Film on Indian lost child runs for Oscar: Adopted and raised by Australian couple

filmThe Oscar race is intensifying, but a handful of films appear to have established themselves as frontrunners for nominations. One of the pictures with the strongest odds of an Oscar nod for Best Picture is Lion. The true story of Saroo Brierley’s search for the home he lost as a child in India, Lion features excellent performances, directing, screenwriting, and cinematography that are all contenders for award nominations and make it one of the year’s greatest films.

I had the honor of speaking with Lion director Garth Davis about bringing such a remarkable story to life on the big screen. Read on for our full discussion!

One of the things that jumped out at me is that it’s such an immersive film. There are no big action moments or CGI moments, but it’s so cinematic despite being such a simple and intimate film. You worked on the series Top of the Lake, which was widely acclaimed, so can you talk about shifting from directing for TV to directing for film, and particularly what sensibilities you brought to bear on making a personal, intimate human drama into such expansive storytelling?

Well, Top of the Lake is a TV series, as you know, so in terms of differences TV is like a novel. You have a lot of time to meander off the storylines and explore characters. So it was very free in that way. But making a film was doing something that’s more complete, like a poem. I really enjoyed it. It was something that was really contained — and in some ways [it was] more liberating to do something that was like this beautiful form.

In terms of Lion with its immersive experience, it had two things for me. It was like yin and yang, like this external sense of odyssey and this incredible epic of a little boy from a village ending up in one of the greatest stories. But it was deeply emotional. I think there’s so much emotional landscape in this film, and that’s what’s really the great adventure in the story. One of the things that really struck me about the story is, yes it’s a miracle how it plays out; but what’s behind the miracle, when I started digging in, is that everybody had such a love for each other and such a yearning. There’s a spirituality sitting under it, and I realized that was engineering the miracles. Through everyone’s hopes and love, these things can happen.

So I thought that’s what’s lying under the surface of this film. And you’re right, there’s something very simple running through the top layer of the film, and then some very deep emotional work going on underneath.

Another of the many amazing, impressive things about the movie is that there’s so much sense of hope and constant love in people, who are refusing to give up on one another and who support one another, even while there’s obviously so much tragedy. It’s a journey filled with loss, and each loss propelled them into another realm of hope and love to carry through that tragedy. Balancing that had to be [difficult], I can imagine how hard it was to take something that — in the hands of a lesser storyteller — could easily become overwrought melodrama, and never allowing it to descend into that. There was such a balance, like the kind you find in real life—

It was totally real life. I think the great teachers were the mothers of the real story. I met Saroo’s biological mother in India, and meeting her gives you a taste of her personality and how she handled the situation — and also Sue, the adoptive mother.

इस लड़के की Real life पर बनी हॉलीवुड मूवी, यूं बिछड़कर पहुंचा था ऑस्ट्रेलिया

इंदौर/खंडवा.कभी रेल की बोगियों में भीख मांगकर अपना और परिवार का पेट पलने वाला शेरू आज ऑस्ट्रेलिया का सफल युवा उद्यमी है। खंडवा के शेरू से तस्मानिया (आस्ट्रेलिया) के सारू ब्रायली बनने के 35 साल बाद शेरू के संघर्ष की कहानी अब हॉलीवुड मूवी लॉयन के रूप में सामने है। आस्ट्रेलियामें 19 जनवरी और इंग्लैंड में 21 जनवरी को रिलीज के बाद ही इसने धूम मच दी है।

– गोल्डन ग्लोब अवार्डके बाद फिल्म विशेषज्ञों की राय है कि यह ऑस्कर अवार्ड के लिए दावेदारी करेगी।

– 24 फरवरी को भारत में रिलीज होने वाली इस फिल्म का निर्देशन गर्थ डेविस ने किया है।

– स्लम डॉग मिलेनियर से मशहूर हुए भारतीय अभिनेता देव पटेल ने सारू के युवा अवस्था का किरदार निभाया है। वहीं निकोल किडमैन मां और रूनी मारा उनकी अभिनेत्री के रूप में हैं।

मां की तमन्ना बेटे से पहली बार मिलने का सीन देखूं

– लॉयन पर सारू की गणेश तलाई निवासी मां फातिमा का कहना है कि यूं तो उन्होंने 65 साल में आज तक कभी कोई फिल्म नहीं देखी। पर इसे पूरे मौहल्ले और रिश्तेदारों के साथ थिएटर में जाकर देखेंगी।

– वे देखना चाहती हैं कि 27 साल बाद 2011 में शेरू के खंडवा लौटने का दृश्य कैसे फिल्माया गया।

– आज भी झाड़ू पौंछा कर पेट पालने वाली मां फातिमा का कहना है कि आज बेटा खुश है, अपनी जिंदगी जी रहा है। उन्हें इससे ज्यादा कुछ नहीं चाहिए।

– सारू अपनी मां को ढूंढने के बाद से 15 बार भारत आ चुका है, अब फरवरी में फिल्म के रिलीज के समय उसके आने की संभावना है।

गूगल मैप से मां को तलाश कर खंडवा पहुंचता है शेरू

– फिल्म में सारू के खंडवा से ऑस्ट्रेलिया तक पहुंचने और मां को तलाशने की कहानी है, जो घर से हजारों किमी दूर कोलकाता की गलियों में खो गया।

– ऑस्ट्रेलिया में एक दंपती के उसे गोद लेने से पहले उसे बेहद मुश्किल परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है।

– सालों बाद गूगल मैप और फेसबुक ग्रुप्स की मदद से वे अपने खोए हुए परिवार तक खंडवा पहुंचे।

– फिल्म में खंडवा के गणेश तलाई स्थित उसका घर, रेलवे स्टेशन, आबना नदी पर बना स्टॉप डेम, शमशान घाट, मीटरगेज ट्रैक सहित बलवाड़ी-पातालपानी के घाट सेक्शन के दृश्य भी हैं। इसका जिक्र सारू ने किताब ए लांग वे होम में भी किया था।

खंडवा का शेरू, ऑस्ट्रेलिया में बना सारू

– गणेश तलाई में रहने वाला शेरू पिता मौसीन खान 5 साल की उम्र में परिवार से बिछड़ गया था।

– 1988 में खंडवा रेलवे स्टेशन से ट्रेन में बड़े भाई गुड्डू के साथ बुरहानपुर गया, वहां आंख लगने से कोलकाता पहुंच गया।

– यहां लावारिस भटकते देख स्वयंसेवी संस्था ने उसे बाल आश्रम में रखा। यहीं से उसे ऑस्ट्रेलिया के परिवार को गोद दे दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *