Why Rs. 500 notes are losing printing on coming into contact with water?

500A preliminary investigation has established that the rush to print the new Rs 500 notes coupled with seemingly reckless operations, including skipping of the vital “colour examination” and “intaglio printing” stages, led to the production of the defective notes. Such notes were given by a bank to one Amarinder Singh of Ashok Vihar Delhi. He had drawn Rs. 25 thousand. He said that his hands were wet when he counted the notes and to his astonishment, the numbers on the Rs. 500 notes were erased.

पानी लगते ही नए 500 के नोटों का उड़ रहा है रंग, मिट रहे हैं नोट के नंबर!

नई दिल्ली। दिल्ली के अशोक विहार में नए नोटों से रंग उड़ने का मामला सामने आया है। अरमिंदर नाम के शख्स ने बैंक से बड़ी मशक्कत के बाद 25 हज़ार रुपए निकाले, लेकिन 500 रुपए के कुछ नोटों के रंग छुटने से वो हैरान रह गया। इतना ही नहीं नोट के नंबर भी साफ हो गए। अरमिंदर के मुताबिक उसने कोटक महिंद्रा बैंक से ये रकम निकाली थी।

मामला दिल्ली के अशोक विहार का है। यहां अरमिंदर सिंह बड़ी मशक्कत के बाद 25 हज़ार रुपये अपने अकाउंट से निकलने में तो सफल तो हो गए लेकिन एक बड़ी मुसीबत से उनका सामना हो गया। जो नोट ये निकाल कर लाये थे उनसे 500 नोटों के नंबर मिट रहे हैं। स्याही छूट रही है। दरअसल, बैंक से पैसे निकालने के बाद अरमिंदर सिंह खाना खा रहे थे। उनके हाथ थोड़े गीले थे, उन्हीं हाथों से वे इन नोटों को गिन रहे थे कि नोट की स्याही उतरकर उनके अंगूठे से चिपक गयी।

अरमिंदर ने नोट को ध्यान से देखा तो उसके सभी फीचर असली थे। ऊपर के नंबर की स्याही नहीं उतर रही थी, जबकि नीचे के नंबर और इनकी स्याही साफ़ हो रही थी। उन्होंने काई नोटों को चेक किया तो सभी की स्याही उतर रही थी। वे डर गए और ज्यादा नोटों को चेक नहीं किया। इन नोटों को देखकर यह सवाल उठाना लाज़मी है कि क्या आरबीआई की भारी चूक है? या फिर ये नोट नकली हैं?

2000 के नोटों पर उठे सवाल के बाद अब 500 ये नोट भी हैरत में डाल रहे हैं। साथ ही नोट के बाकी सभी फीचर्स असली हैं और सिर्फ नीचे के नम्बरों की स्याही और ऊपर के नम्बर की दूसरी तरफ दिखने वाली प्रिंटिंग का अंतर है। बाकी ये नोट बैंक के ही हैं या फिर कोई दूसरी वजह है, ये तो बैंक के जवाब के बाद ही साफ हो पायेगा।

बहरहाल इन नोटों की असलियत क्या है, यह जांच का विषय है। ये नोट अरमिंदर सिंह ने अपने बैंक से निकाले हैं, लिहाज़ा इन्हें नकली कहना भी अभी जल्दबाजी होगी। अगर ये नोट नकली नहीं हैं तो क्या यह प्रिंटिंग की गलती है? क्या नोट छापने की जल्दबाजी में ऐसी बड़ी गलतियां हो रही हैं? इतनी बड़ी तादाद में यदि ऐसी गलती होती है तो यह भी कम चौकाने वाली बात नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *