FIR filed against man for murdering murga (chicken), forensic investigation to be made

chickenAn FIR has been filed against man for murdering murga (chicken) in Korba city of Chhattisgarh state. Post mortem of the chickens has been done and further forensic investigation made be made by sending their viscera to lab.

Accused Laxman Yadav is a labourer while his wife is doing poultry farming. He alleged that his neighbour Raja Yadav killed his chicken, hen and 8 chicks whey they crossed over to his side. They found the chickens dead when they returned to the house in the evening.

Police called accused Raja Yadav who said that the chickens might have died due to eating poisonous fertilizer spread in his field. Police said that further action will be taken after receipt of viscera report.

मुर्गे के मर्डर का आरोप तो करवाना पड़ा पोस्टमार्टम, अब होगी फोरेंसिक जांच

कोरबा. यहां मुर्गे-मुर्गी और उसके आठ चूजों की मौत का मामला पुलिस तक पहुंच गया। पुलिस ने मामले की सुलझाने की कोशिश की तो शिकायतकर्ता भड़क गया। आखिरकार मुर्गे-मुर्गी का पोस्टमार्टम कराना पड़ा और आगे फॉरेंसिक टेस्ट के लिए बिसरा भी रख लिया गया है। जानिए पूरा मामला…

– यह अजीबोगरीब केस शहर के सीएसईबी चौकी में आया। घटना चौकी से एक किलोमीटर दूर मानस नगर में हुई।

– शिकायतकर्ता लक्ष्मण यादव मजदूरी करता है। उसकी पत्नी रागिनी ने मुर्गा-मुर्गी पाल रखा था।

– शिकायत के मुताबिक जो गुरुवार को मुर्गी-मुर्गा व उनके आठ चूजे दाना चुगते हुए पड़ोसी राजा यादव की बाड़ी में चले गए।

– शाम को जब वे लोटे तो उन्हें रोज की तरह उनके बाड़े में डाल दिया गया। लेकिन अगली सुबह सभी मृत मिले।

– लक्ष्मण और रागिनी ने इसके लिए पड़ोसी राजा यादव को जिम्मेदार ठहराया और उस पर जहर देकर मारने का आरोप लगाया।

– आरोप लगाने के बाद दोनों पक्षों में बहस हो गई। इस पर यादव कपल मृत मुर्गी-मुर्गा को लेकर पुलिस चौकी पहुंच गए।

थाने में बुलाकर आरोपी से पूछताछ

– सीएसईबी पुलिस चौकी प्रभारी ग्रहण सिंह राठौर ने यादव दंपति की शिकायत पर राजा को पूछताछ के लिए बुला लिया।

– राजा ने खुद आशंका जताई कि उसने बाड़ी में लगे पौधों को बचाने के लिए जो कीटनाशक का छिड़काव किया है उसका असर मुर्गे-मुर्गियों पर हो गया होगा।

– पुलिस ने बेहद साधारण मामला मानकर दोनों पक्षों को समझाया लेकिन यादव दंपत्ति कार्रवाई पर अड़ गए।

– थक हारकर पुलिस ने मृत मुर्गों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए पशु चिकित्सालय भेजा।

– पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत कारण कारण स्पष्ट नहीं हो पाया तो फोरेंसिक जांच के लिए बिसरा प्रिजर्व कर लिया गया।

नेतागीरी में मामला हुआ हाईप्रोफाइल

– मुर्गों की मौत का यह मामला आपसी समझौते से निपटने की स्थिति में था लेकिन यादव दंपत्ति के कुछ परिचितों ने नेतागीरी की।

– इससे कई हाईप्रोफाइल फोन आने लगे और मामला उलझ गया। पुलिस सुबह से शाम तक इस कार्रवाई में उलझी रही।

– पुलिस अब मुर्गे-मुर्गी के बिसरा जांच कराने को लेकर परेशान है।

– चोकी प्रभारी ग्रहण सिंह राठौर का कहना है कि फोरेंसिक जांच में जो रिपोर्ट आएगी उसके अनुसार एक्शन लिया जाएगा।

जब बकरी को किया गया था ‘गिरफ्तार’

– एक साल पहले कोरिया जिले के जनकपुर में एक मजिस्ट्रेट के बंगले में घुसकर बकरी पेड़ की पत्तियां खा गई थी।

– पुलिस ने बकरी को हिरासत में लेकर मालिक को तलब किया था। मामला चर्चित रहा था।

– कोरबा की घटना ने उस केस की याद ताजा करा दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *