BJP leader Dhruv Saxena arrested for spying for Pakistan’s ISI

iSIBhopal:  The Anti Terrorist Squad (ATS) of Madhya Pradesh police has arrested 11 persons for allegedly supplying information to Pakistan’s spy agency ISI. According to Congress leader Digvijaya Singh, there is no Muslim among arrested spies. One of them Dhruv Saxena who is a member of BJP’s IT Cell.

ATS chief Sanjiv Shami talking to newsmen in Bhopal on Thursday said that the espionage racket was handled from Paksitan through a private telephone exchange, which could have also been used for transferring Hawala money and lottery fraud.

“Five persons from Gwalior, three from Bhopal, two from Jabalpur and one from Satna has been arrested in connection with the spying,” said Shami adding that the action was carried out in cooperation with central investigative agencies, J&K intelligence and agencies from UP.

Dhruv SaxenaOne of the accused arrested from Gwalior is relative of BJP corporator.

The ATS chief informed that RS Pura police station in Jammu had last year arrested Satwindar and Dadu on charges of spying for Pakistani handlers. The duo used to pass on information of strategic camps, bridges, movement of army and central forces to Pakistan based handlers.

The subsequent probe revealed that the two received money from a Satna (Madhya Pradesh) based man Balram, who was handling multiple bank accounts under fictitious names.

Balram used to receive money from private telephone exchanges being operated from multiple places and calls made thorough these exchanges hid the identities of the callers and showed sim card names registered on forged names and addresses.

“These exchanges helped Pak handlers in getting in touch with their Indian sources and also carrying out crimes like lottery fraud,” said Shami.

Several exchanges, sim box, hundreds of sim cards have been recovered in the raid.

The arrested accused, Jitendra Thakur and Kush Pandit, used to operate private exchanges which were established in connivance with telecom sector staff, officers said Shami. Jitendra is brother-in-law of Gwalior based BJP corporator.

The accused have been charged with treason, violation of Telegraph act and others relevant acts.

IB has sounded an alert for defence manufacturing establishments in Jabalpur following arrest of two persons from the city in connection with espionage racket.

अरेस्ट हुए ISI एजेंट्स में कोई मुस्लिम नहीं, एक आरोपी BJP का मेंबर :दिग्विजय

भोपाल. ATS की गिरफ्त में आए ISI के 11 कथित जासूसों में से एक ध्रुव सक्सेना का BJP कनेक्शन निकलने के बाद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया- भोपाल में पकड़े गए ISI एजेंटों में एक भी मुसलमान नहीं है। उनमें एक भाजपा का सदस्य है। मोदी भक्तों कुछ सोचो!’ फेसबुक पर ध्रुव ने मेयर सहित कई नेताओं के साथ अपने फोटो शेयर किए हैं। बता दें कि मध्य प्रदेश एटीएस ने आईएसआई एजेंटों के एक नेटवर्क को पकड़ा है। आरोपियों से तीन हजार से ज्यादा सिम कार्ड, 50 मोबाइल फोन, 35 सिम बॉक्स जब्त किए गए हैं। इनसे पूछताछ जारी है। कांग्रेस ने उठाया मुद्दा…

यूं गर्माई राजनीति

– प्रदेश कांग्रेस स्पोक्सपर्सन केके मिश्रा ने दावा किया कि एक आरोपी ध्रुव सक्सेना ‘भारतीय जनता युवा मोर्चा’ के आईटी सेल का मेंबर है।

– शुक्रवार को पुलिस ध्रुव के न्यू मिनाल स्थित घर पहुंची। वहां ताला लगा था। टीम दरवाजा तोड़कर अंदर गई। वहां से कई चीजें जब्त की गई हैं।

– ध्रुव ने अपनी फेसबुक प्रोफाइल में सीएम और मेयर सहित कई बड़े नेताओं के साथ अपने फोटो शेयर किए हैं। बड़े नेताओं के बर्थडे पर ध्रुव पोस्टर-बैनर भी लगवाता था।

ध्रुव की मदद ली लेकिन वो मेंबर नहीं

– युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष अंशुल तिवारी ने कहा- ध्रुव हमारे मेंबर नहीं है। आईटी सेल में उसकी मदद जरूर ली गई है।

– कांग्रेस के स्टेट चीफ अरुण यादव ने मामले की जांच CBI से कराने की मांग की है। इसके जवाब में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने दो टूक कहा कि, वे ध्रुव को नहीं जानते और न ही उसका पार्टी से कोई संबंध है।

बलराम है सरगना

– एजेंटों का सरगना बलराम है। वो सतना का रहने वाला है और हर हाल में पैसा कमाने की प्लानिंग करता रहता था। इसी बीच वह ISI के टच में आया।

– दुबई में उसने ISI से ट्रेनिंग ली। भारत आकर नेटवर्क फैलाया। बताया जाता है कि उसने हवाला का सहारा भी लिया। बलराम सिर्फ 10th पास है। पैसा कमाने के लिए वो साइबर फ्रॉड, लॉटरी और ठगी जैसे काम करने लगा।

– पुलिस सूत्रों के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर से लेकर देशभर में उसने 100 से ज्यादा बैंक अकाउंट खुलवा रखे थे।

कैसे खुला राज

– ATS ने प्रदेश के 11 जासूसों को हिरासत में लिया है। इनमें ग्वालियर से 5, भोपाल से 3, जबलपुर से 2 और सतना से 1 व्यक्ति शामिल हैं। इनमें से छह को गुरुवार की देर शाम भोपाल कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लिया गया है।

– एक आरोपी ग्वालियर से भाजपा पार्षद का रिश्तेदार है। आरोपियों से तीन हजार से ज्यादा सिम कार्ड, 50 मोबाइल फोन, 35 सिम बॉक्स जब्त हुए हैं। -इसके अलावा फर्जी नाम पते पर खोले गए सैंकड़ों बैंक खातों की भी जानकारी मिली है। प्रदेश में आईएसआई के नेटवर्क के खिलाफ की गई ये अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है।

– एटीएस आईजी संजीव शमी ने बताया कि पिछले साल नवंबर में जम्मू-कश्मीर के आरएसपुरा से सतविंदर सिंह और दादू नामक दो आतंकियों की गिरफ्तारी हुई थी।

-इन्होंने कबूल किया था कि मध्य प्रदेश से इन्हें सेना से जुड़ी तमाम जानकारियां और मदद मिला करती थीं। इसके लिए इन्हें मोटी रकम दी जाती थी, जो सतना में रहने वाले बलराम के खाते में पाकिस्तानी हेंडलर्स ट्रांसफर करते थे।

-सतविंदर पाकिस्तानी हैंडलर्स के कहने पर सैन्य सूचनाएं जुटाता था। पुल, सेना के कैंप की फोटो खुफिया तरीके से लेता था। इसके अलावा केंद्रीय सुरक्षा बलों के मूवमेंट और वाहनों की जानकारी भी जुटाई जा रही थी। बलराम ने अलग-अलग बैंकों में खाते खोल रखे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *