Even Aamir’s Dangal failed to revive historic Regal Cinema during note ban

regalNew Delhi’s iconic Regal Cinema, an 84-year-old movie theatre that has survived high tax on entertainment, competition from multiplexes and piracy, may finally have to shut down due to Prime Minister Narendra Modi’s demonetisation drive.

According to the Hindustan Times, Aamir Khan-starrer Dangal, scheduled for release on Friday, could be the last movie to be screened at the iconic theatre.

“Business has been down for a decade, but last month’s collections were the worst. We got just Rs 4 lakh from Befikre (a romantic comedy starring Ranveer Singh and Vaani Kapoor) while we expected at least Rs 10 lakh. We are unable to recover even the operating costs. Half the money we get from the tickets goes to the distributor. It costs us over Rs 2 lakh a week to run a show,” Vishal Choudhary, owner of Regal Cinema built at Connaught Place in 1932, told the daily.

houdhary added that the cinema hall has cancelled night shows six times in a month and that Dangal could be the last movie to be screened if this situation continues. The owners are also required to pay 40 percent of the price of the tickets as entertainment tax.

The movie hall is witness to late superstars Raj Kapoor and Nargis coming to attend film premieres.

“We wanted to bring back those days, but now we don’t know how long we will be able to run our business. If a person gets Rs 2,000 after standing for hours in a bank queue, do you think he will spend that money on movies?” Choudhary told the daily.

The owner expressed sorrow over the way governments continue to treat single-screen theatres and said: “For years, we have been seeking permission to convert Regal Cinema into a multiplex. But while several others in the vicinity were allowed to do so, our requests were turned down.”

The first two floors of the Regal Building were sold to Madame Tussauds in 1996 for their famous wax museum. The ground floor still belongs to Choudhary.

Another movie hall Vishal Cineplex, which is the biggest surviving single-screen theatre situated in west Delhi’s Rajouri Garden, “might close anytime” soon if this situation prevails with only 12 to 15 people coming for their night shows.

Out of the seating capacity of 1,400 people, 15 percent of the seats would be occupied before Modi announced his decision to demonetise high-value currency notes, theatre manager SR Talwar told HT adding that bookings have gone down to less than five percent in a month.

नेहरू से अटल तक रीगल सिनेमा में आते थे फिल्में देखने, अब नहीं आते दर्शक!

PM IST facebook  Twitter  google  skype नेहरू से अटल तक रीगल सिनेमा में आते थे फिल्में देखने, अब नहीं आते दर्शक! दिल्ली का 84 साल पुराना रीगल सिनेमा आज अपनी बदहाली पर रो रहा है। जिस रीगल सिनेमा में शोमैन राजकपूर की फिल्मों का प्रीमियर हुआ करता था, बॉलीवुड के तमाम बड़े सितारे यहां अपनी फिल्में रिलीज करते थे, आज वो अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है।

नई दिल्ली। दिल्ली का 84 साल पुराना रीगल सिनेमा आज अपनी बदहाली पर रो रहा है। जिस रीगल सिनेमा में शोमैन राजकपूर की फिल्मों का प्रीमियर हुआ करता था, बॉलीवुड के तमाम बड़े सितारे यहां अपनी फिल्में रिलीज करते थे, आज वो अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहा है। कभी देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु भी यहां फिल्में देखने जाया करते थे। जो रीगल सिनेमा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का पसंदीदा थिएटर हुआ करता था, आज दर्शकों की राह देख रहा है।

मल्टीप्लेक्स के जमाने में सिंगल थिएटर की ओर दर्शकों ने रुख करना छोड़ दिया है जिससे बिजनेस डाउन हो गया है। रही सही कसर नोटबंदी ने पूरी कर दी। पिछले डे़ढ़ महीने से यहां के हालात और भी बदतर हो गए हैं। हालांकि रीगल के मालिक विशाल चौधरी पूरी कोशिश कर रहे हैं कि इसे मल्टीप्लेक्स में तब्दील कर दिया जाए ताकी इस विरासत को बचा लिया जाए। न्यूज 18 इंडिया से खास बातचीत में विशाल चौधरी ने बताया कि हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि इसे मल्टीप्लेक्स में बदल दें।

विशाल ने बताया कि पिछले 10 सालों के रीगल का बिजनेस धीरे-धीरे कम होने लगा था, ऐसा नहीं है कि लोगों ने फिल्में देखना छोड़ दिया, लेकिन दिक्कत ये है कि मल्टीप्लेक्स के जमाने में भला कोई सिंगल स्क्रीन में क्यों फिल्में देखना चाहेगा? वक्त से साथ हर चीज में बदलाव होता है हम भी सरकार से बातचीत कर रहे हैं कि हमें इसे मल्टीप्लेक्स में बदलने की इजाजत मिल जाए तो हम इस ऐतिहासिक धरोहर को बचा पाए।

रीगल के मैनेजर रूप घई ने बताया कि किस तरह पिछले कुछ सालों से रीगल सिनेमा का बिजनेस डाउन हो गया है। एक वक्त था जब यहां फिल्में देखने के लिए लोग लाइन लगाया करते थे, लेकिन अब हालात ऐसे है कि लोग इधर का रूख ही नहीं करते। सलमान, शाहरुख और आमिर खान की फिल्मों के अलावा और किसी स्टार की फिल्में यहां चलती नहीं हैं। बड़ी फिल्में मुश्किल से 4 से 5 लाख की कमाई कर पाती हैं और दूसरी फिल्मों का हाल तो और भी बुरा है।

regal-3

रीगल में कई ऐसे कर्मचारी हैं जो पिछले 30-40 सालों से यहां काम कर रहे हैं। यहां काम करने वाले कर्मचारी अपने पुराने दिनों को याद करते हुए बताते हैं कि कैसे यहां बड़े-बड़े स्टार अपनी फिल्मों के प्रीमियर के लिए आते थे। यहां सबसे ज्यादा फिल्में राजकपूर की रिलीज की गईं। राजकपूर खुद अपनी फिल्मों के प्रीमियर के लिए यहां आते थे और यहां त्यौहार का माहौल हुआ करता था। कर्मचारियों को मिठाई के साथ-साथ बोनस भी मिला करता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *