People spend night in ATM in hope to get their own money

atmIn this shivering cold, many villagers from far off villages spend night in ATM in hope to get their own money in Punjab even as shortage of currency has not ended even on 43rd day of demonitisation. Meanwhile, people also beeline before banks since 1 am in the night warding off chilling cold.

सुनाम(पंजाब) नोटबंदी के बाद से शुरू हुई नकदी की किल्लत 42 दिन बाद भी कम नहीं हुई है। रोज लाइन में लगने के बाद भी लोगों को पैसे नहीं मिल पा रहे हैं। मंगलवार को भी एटीएम से नोट न मिलने से लोग काफी परेशान रहे। इलाके में आेरिएंटल बैंक आॅफ काॅमर्स के एक मात्र एटीएम में बुधवार सुबह नाेट मिलने की उम्मीद में लोग मंगलवार रात ही एटीएम में ही बिस्तर लगाकर सो गए। बैंकों के बाहर रातरात भर खड़े रहते हैं लोग...

– हालात ये हैं कि लोग रात 1 बजे से बैंकों के बाहर लाइनों में लगना शुरू हो जाते हैं।

– 9 डिग्री सेल्सियस की ठंड के बावजूद लोग बैंकों के बाहर रात-रात भर खड़े रहते हैं।

– पंजाब नेशनल बैंक रईया में भी एेसा देखा जा सकता है, जहां रोज रात एक बजे ही लोग लाइनों में आकर लग जाते हैं।

रात 1 बजे वालों की बारी सुबह 11 बजे जाती है
– लोगों का कहना था कि जब अगले दिन बैंक खुलता है तो कम से कम 11 बजे तक उनकी बारी आ ही जाती है।

– अगर कोई सुबह 7 या 8 बजे तक आता है तो उसकी बारी 4 बजे तक आ जाती है। इन लोगों ने नोटबंदी के फैसले को गलत करार दिया।

– उनका कहना है कि वह करीब 25-30 किलोमीटर की दूर से बैंक में पैसे निकलवाने के लिए आते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *