Businessman’s wife and daughter in law shot dead in Jalandhar, son came out shouting from house

murderLATEST

ACCUSED PARAMJEET GOT THEM KILLED BY SUPARI KILLERS SO THAT HE CAN LIVE WITH HIS GF

JALANDHAR: Wife and daughter-in-law of a fabrication factory owner and a family friend were shot dead in their house by unidentified persons in Jalandhar’s posh Lajpat Nagar area on Thursday evening.

Family head Jagdish Singh and his son Amarinder Singh were not at home when the incident took place. The motive behind the murders is yet to be ascertained. Police said the incident came to light when Amarinder Singh came home around 5.30pm and rang the bell. As nobody responded, he raised an alarm and broke open the door with the help of neighbours.

accused ParamjeetThey found the bodies of Amarinder’s mother Daljit Kaur, 60, and wife Paramjit Kaur, 40, lying in a pool of blood. Paramjit’s friend Khushwinder Kaur Neetu, 40, a resident of Link Colony, who was a frequent visitor at the house, was lying unconscious. She was taken to a private hospital but succumbed to injuries later.

Forensic experts have examined the house. Cops said the back door was open when they reached the spot. However, no neighbor had heard the gunshots.

Even though garments were pulled out of the almirahs, valuables like jewellery and cash were not missing. “No valuable has been taken away. They were shot from a very close range,” said ACP (Central) Manpreet Singh Dhillon. Cops said a .32 revolver was used in the crime as they found empty shells of the bullets.

Police questioned the family’s maid, Reena, who revealed that there was tension in the family over some issue.

Amarinder told the cops that they earlier owned a petrol pump but that was sold off and the family is now running a factory.

LATEST REPORT IN HINDI

जालंधर.शहर की पॉश कॉलोनी लाजपत नगर में गुरुवार शाम को बिजनेसमैन जगदीश सिंह लूंबा की पत्नी दलजीत कौर, बहू परमजीत कौर और फैमिली फ्रेंड खुशविंदर कौर की गोलियां मार कर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने शुक्रवार को इस मामले में मृतक परमजीत कौर के पति और बिजनेसमैन जगदीश सिंह लूंबा के बेटे अमरिंदर और आरोपी की एक दोस्त युवती को भी हिरासत में लिया है। पुलिस ने प्राथमिक जांच के बाद खुलासा किया कि बेटे ने ही मर्डर करवाया है।भास्कर के रिपोर्टर के सवाल के जवाब के बाद शक के घेरे में आया आरोपी…

Advertisement

– लाजपत नगर में शाम साढ़े 5 बजे उस समय सनसनी फैल गई जब अमरिंदर सिंह उर्फ शंटू ने आकर शोर मचाया कि किसी ने उसकी पत्नी, मां और फैमिली फ्रेंड को किसी ने मार दिया है।
– इसके थोड़ी देर बाद जब भास्कर का रिपोर्टर मौके पर पहुंचा और उसने आरोपी अमरिंदर से पूछा कि मर्डर हुआ है। तुम्हें कैसे पता।
– इस पर वह बोला कि मां की चीखने की आवाज आ रही थी। इसके बाद रिपोर्टर ने यह बात पुलिस कमिश्नर को बता दी।
– यहीं से वह शक के घेरे में आ गया। क्योंकि, मां की मौत वारदात के बाद ही हो चुकी थी।
– इसके बाद जब पुलिस ने घरवालों से अलग-अलग बात की तो पता चला कि अमरिंदर का चरित्र ठीक नहीं।
– हालांकि, अमरिंदर के अन्य महिलाओं से संबंध रहते हैं। यह बात घरवालों को भी पता थी।
– इसी आधार पर जब पुलिस ने जांच शुरू की तो जमशेर गांव की युवती रूबी का नाम सामने आया।
– इसके बाद पुलिस ने रूबी और अमरिंदर दोनों का हिरासत में ले लिया है। अमरिंदर का रूबी से अफेयर की बात सामने आई है।
– पुलिस ने अभी अमरिंदर से पूछताछ नहीं की है, क्योंकि वह चाहते हैं कि पहले मृतकों का शांति पूर्वक अंतिम संस्कार हो जाए।
फैमिलीफ्रेंड को दी दर्दनाक मौत…
– इनकी फैमिली फ्रेंड लिंक कॉलोनी की खुशविंदर कौर को दर्दनाक मौत हो गई।
– कुल सात गोलियां चली। इनमें से तीन गोली मां, तीन आरोपी की पत्नी और एक खुशविंदर उर्फ नीतू को लगी।
– इसके बाद हत्या करने आए लोगों ने नीतू के गले में 16 एमएम का पेचकस गर्दन में घोंप दिया। जो गर्दन में ही फंसा रह गया और उसकी दर्दनाक मौत हो गई।
8 लाख में दी थी सुपारी, सीसीटीवी ठीक करने के बहाने घुसे थे घर में…
– पुलिस की जांच में यह बात सामने आई है कि आरोपी सीसीटीवी ठीक करने के बहाने घर में घुसे थे।
– बताया जा रहा है कि अमरिंदर ने सुपारी देकर यह मर्डर कराया है। ताकि वह रूबी के साथ रह सके।
– जांच में सामने आया है कि पहले 15 लाख में सुपारी दी गई, लेकिन मामला 8 लाख में सेटल हो गया।
– यह बातें रूबी ने पुलिस को बताई हैं। हालांकि, अभी सुपारी किलर गिरफ्त से बाहर हैं।

EARLIER REPORT

हत्यारों ने बिजनेसमैन की पत्नी, बहू को मारी गोलियां, चीखता हुआ बाहर आया बेटा

फिलहाल पुलिस जांच में एक ही हत्यारे द्वारा घटना को अंजाम दिया माना जा रहा है।

जालंधर।यहां दोपहर तीन से पांच बजे के बीच बिजनेसमैन जगदीश सिंह लूंबा की पत्नी, बहू और फैमिली फ्रेंड की गोलियां मार कर हत्या कर दी। ट्रिपल मर्डर में लाइसेंसी पिस्तौल का इस्तेमाल हुआ है। पुलिस को घर से दो चले हुए कारतूस मिले हैं। पुलिस कमिश्नर अर्पित शुक्ला ने कहा- ट्रिपल मर्डर लूट के इरादे से नहीं साजिश के तहत हुआ है। खुशविंदर कौर भी बिजनेसमैन बलजिंदर सिंह की पत्नी है। घर आया तो दरवाजा अंदर से बंद था…

– फिलहाल पुलिस जांच में एक ही हत्यारे द्वारा घटना को अंजाम दिया माना जा रहा है।

– लाजपत नगर में शाम साढ़े 5 बजे उस समय सनसनी फैल गई जब अमरिंदर सिंह उर्फ शंटू ने आकर शोर मचाया कि किसी ने उसकी पत्नी, मां और फैमिली फ्रेंड को किसी ने मार दिया है।

– लोग दौड़ कर अंदर गए। फर्श खून से सना था और कोठी का पिछला दरवाजा खुला था।

– लोग तीनों को उठा कर प्राइवेट अस्पताल में ले गए, मगर खुशविंदर कौर और दलजीत कौर की मौत हो चुकी थी।

– परमजीत कौर पम्मी के सिर में दो गोलियां लगी थीं। रात 9 बजे पम्मी ने अंतिम सांस ली। शंटू ने कहा-वह पिता जगदीश सिंह के साथ मिलकर दो पैट्रोल पंप और मेटल की फैक्टरी चलाते हैं।

– शाम साढ़े पांच बजे घर आया तो दरवाजा अंदर से बंद था। अंदर से चीख की आवाज आ रही थी तो दरवाजा तोड़ कर अंदर दाखिल हुआ।

– अंदर गया तो पत्नी, मां और नीतू जमीन पर पड़ी थीं। उसकी पत्नी से साढ़े 4 बजे अंतिम बार बात हुई थी।

बेटा चीखता रहा, मेरी मम्मी को उठाओ, कोई आगे नहीं आया

– शानजीत सिंह शंटू का बड़ा बेटा है। वह चीखता हुआ सड़क पर आ गया कि उसकी मम्मी अंदर पड़ी है। लोग शान की चीखें सुनकर घरों से बाहर आ गए।

– 108 एबुलेंस आई, मगर कोई मदद के लिए तैयार नहीं था तो एंबुलेंस लौट गई। 6 बजे के करीब पीसीआर पहुंची तो लोगों ने तीनों को उठाकर अस्पताल पहुंचाया।

– शान बोला- वह एपीजे कॉलेज में पढ़ता है। इस बीच नीतू का बेटा अर्शदीप रोता हुआ आया।

– वह अपनी मां को खून से सनी हालत में देख कर यह कहता रहा कि मेरी मम्मी जिंदा है जल्दी अस्पताल ले चलो।

– जैसे ही नीतू को अस्पताल में लेकर गए तो बेटे को पता चला कि मम्मी इस दुनिया में नहीं है तो वह सिर पकड़ कर जमीन पर गुमसुम बैठ गया। उसे लेडी डाक्टर दिलासा दे रही थी।

दलजीत और खुशविंदर उर्फ नीतू ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था

– अस्पताल के डॉक्टर डॉ. अमनप्रीत सिंह ने बताया- जब मरीज हमारे पास लाए गए तो दिलजीत कौर और खुशविंदर कौर की मौत हो चुकी थी।

– इसलिए उनकी सीटी स्कैन या अन्य एग्जामिनेशन नहीं किए गए। दलजीत कौर के सिर में दो गोलियां लगी थीं।

– खुशविंदर कौर को जब गोली मारी गई तो उसने बचने के लिए अपना हाथ आगे किया होगा जिससे उसके हाथ में सुराख हो गया लगता है।

– 45 वर्षीय परमजीत कौर जब लाई गई तब होश में नहीं थी। उसकी आंखों में टॉर्च की रोशनी मारी गई लेकिन उसमें कोई हिलजुल नहीं थी।

– नाक से खून बह रहा था। बीपी और दिल की धड़कन बंद थी। हमने रिवाइव करने की कोशिश की, मरीज को वेंटिलेटर पर रखा लेकिन 8:45 पर उसकी मौत हो गई।

– उसके शरीर पर कुल 6 घाव थे। दो गोलियों के निशान थे। एक गोली माथे के दाईं ओर। यह गोली दिमाग में धंस चुकी थी।

– दूसरी गोली चेहरे की बांई ओर गाल से होते हुए दिमाग में धंसी थी। एक गोली बांई बाजू में लगी थी।

– एक चोट महिला के सिर के दाईं ओर लगी थी जिससे खोपड़ी में फ्रेक्चर आ गया और दिमाग का तरल बाहर निकल गया। महिला के जबड़े को भी बुरी तरह किसी चीज से मारा गया था।

फ्रिज के पीछे टंगी चाबी लेकर पिछला दरवाजा खोलकर भागा हत्यारा, किसी ने नहीं देखा

– लाजपत नगर की कोठी नंबर-141 में दिन के उजाले में शूटर अंदर आया। 3 लेडीज को सात गोलियां मारकर बड़े आराम से लॉबी में पड़ी फ्रिज के पीछे टंगी चाबी निकालकर घर का पिछला वो दरवाजा खोला जो अक्सर बंद रहता था।

– इसी रास्ते से हत्या फरार हुआ है। आशंका है- हत्यारे को घर के हर कोने की जानकारी थी। पुलिस घर के भेदी के एंगल से जांच कर रही है। दो दिन पहले ही कोठी में लगे कैमरे खराब हो गए थे।

क्राइम सीन : पहले पम्मी को मारीं दो गोलियां

– पुलिस मान कर चल रही है कि दर्शना के जाने के बाद ही भेदी हत्यारा कोठी में आया। पम्मी ने दरवाजा खोला।

– हत्यारा जैसे ही पम्मी को शूट करने लगा तो हाथापाई हो गई। पम्मी के सिर में दो गोलियां मारी गईं।

– नीतू तब कुर्सी पर बैठी होगी। जैसे ही वह उठी तो हत्यारे ने उसे गोलियां मारी। दलजीत कौर तब घर में रखे दीवान पर बैठी होगी।

– अंत में दलजीत कौर को गोलियां मारीं। पोस्टमार्टम से पता चलेगा कि नीतू और दलजीत कौर को कितनी गोलियां मारी गई हैं।

सास-बहू को मारने आया था हत्यारा

– पुलिस यह मान कर चल रही है कि हत्यारे के टारगेट पर बिजनेस मैन जगदीश सिंह की पत्नी दलजीत कौर (60) और बहू परमजीत कौर पम्मी (45) थी।

– रुटीन में पम्मी से लिंक कॉलोनी की नीतू उर्फ खुशविंदर कौर मिलने आती थी। हत्यारे ने जब घटना को अंजाम दिया तब नीतू भी आई हुई थी।

– कोई सुराग नहीं छूट जाए इस कारण हत्यारे ने नीतू को भी गोली मार दी। उनके पति बलजिंदर सिंह लक्ष्मी सिनेमा के पास ढलाई की फैक्टरी चलाते हैं।

बेटा थार जीप मांग रहा था तो देख कर लौटे थे

– अरमिंदर सिंह शंटू ने कहा-वह फैक्टरी में था। बेटा शानजीत सिंह थार जीप की मांग कर रहा था। इसलिए बेटे की कॉल आई थी।

– उसने कहा था कि वह छोटे भाई मनजीत के साथ कार में अवतार नगर रोड पर कार डीलर के पास आ जाएं। वह फैक्टरी से निकला था।

– यहां पर बेटे को जीप दिखाई थी। घर इस लिए आ गया कि पत्नी ने कॉल की थी कि लंच कर जाएं।

– शंटू बोले वह आम तौर पर लंच फैक्टरी में करता है, मगर वह इसलिए घर आया था।

2 दिन पहले खराब हो गए थे सीसीटीवी कैमरे

– घर में चार नौकरानियां हैं। सभी का काम बांटा हुआ है। रीना बोली कि अढ़ाई बजे काम खत्म करने के बाद उसने भाभी के साथ चाय पी।

– दो और नौकरानियां काम खत्म कर जा चुकी थी। चौथी नौकरानी जिसका भी रीना है, ने कहा- मुझे भाभी ने बताया था- सीसीटीवी कैमरे खराब हो गए हैं।

– शुक्रवार को कोई ठीक करने आएगा। चर्चा रही कि दो दिन पहले दो युवक तार काट कर गए थे, मगर पुष्टि नहीं हो सकी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *