Rs 2000 note has nano chip, confirm sources: video goes viral

cashThe government of India has demonetised the current Rs 500 and Rs 1000 notes, but it plans to replace these with new Rs 500 and Rs 2000 notes. However, news are spreading about the upcoming Rs 2000 note, with messages being circulated on WhatsApp which claim the new higher denomination currency comes with a Nano-GPS chip installed on it. In the latest viral video, a note is being cut into two pieces and nano chips is shown coming out.

The message claims these notes are embedded with Nano-GPS chips which act as a signal reflector, giving precise location coordinates of the currency in order to allow every note to be tracked. Apparently the chip is so strong that one can track these Rs 2000 notes even if they are kept 120 metres below the ground level, according to the message.

It also claims the chip will also help identify if too many of these notes are kept in one place and alert the relevant authorities. Thus the government’s new note will help curb corruption and discourage people from hoarding black money. Except if you read the message, you can figure out this is a hoax.

Grammatical mistakes aside, the RBI’s own description for the Rs 2000 note does not mention this magnificent chip anywhere. Also at the press conference, this question was raised about the supposed GPS chip in these Rs 2000 notes and the so-called security measures. The RBI officials had dismissed these as false.

One of the messages which has been shared with us reads like this. Note we’ve left the message as it, and not edited it for grammar.

Also read: Demonetization: Snapdeal and FreeCharge launch ‘Wallet on Delivery’ option

The Rs 2000 currency is designed keeping in mind to eradicate the black money issues using state of the art indigenous nano technology, every Rs. 2000 currency note is embedded with a NGC (Nano GPS Chip)

How the embeded NGC Technology Works?

The unique feature of the NGC is it doesn’t need any power source. It only acts as a signal reflector. When a Satellite sends a signal requesting location the NGC reflects back the signal from the location, giving precise location coordinates, and the serial number of the currency back to the satellite, this way every NGC embedded currency can be easily tracked & located even if it is kept 120 meters below ground level. The NGC cant be tampered with or removed without damaging the currency note

How will this help eradicate black money menace?

Since every NGC embeded currency can be tracked. The satellite can identify the exact amount of money stored at a certain location. If a relatively high concentration of currency is found a certain location for a longer period of time at suspicious locations other than banks & other financial institutions. The information will be passed on to the Income Tax Department for further investigation

Just a beginning of the end of black money in India.

WhatsApp was where these messages were circulating, even before demonetisation was officially announced by the government. On Twitter too, some tweets have been shared with these claims, although quite a few people have been making jokes about the so called GPS claim.

The new Rs 2000 note does come with a motif of Mangalayan on the back, and it has special features for the visually impaired as well. But Nano-GPS chip is nowhere close to the truth.

नई दिल्ली. सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में दो हजार के नोट की ब्लेड से काटा जा रहा है। इसके बाद नोट के अंदर से चिप निकलते हुए दिखाई जा रही है। ऐसे में एक बार फिर नोट में जीपीएस चिप लगे होने के दावों को हवा मिल रही है। क्या है वीडियो में

– चार मिनट के इस वीडियो में करीब एक मिनट तक वो जगह तलाशी जा रही है जहां ब्लेड से कट लगाना है।
– कट लगाने की जगह तय करने के बाद नोट की सर्जरी शुरू हो जाती है। मंगलयान की तस्वीर पर धीरे-धीरे कट मारा जाता है।
– कुछ देर बाद नोट घुमाकर दूसरी तरफ से नोट पर ब्लेड चलाई जाती है फिर तीसरी तरफ ब्लेड घूमा दी जाती है।
– इसके बाद बड़ी ही सफाई से धीरे-धीरे ब्लेड से नोट का एक हिस्सा काट दिया जाता है। फिर औजार की मदद से नोट की परत को हटाया जाता है।
– नोट में एक सफेद हिस्सा दिख रहा है। ब्लेड उस सफेद हिस्से पर लाई जाती है। दावा है कि सफेद रंग की ये चीज दो हजार के नोट में लगी हुई चिप है।

क्या है वीडियो की सच्चाई

– एक न्यूज चैनल से बातचीत में एक्सपर्ट सत्यब्रत जीत ने बाताया कि बाल का जो पचासवां हिस्सा है माइक्रोचिप उस साइज होती है।
– वहीं माइक्रोचिप के पचासवें हिस्से के बराबर नैनो चिप होती है मतलब अपनी आंखों से उसे देख नहीं सकते वो बेहद महीन और छोटी हो सकती है।
– प्रोफेसर ने साफ किया कि नोट में चिप लगी भी है तो उसे ऑपरेट करने का कोई तरीका नहीं बना है। यानि ट्रेस करने का जो दावा किया जा रहा है वो मुमकिन ही नहीं है।
– ऐसे में वीडियो में दिखाई गई सफेद रंग की चीज एक प्लास्टिक का छोटा और महीन टुकड़ा हो सकता है।

आरबीआई ने भी दावे को किया था खारिज

– बता दें कि पिछले महीने आरबीआई नोट में चिप लगे होने के दावे को खारिज कर चुका है।
– आरबीआई ने 17 प्वाइंट्स में नोट के सभी हिस्सों और उसमें छिपी डिटेल के बारे में बताया था। इसमें कहीं भी नैनो जीपीएस चिप का जिक्र नहीं है।
– वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि नोट में चिप लगे होने की खबर पूरी तरह गलत है।
– ऐसे में कहा जा सकता है कि ये वीडियो झूठा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *