Fake Rs. 2000 notes smuggled from Pakistan seized in Punjab

fakeWhile Rs.2000 notes printed by Reserve Bank of India are yet to reach to all the banks in India, the fake copy of Rs.2000 notes has already reached the market. The fake notes of Rs.2000 denomoination were today seized in Tarn Taran. These notes were not smuggled from Pakistan but printed in Punjab only.

Punjab police has arrested two persons, residents of Bhikhiwind village near here trying to use four notes of fake Rs.2000 notes. Police has seized a compurter and scanner from their possesion. Thjey have been taken them on remand.The accused have been idnetified as Harjinder Singh, alias Kalu, of Singhpura village, Sandeep Kumar, alias Deepak, of Bhikhiwind, Gurmilap Singh, alias Gora, of Khalra. Police said that a case under sections 489-A, B,C, D (counterfeiting currency notes) of the Indian Penal Code has been registered.

But the question arised that was the gang printing Rs.2000 fake notes also printing fake notes of Rs.500 and Rs.1000 denomination now banned by Indian Government.

Punjab is run by SAD-BJP government and the ruling party has been accusing Pakistan for pushing fake currency into India. There were many instnaces of fake currency being printed and distributed in Punjab. Even a Senior Superintendent of Police posted in Faridkot, close to ruling Badal family, had given about 60 lakhs in bribery to Chairman of Punjab Public Service Commission for selection of his daughter as PCS officer. Later the officer was absolved of charges due to lack of evidence.

अमृतसर।अमृतसर के मेहताब सिंह और निर्मल कौर से पुलिस ने 1.20 लाख रुपए की जाली करंसी बरामद की है। सभी नोट 2-2 हजार रुपए के है। आरोपी पिछले लंबे समय से पाकिस्तान के तस्करों के संबंध में है और वहीं से करंसी इन लोगों तक पहुंची है। फेक करंसी में कई तरह की खामियां थी, जिसके तहत आरोपी पकड़े गए। छापई में कई तरह की खामियां थी

– इसमें नोट के प्रिंट का रंग, उसमें डाली गई हरे रंग की तार, राष्ट्रपिता की फोटो आदि को ठीक ढंग से छापने मे कई तरह की खामियां थी।

– इस कारण आरोपी पकड़े गए। हालांकि आरोपियों की पारिवारिक बैक ग्राउंड भी आपराधिक ही है।

– आरोपी निर्मल कौर का एक बेटा ब्रह्मजीत सिंह एनडीपीएस एक्ट के तहत तरनतारन जेल में बंद है, जबकि दूसरा बेटा कंवलजीत सिंह विभिन्न मामलों में पुलिस को वांटेड है।

– आरोपी पिछले लंबे समय से इस धंधे में जुड़े हुए हैं और लगातार पाकिस्तान तस्करों के संपर्क में है।

लंबे समय से हेरोइन तस्करी कर रहे थे आरोपी

– गौर हो कि पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि आरोपी लंबे समय से हेरोइन मंगवाकर डिलीवर करने का धंधा कर रहे थे।

– अब यह दोनों आरोपी पाकिस्तान से आने वाली जाली करंसी को भी डिलीवर करने लग पड़े थे।

– इस तहत दो दिन पहले ही पाक तस्करों ने 2-2 हजार रुपए के जाली नोट भेजे थे। जाली करंसी की यह खेप इन आरोपियों ने रिसीव की थी।

– इस बारे में पुलिस को सूचना मिली तो तुरंत रेड की गई और दोनों को गांव खहरा से गिरफ्तार किया गया।

– आरोपियों से पुलिस ने कुल 60 नोट 2-2 हजार रुपए के बरामद किए थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *