He faces difficulty in replacing thousands of rupee notes ending with 786

786Gaurav Taneja working with Haryana education department had collecte thousands of rupee notes ending with 786. Years ago he had found a note ending with 786 on the road. After this luck smiled on him and he started getting lucky strokes one after another. Due to this he started collecting notes ending with 786. During last 10 years, he has collected such notes.

हरियाणा के शिक्षा विभाग में कार्यरत गौरव तनेजा के शौक पर नोटबंदी ने पानी फेर दिया है. दरअसल, करीब 20 साल से गौरव ऐसे नोट जमा कर रहे थे, जिन नोटों के अंतिम 3 डिजिट 786 थे. उनके पास 45 हजार रुपये ही जमा हो पाए थे कि इसी बीच सरकार ने एक हजार व 500 रुपये के पुराने नोट बंद करने की घोषणा कर दी. झज्जर के चौधरियान मौहल्ले में रहने वाले गौरव ने बताया कि उनके पास 36 हजार 500 रुपये की राशि में हजार और 500 रुपये के नोट हैं.

नोटबंदी के कारण अब इन्हें इन नोटों को बैंक में जमा कराना होगा.

नोटबंदी के कारण अब इन्हें इन नोटों को बैंक में जमा कराना होगा.

गौरव के शौक की शुरुआत उस समय हुई, जब एक दिन उन्हें रास्ते के बीच एक 10 रुपये का नोट मिला, उस नोट के लास्ट 3 डिजिट 786 थे. वह दिन गौरव के लिए काफी खुशगवार गुजरा.

उस दिन उन्हें कई शुभ समाचार भी सुनने को मिले. बस उसी दिन से गौरव ने इस अंक को अपने लिए भाग्यशाली मान लिया और इस नंबर के नोट इक्ट्ठे करने शुरू किए.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *