RSS opposes reservation system once again, to hit BJP in UP polls

VAIDYANew Delhi: RSS has again got itself entangled in the caste quota quagmire. And unfortunately for the BJP, it’s a Bihar redux just ahead of the crucial UP elections next month.

At the Jaipur literature festival on Friday, RSS Prachar Pramukh Dr Manmohan Vaidya was fielding questions from the host as well as the audience when he was asked about Sachar Panel report and reservations for minorities to end socio-economic inequality.

“Aarakshan ka vishay bharat mein anusuchit jati aur anusuchit janajati ke lihaaj se alag sandarbh mein hai. Jinhe lambe samay tak suvidhaon se vanchit rakha gaya hai (Reservations for SC/ST was introduced in a different context. It was provided for in the Constitution to remedy the historical injustice done to them),” said Vaidya.

ALSO READ: RSS Stung Again by Reservation Row As Uttar Pradesh Heads to Polls

The media in-charge then went on to quote Dr Ambedkar while answering the question.

“Bhimrao Ambedkar ne bhi kaha hai ki kisi bhi rashtra mein arakshan ka pravdhan hamesha ke liye rehna acha nahin hai. Jald se jald iski avashakta hai nirast hokar apko saman avasar dene ka samay ana chahiye. Ye bhi Ambedkar ne kaha hai (Even Ambedkar has said its continuance in perpetuity is not good. There should be a time limit to it),” he said.

Dr Vaidya clarified later that that his comments were distorted by the media. They were made, he asserted, entirely in the context of Muslim reservations. SC/ST reservations should continue he reiterated.

This quota row has returned to haunt the BJP when it faces one of the toughest political tests in UP. For a party which is attempting to shore up its electoral prospects in the state by rebuilding an upper caste and non-Yadav OBC alliance, this could give enough ammunition to the opponents to question BJP’s social justice credentials.

 

In less than a couple of hours the news trended on the social media, RJD chief Lalu Yadav had dusted out MS Golwalkar’s bunch of thoughts. In his Patna residence he was questioning BJP’s commitment to reservations. Something he did almost every-day without fail in the run up to Bihar polls in 2015. RSS chief Mohan Bhagwat’s interview to the Sangh mouthpiece had raised a storm on reservations and Lalu milked it to power after a decade in opposition.

It’s a controversy — or even the one triggered by Bhagwat’s interview — which the BJP and the RSS could have done without. The problem is in the timing as it comes just before UP polls.

Interestingly, both have worked overtime in the last 18 months at image makeover on many fronts. Both symbolic and otherwise. The main pavilion at the RSS annual general body meeting at Nagaur in Rajasthan last year was named after Dr Ambedkar. Prime Minister Modi has named the new app to usher in cashless economy after Ambedkar. It’s a long list.

Interestingly, more than 50% candidates in BJP’s list are come from the OBC communities.

Reservations, both for SC/ST and OBCs is a sensitive issue.

Not long back, we have seen its impact in the Hindi heartland.

आरएसएस के प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने यूपी चुनाव से ठीक पहले आरक्षण पर एक बड़ा बयान दिया है. मनमोहन वैद्य ने आज जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में कहा है कि आरक्षण का इतने सालों में कोई फायदा नहीं हुआ है. ऐसे में इस पर अब विचार करना चाहिए. सबको अब समान रूप से अधिकार मिलने चाहिए. वहीं लालू यादव ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि आरक्षण किसी की खैरात नहीं है.

मनमोहन वैद्य ने कहा कि आरक्षण पर एक नये सिरे से विचार करना चाहिए और सभी समुदाय के लिए करना चाहिए. आजादी के बाद हमारा समाज इतना पिछड़ा क्यों है और गरीब, अशिक्षित क्यों है तो इसको देखना चाहिए.

एससी और एसटी के लिए अलग से अधिकार दिए गये हैं. उनको बहुत समय से संसाधनों से दूर रखा गया है. इसलिए उनको शक्ति देने के लिए और समान अवसर देने के लिए इस आरक्षण की व्यवस्था की गई है. डा अंबेडकर ने भी कहा था कि आरक्षण बहुत दिनों तक देना सही नहीं है. ये अलगाववाद को बढ़ावा देने की बात है. तो सबको समान अवसर एक समय के बाद मिलना चाहिए, ये हमारा सोचना है।

#WATCH Senior RSS Leader Manmohan Vaidya speaks on reservations pic.twitter.com/dfqUNFaFwv

— ANI (@ANI_news) January 20, 2017

आरएसएस के प्रचार प्रमुख ने कहा कि भारत में हमेशा स्टेट सेक्यूलर ही रहा है. राजा ने कभी भारत में धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं किया है. संविधान सभा के समय सबको इस शब्द के बारे में पता था. उन लोगों ने इस पर चर्चा की और उस पर अमल किया गया. संविधान में तथाकथित अल्पसंख्यकों को बहुत सारे अधिकार दिए गये हैं, जिसकी आवश्यकता नहीं थी. सबको समान रूप से अधिकार मिलने की आवश्यकता है. हिंदुत्व में ऐसी परम्परा नहीं रही है. सबको समान रूप में रखना चाहिए. इससे सभी को समान अवसर नहीं मिल पा रहे हैं. इसलिए इसको फिर से देखने की जरूरत है. हालांकि बाद में मनमोहन वैद्य ने सफाई दी कि पिछड़े लोगों को आगे लाने के लिए किसी व्यवस्था की जरूरत हो तो होनी चाहिए, लेकिन इतने सालों में भी आरक्षण से फायदा नहीं  हुआ  तो इसकी भी  जांच होनी चाहिए.  वैद्य ने कहा कि उनके बयान का यूपी चुनाव पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. वहीं लालू यादव ने आरएसएस के इस बयान पर कहा कि आरक्षण संविधान प्रदत्त अधिकार है. यह आरएसएस जैसे जातिवादी संगठन की खैरात नहीं.

Follow

Lalu Prasad Yadav ✔ @laluprasadrjd

आरक्षण संविधान प्रदत्त अधिकार है।RSS जैसे जातिवादी संगठन की खैरात नहीं।इसे छिनने की बात करने वालों को औकात में लाना कमेरे वर्गों को आता है

6:58 PM – 20 Jan 2017

313 313 Retweets   579 579 likes

Follow

Lalu Prasad Yadav ✔ @laluprasadrjd

RSS पहले अपने घर में लागू 100फीसदी आरक्षण की समीक्षा करें।कोई गैर-स्वर्ण पिछड़ा/दलित व महिला आजतक संघ प्रमुख क्यों नही बने है? बात करते है

7:05 PM – 20 Jan 2017

485 485 Retweets   733 733 likes

Follow

Lalu Prasad Yadav ✔ @laluprasadrjd

मोदी जी आपके RSS प्रवक्ता आरक्षण पर फिर अंट-शंट बके है। बिहार में रगड़-रगड़ के धोया,शायद कुछ धुलाई बाकी रह गई थी जो अब यूपी जमकर करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *