Top policeman kills woman and shoots himself in car

suicideJaipur: Additional SP Ashish Prabhakar shot dead his woman friend in his car and then shot himself at a place near Bombay Hospital on Jagatpura Road in the night. In the suicide note, Prabhakar has written that this woman Poonam was blackmailing him.

In the suicide not, he apologized to his estranged wife Anita who is living separately. Ashish Prabhakar wrote that he had made a mistake in life due to which this woman was blackmailing him.  

जयपुर. एटीएस में तैनात एडिशनल एएसपी आशीष प्रभाकर ने गुरुवार रात जयपुर के जगतपुरा रोड पर बॉम्बे अस्पताल के सामने सरकारी कार में सर्विस रिवॉल्वर से गोली मारकर सुसाइड कर लिया। इससे पहले उन्होंने कार में उनके साथ बैठी महिला फ्रेंड की गोली मारकर हत्या कर दी। देर रात तक महिला की पहचान नहीं हुई थी। पुलिस को कार में सुसाइड नोट मिला है। जिसमें उन्होंने लिखा कि ये महिला उन्हें ब्लैकमेल कर रही थी। सूत्रों के अनुसार सुसाइड से पहले महिला फ्रेंड व एएसपी में छीना-झपटी के सबूत भी मिले हैं। कंट्रोल रूम फोन कर कहाबिल्डिंग गिर गई है
– प्रभाकर गुरूवार सुबह रोजाना की तरह ही आफिस पहुंचे थे। काम पूरा करने के बाद शाम करीब साढ़े पांच बजे आफिस से निकले।

– इसके बाद महिला फ्रेंड के साथ घूमते रहे। रात करीब आठ बजे उन्होंने कंट्रोल रूम को फोन कर कहा था कि जगतपुरा रोड पर अंडर कंस्ट्रक्शन बिल्डिंग गिर गई।

– इसके बाद साथी एएसपी को फोन किया और कुछ देर बाद सुसाइड कर लिया।

– इस दौरान वहां से गुजर रहे राहगीर ने पुलिस को सूचना दी। तब मामले का पता चला।

poonamजैसे ही एएसपी ने रिवाल्वर निकाली तो महिलाफ्रेंडसे विवाद हुआ

– घटनास्थल पर दो गोलियां कार के गेट के शीशे पर तो एक छत में लगी मिली है।

– जिसके चलते पुलिस का शक है कि कार में प्रभाकर ने सुसाइड के लिए जैसे ही रिवाल्वर निकाला तब महिला फ्रेंड से विवाद हुआ होगा।

– जिसके चलते महिला फ्रेंड ने सर्विस रिवाल्वर निकालने के दौरान प्रभाकर का हाथ पकड़ा। जिससे गोली कार के गेट व छत पर लगी।

– पुलिस यह भी मान रही है कि सुसाइड नोट महिला फ्रेंड से मिलने से पहले लिखा था।

सुसाइड नोट में पत्नी से मांगी माफी, कहा यह महिला ब्लैकमेल कर रही थी

– सुसाइड नोट में आशीष ने पत्नी से माफी मांगते हुए लिखा है कि वे गलत रास्ते पर चले गए थे। महिला उन्हें ब्लैकमेल कर रही थी।

– सूत्रों के अनुसार कुछ समय से वे घरेलू विवाद के चलते तनाव में थे। उनकी पत्नी अनिता भी पीहर में रह रही थी।

एक माह पहले भी ट्रेनिंग के दौरान लापता हो गए थे, बाद में जलमहल के पास मिले थे
– करीब एक माह पहले भी एएसपी प्रभाकर ट्रेनिंग के दौरान आरपीए से लापता हो गए थे।

– काफी देर तक जब उनका मोबाइल कनेक्ट नहीं हुआ तो पत्नी अनिता ने पुलिस कंट्रोल रूम में सूचना देकर नाकाबंदी कराई थी।

– बाद में वे जलमहल के पास मिले थे। उनके अचानक ट्रेनिंग छोड़ने पर काफी विवाद हुआ था। इसके बाद ही उन्हें एटीएस में जॉइनिंग मिली।

murderएटीएस के एडिशनल एसपी अाशीष प्रभाकर के सुसाइड केस में सामने आया है कि उनका और पूनम शर्मा का करीब पांच साल से संपर्क था। महिला छह माह से शादी के लिए दबाव बना रही थी। इसी तनाव में एएसपी ने पहले उसे गोली मारी और फिर खुद को। पूनम की शादी 2011 में हो गई थी, लेकिन कुछ समय बाद ही पति से झगड़ा हो गया। माणक चौक थाने में दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज कराया। आशीष तब वहां सीओ थे। इसी दौरान पूनम की आशीष से नजदीकियां बढ़ गईं। इस बीच, पूनम का पति से तलाक भी हो गया।पढ़ें मोहब्बत-मर्डर और सुसाइड की पूरी कहानी…
पहली मुलाकात : पूनम की पति से अनबन हुई तो माणक चौक थाने में प्रभाकर से मिली
– सूत्रों ने बताया कि वर्ष 2011 में पूनम की शादी हुई, लेकिन उसके अगले दिन ही झगड़े के बाद उसने पति व ससुराल वालों के खिलाफ माणक चौक थाने में रिपोर्ट दी।
– हालांकि बाद में दोनों पक्षों में राजीनामा हो गया, लेकिन पूनम ने तलाक ले लिया। आशीष प्रभाकर माणक चौक एसीपी थे।
– उसी दौरान उनका पूनम से संपर्क हुआ था और वर्ष 2012 में दोनों की प्रेम कहानी शुरू हो गई, लेकिन पिछले छह माह से पूनम आशीष पर शादी के लिए दबाव बना रही थी और महेश नगर इलाके में रहने वाले कुछ युवकों के माध्यम से प्रभाकर को ब्लैकमेल कर रही थी।
5 साल का रिश्ता : घनिष्ठता इतनी बढ़ी कि आशीष की बातें पूनम को प्रतािड़त करने लगीं
– पूनम और प्रभाकर का रिश्ता थाने से शुरू होकर आगे बढ़ा और पांच साल तक बढ़ता ही गया। प्रभाकर को पूनम की सचाई अब समझ आने लगी थी।
– करीब एक महीने पहले जब आरपीए में आशीष प्रभाकर ट्रेनिंग पर थे, पूनम के साथ किसी बात पर उनका विवाद हो गया।
– पूनम ने बजाजनगर थाने जाकर प्रभाकर के खिलाफ प्रताड़ना का परिवाद दे दिया। पुलिस ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की थी।
– इसकी भनक प्रभाकर को लगी तो वे घर से गायब हो गए। आरपीए की ट्रेनिंग भी छोड़कर चले गए थे।
रिश्ते का अंजाम : प्रभाकर पूनम को साथ ले गया, शराब पी कर हत्या की, फिर आत्महत्या
– गुरुवार शाम 5.30 बजे प्रभाकर एटीएस कार्यालय से सीधे पूनम के पास गए और इस दौरान उसने शराब भी पी। दोनों कार से जगतपुरा की तरफ गए।
– प्रभाकर ने कार रोककर पहले पूनम की दाईं कनपटी पर अपनी सर्विस रिवाल्वर से गोली मारी और पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी।
– उसके बाद प्रभाकर ने भी अपनी दाईं कनपटी पर गोली मार दी। पुलिस को कार में गोलियों के दो खोल व सात जिंदा कारतूस रिवॉल्वर की मैगजीन में लोड मिले।
– मैगजीन 13 कारतूसों की थी। चार कारतूस कहां गए, पुलिस इसकी जांच कर रही है।
कौन थी पूनम
– 28 वर्षीय पूनम मूलत: अलवर के राजगढ़ की रहने वाली थी। वह आरएएस की कोचिंग भी कर रही थी।
– वह जयपुर में पहले गोपालपुरा मोड़ पर रहती थी और हाल ही मालवीय नगर में रहने लगी थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *