। गोपीनाथ मुंडे के निधन के बाद राजनीति में कदम रखने वाली प्रीतम लोकसभा में 6.96 लाख मतों के अंतर से विजयी हुईं थीं। सबसे ज्यादा वोट से चुनाव जीतने के मामले में वे पीएम मोदी को भी पछाड़ चुकी हैं।लिम्का बुक में नाम दर्ज..

– प्रीतम मुंडे अपने पिता की मौत के बाद खाली हुई बीड सीट पर हुए लोकसभा उपचुनाव में रिकॉर्ड 6.96 लाख मतों के अंतर से विजयी हुईं थीं।
– यह विधानसभा या लोकसभा में अभी तक सबसे अधिक वोटों के अंतर से मिली जीत है। इसके बाद उनका नाम लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड में भी दर्ज हुआ था।
– प्रीतम मुंडे ने यहां कांग्रेस उम्मीदवार अशोकराव शंकरराव पाटिल को हराया था। प्रीतम को 9,22,416 वोट मिले, वहीं पाटिल को 2,26,095 वोट मिले थे। – बता दें कि 2004 के आम चुनाव में सीपीएम के अनिल बसु ने 5.92 लाख वोटों के अंतर से जीत हासिल करके रिकॉर्ड बनाया था।
– अनिल बसु ने पश्चिम बंगाल के आरामबाग से चुनाव लड़ा था और 5,92,502 मतों से जीत दर्ज की थी। वहीं, इस साल हुए लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी ने 5 लाख, 70 हजार से अधिक वोटों से गुजरात के वडोदरा सीट से जीत दर्ज की थी।

पेशे से डॉक्टर हैं प्रीतम मुंडे

– प्रीतम मुंडे पेशे से एक डर्मेटोलॉजिस्ट हैं। प्रीतम मुंडे परिवार में सबसे ज्यादा पढ़ी-लिखी हैं।

– उन्होंने मुंबई स्थित वी वाई पाटिल इंस्टीट्यूट से पढ़ाई की है। उनकी शादी गौरव खडे से हुई है।
– वे आईटी इंजीनियर हैं और अमेरिका से पीएचडी कर चुके हैं। गौरव के पिता डॉक्टर राजेंद्र खडे एक मशहूर रेडियोलॉजिस्ट हैं।

प्रीतम की शादी में जुटे थे दिग्गज

– प्रीतम और गौरव की शादी काफी धूमधाम से हुई थी। शादी की थीम थी, मराठा किंग शिवाजी का शासनकाल।
– कार्यक्रम में उस्ताद बिस्मिल्ला खान के शिष्यों ने शहनाई बजाई थी।
– उनकी शादी में मोदी, आडवाणी, राजनाथ, वेंकैया नायडू, पृथ्वीराज चव्हाण, छगन भुजबल, विलासराव देशमुख, उद्धव ठाकरे, राज ठाकरे जैसे कई वीवीआईपी नेताओं समेत करीब 40 हजार लोगों को आमंत्रित किया गया था।
– मीडिया रिपोर्टर्स के मुताबिक, शादी में करीब 5 करोड़ रुपए खर्च हुए और खाने के 60 से ज्यादा स्टॉल्स लगाए गए थे।

मेडिकल कॉलेज की थीं डायरेक्टर

– प्रीतम काफी संकोची स्वभाव की मानी जाती हैं। उन्हें लाइमलाइट में रहना पसंद नहीं है। प्रीतम का लोगों के बीच जाना करीब 2 साल पहले शुरू हुआ।

– गोपीनाथ मुंडे ने उन्हें 2012 में सोलापुर के एक मेडिकल कॉलेज का डायरेक्टर बनाया था।
– मुंडे परिवार के राजनीतिक विरोधी और प्रीतम व पंकजा के चचेरे भाई धनंजय गोपीनाथ मुंडे की मौत के बाद अपनी सांत्वना जताने बीजेपी के मुंबई ऑफिस पहुंचे थे, तो पंकजा ने उनसे मिलने तक से इनकार कर दिया था। हालांकि, बाद में प्रीतम धनंजय से मिलीं और साथ रोईं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *