Another BSF Jawan hits social media, accuses officers of selling liquor of their quota

BSFThe Government’s summary dismissal of charges of corruption levelled by several jawans of BSF, CRPF, CISF and the Army, and the Army chief’s warning seem to have had no effect if two more videos that surfaced on Republic Day are any indication.

Even as Prime Minister Narendra Modi was paying tributes to soldiers who laid down their lives at the Amar Jawan Jyoti near India Gate in the national capital, Sarmila Yadav, the wife of Tej Bahadur Yadav, whose videos on Facebook had gone viral, and another BSF Jawan Navratan Choudhary took to social media to vent their grievances.

Choudhary, posted somewhere in Gujarat, accused BSF officers of selling liquor meant for jawans to civilians.

“The Prime Minister boasts that he takes action on even silent complaints against corruption. Here I am registering my complaint against senior officers openly,” he can be heard saying in the video.

“…Senior officers of BSF’s 150th battalion stationed in Gujarat, have been selling liquor meant for jawans to civilians,” he alleged, and in support of his contention posted a video in which a man in civilian clothes is seen carrying liquor bottles. While the video alone is not sufficient evidence to substantiate his charges, he goes on to complain that jawans had no freedom to raise their voice against corruption.

A series of approving comments follow on his Facebook wall. Says one Dinesh Mehta, “Gandhidham is a hub of corruption when it comes to selling liquor by BSF personnel. Most of the liquor is sold to civilians. Our commandant also used to sell liquor outside when our unit was at Gandhidham from 2012 to 2016 which I reported but ended up with 60 days of rigorous imprisonment in custody.”

BSF JAWAN TEJ BAHADUR YADAV’S WIFE POSTS AUDIO SAYING HE IS DEPRESSED

On the same day, Sarmila Yadav, the wife of Tej Bahadur Yadav from BSF’s 29th Battalion, posted a video made during a telephone conversation she had with her husband. He was depressed, she alleged, because on Republic Day he was not allowed to move out of the barracks. Sarmila Yadav said that if authorities did not release him under VRS and if the PM failed to order an inquiry into his allegations by the NIA or CBI, he would sit on an indefinite fast.

A visibly worried Sarmila Yadav goes on to allege that her husband had been forced to apply for VRS but has now been detained after he publicly accused a senior officer of selling provisions meant for jawans in the market. While both the officer and Yadav were posted out, the MHA had rubbished the allegation.

She recalled, “When I asked him about Republic Day celebrations over there, he said: ‘I’ve been serving in BSF for the past 20 years. But today [for the first time on Republic Day] I spent my day sitting in a corner silently’”.

“All of us now want my husband to return home,” she said and added, “If my husband is not given the benefit of VRS, he would go for hunger strike from second onwards. [February 2]. I request citizens of my country and the Prime Minister with folded hands to support and help my husband.”

अफसर हमारे पैसे से शराब खरीदकर बाहर बेचते हैं: BSF जवान का VIDEO वायरल

नवरत्न चौधरी कच्छ के गांधीधाम में 150 बटालियन में तैनात हैं। (फाइल)

नई दिल्ली.बीएसएफ में कथित तौर पर खराब क्वालिटी का खाना मिलने और भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद अब कैंप से अवैध शराब बेचे जाने का वीडियो वायरल हो रहा है। इसे कच्छ में तैनात 150 बटालियन के जवान नवरत्न चौधरी ने 26 जनवरी को फेसबुक पर अपलोड किया है। अपने मैजेस के साथ जवान ने दूसरा वीडियो भी अपलोड किया है। जिसमें कैंप से बाहर लोगों को शराब बेचने का आरोप लगाया है। नवरत्न ने बीएसएफ में खुलेआम भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। साथ ही नरेंद्र मोदी और डायरेक्टर जनरल से कार्रवाई की मांग की है। बता दें कि गुजरात में शराब बैन है। जवान ने तीन मिनट का वीडियो जारी किया…

– करीब तीन मिनट के वीडियो में नवरत्न ने कहा, ”सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की बहुत शुभकामनाएं। बीएसएफ के जवानों के लिए तो मैं वेदना ही व्यक्त कर सकता हूं, क्योंकि हम आज भी गुलामी में जी रहे हैं।”

– ” हमारे लिए कोई लोकतंत्र नहीं है, हम आज भी उसी अंग्रेजी हुकूमत के तानाशाही नियमों में जीने को मजबूर हैं।”

– ” देश का संविधान अपने नागरिकों को समानता का अधिकार देता है। हम उससे भी वंचित हैं। हम अपने लिए दो वक्त का अच्छा खाना नहीं मांग सकते हैं। गलती से किसी ने ऐसा कह दिया तो उसे ऐसे ट्रीट किया जाता है। जैसे उसने कोई बहुत बड़ा अपराध कर हो। खाना नहीं कोई बहुत बड़ी विरासत मांग ली है।”

शिकायत करने पर मेरा ट्रांसफर किया, लेकिन मनोबल नहीं तोड़ पाए

– नवरत्न ने कहा, ”सभी देश से भ्रष्टाचार खत्म करना चाहते हैं। लेकिन कोई उसे खत्म करने के लिए आगे नहीं आता। इन भ्रष्टाचारियों का कुछ नहीं होता। हर बार शिकायत करने वालों को ही सजा मिलती है। जितनी बार मैंने शिकायत की हर बार नई जगह ट्रांसफर कर दिया, लेकिन ये लोग मेरा मनोबल नहीं तोड़ पाए।”

– ” इस बार तो सारी हदें पार कर दीं। मैं कह सकता हूं कि बीएसएफ में आप खुलेआम भ्रष्टाचार कर सकते हो, लेकिन अगर शिकायत की तो बहुत बड़ा अपराध कर दिया।”

– ”ये भ्रष्टाचारी बीएसएफ की मेस तक को नहीं छोड़ते। कुछ भी सामान खरीदने हों, ये निकाल लेते हैं और गड़बड़ी करते हैं। यह बात हर बीएसएफ का जवान कह रहा है। जवानों को इन्होंने एटीएम बना रखा है। शिकायत करने वाले हमेशा टारगेट बनते हैं। एक तरफा जांच होती है और भ्रष्टाचारी साफ बच निकलते हैं।”

हमारे पैसों से शराब खरीदकर बाहरियों को बेंचते हैं अफसर

– जवान ने कहा, ”150 बटालियन में तो खुलेआम भ्रष्टाचार हो रहा है। जवानों के जमा पैसे से शराब खरीदी जा रही है और इसे बाहर बेंचा जाता है।”

– ” मैं इसकी लिखित शिकायत कर चुका हूं। 4 महीने हो गए, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसीलिए मुझे इस तरह आपके सामने आना पड़ रहा है।”

– ” मैं एक और वीडियो अपलोड कर रहा हूं, जिसमें बाहरी शख्स कैंप से शराब लेकर जाता दिख रहा है, देखता हूं कि अब बीएसएफ क्या कार्रवाई करता है। इसके बाद मैं और सबूत दूंगा।”

– ”मैं नरेंद्र मोदी और हमारे डायरेक्टर जनरल से पूछता हूं कि आप कहते हो कि यहां गुप्त शिकायतों पर भी एक्शन लिया जाता है, लेकिन यहां खुलेआम भ्रष्टाचार हो रहा है। शराब बिकने का वीडियो पर कार्रवाई कीजिए। देखता हूं आप क्या करते हो। बाकी मुझे तो देश को दिखाना ही है कि बीएसएफ में क्या होता है। जय हिन्द, जय भारत।”

पिछले दिनों कई वीडियो सामने आए

– साल की शुरुआत में बीएसएफ की 29 बटालियन में तैनात तेज बहादुर यादव का वीडियो वायरल हुआ था। जिसमें उसने कश्मीर में बॉर्डर पोस्ट पर जवानों को खराब क्वालिटी का खाना देने की शिकायत की। इसके बाद जवान को बॉर्डर से हटाकर प्लंबर ड्यूटी में लगा दिया गया था। पीएमओ ने होम मिनिस्ट्री से रिपोर्ट मांगी थी।

– इसके बाद मथुरा के एक जवान का वीडियो सामने आया। जो सीआरपीएफ में बस्तर में तैनात है। जवान ने प्रधानमंत्री से पैरा मिलिट्री को आर्मी जैसी फैसिलिटी देने की मांग की थी। इस पर सीआरपीएफ डीजी ने कहा था कि जवान की शिकायत किसी अफसर के खिलाफ नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *