Why Virendra brutally murdered, dragged with vehicle for 80 feet, stabbed till he became dead

MurderPanchkula: Killers crossed all limits of brutalities before murdering 26-year-old Virender Singh Sandhu. They dragged with with vehicle for 80 feet and stabbed till he became dead. The gruesome death of a man has shocked an entire village in Haryana after a mob, allegedly led by the son of a local councillor, barged into his home, dragged him out, beat him up, and dragged him through the streets by his ankle till his face was mutilated beyond recognition, according to several media reports.

The motive for the assault and murder of 26-year-old Virender Singh was not immediately known but police suspected an old tiff between him and Manmeet Singh Waraich, the son of Indian National Lok Dal councillor Gurpreet Kaur Waraich, who allegedly led the mob to Singh’s house on Tuesday night.

“We have registered a case against Waraich and others,” Anil Dhawan, Panchkula’s police chief, told NDTV. The victim’s family and relatives picketed the Chandigarh-Panchkula road in protest. Manpreet and his accomplice Dilpreet were arrested, according to NDTV.

Devinder Kaur, the victim’s mother, told The Indian Express that the mob barged into her house, fired shots in the air, and when Virender went outside to check what the commotion was about, he was immediately set upon by the mob, stabbed with swords, and dragged into a car.

“My son had just finished his dinner when he heard the gunshots and abuses being hurled outside the house. He and his cousin Kulwinder Singh went outside to see what was happening. They grappled with the mob. I tried to intervene but one of them hit me and abducted my son in one of the cars. Kulwinder also ran behind them but failed to catch them,” Devinder told the paper.

There are conflicting accounts of Virender’s death. According to Kulwinder, his cousin was thrown out of the moving car and another car, which was right behind, ran him over and proceeded to drag him a few feet. However NDTV reported that two men from the mob had allegedly sat in one of the car’s trunk and held Virender by his ankles while he was being dragged through the streets.

His mutilated body was later recovered 500 metres from his house in the middle of the road.

Dhawan said six teams were looking for the other culprits and an effort was being made to recover the weapons.

 

वायरल हुई दरिंदगी की फोटोज, गाड़ी से उलटा लटका घसीटा फिर मारते रहे चाकू

पंचकूल। पंचकूल के सकेतड़ी में रहने वाले वीरेंद्र को हत्यारे मॉन्टी और उसके साथियों ने गाड़ी से उलटा लटकाकर सड़क पर करीब 800 मीटर तक घसीटा और ऊपर से उस पर चाकुओं से वार करते रहे। इससे उसकी ऐसी हालत हो गई। कातिलों ने इतनी दरिंदगी दिखाई कि वीरेंद्र की लाश तक पहचाननी मुशिक्ल हो गई। कातिलों के लिए तो सजा-ए-मौत भी कम…

– सकेतड़ी में वीरेंद्र संधू की हत्या के मामले में वीरेंद्र की मां दविंदर कौर का कहना है कि इन कातिलों के लिए तो सजा-ए-मौत भी कम है।

– बुधवार को जब भास्कर ने इस बारे में वीरेंद्र की मां से बात करनी चाही तो पहले तो उनकी स्थिति ही बात करने लायक नहीं थी, लेकिन उन्होंने रोते हुए कह कि इस रसूखदार परिवार ने तो मेरी जिंदगी ही बर्बाद कर दी। अब मैं जीकर क्या करूंगी, जब मेरा इकलौता सहारा ही चला गया।

– आज तक मेरे बेटे ने किसी ने ऊंची आवाज में बात तक नहीं की थी, लेकिन देखो, मेरे बेटे के साथ कितनी दरिंदगी दिखाई गई। ऐसा तो कोई दुश्मन के साथ भी नहीं करता।

परिवार को अभी भी जान का खतरा: अवतार

– वहीं अवतार ने बताया कि हमारे परिवार को अभी भी जान का खतरा है, क्योंकि ये इनेलो पार्टी के नेता हैं। मॉन्टी की मां कुलजीत वड़ैच उसे बचाने के लिए इस केस को एक्सीडेंट बता रही है, जो गलत हैं।

– सबको पता है, पूरा गांव गवाही देने को तैयार है, एक्सीडेंट में भी कोई किसी को इस तरीके से घसीटकर नहीं ले जाता।

– हमें डर है कि ये लोग अभी भी हम पर कहीं कोई अटैक न करवा दें। मेरे परिवार को जान का खतरा है।

– अवतार सिंह ने पहले ही मॉन्टी और उसके सािथयों के खिलाफ पुलिस को शिकायत दी थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

– अपने रसूख का फायदा उठाते हुए इनेलो पार्षद का बेटा मनमीत उर्फ मॉन्टी वड़ैच पहले भी कई लोगों से लड़ाई कर चुका है।

– इसके बाद भी उस पर मामला दर्ज नहीं किया गया। बड़ी बात यह है कि जिन लोगों ने ये मर्डर किया, उनमें से अभी करीब 7-8 लोग फरार हैं।

– बताया गया कि सीआईए की टीमें आरोपियों को पकड़ने के लिए पंजाब में रेड कर रही हैं।

सोशल मीडिया पर वायरल हुई फोटो

– सकेतड़ी में वीरेंद्र को हत्यारों ने जिस दरिंदगी से कत्ल किया, उसका फोटो बुधवार को कई व्हाट्सएप ग्रुप्स पर वायरल हो गया।

– हत्या के खींचा गया वीरेंद्र का फोटो कई व्हाट्सएप ग्रुप्स में डाला गया, जिसमें वीरेंद्र से की गई दरिंदगी साफ नजर आ रही है।

पुलिस बोली-जांच कर रहे हैं

– एमडीसी थाना प्रभारी मोहिंदर सिंह ने बताया कि अभी जांच की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी अभी तक नहीं आई। इस केस में अभी रेड की जा रही है।

– बाकी जांच सीआईए को सौंपी गई है। उधर, सीआईए-1 प्रभारी नरेंद्र कादियान ने बताया कि जांच की जा रही है।

– आरोपियों में से अभी तक तीन को पकड़ लिया गया है। माॅन्टी और हरमन को कोर्ट में पेश कर रिमांड लिया गया है।

यह था मामला

– सोमवार शाम साढ़े 6 बजे मॉन्टी ने अवतार को धमकी दी थी कि वह उसे मारने आ रहा है। रात 8:15 पर मॉन्टी ने 8-10 युवकों के साथ मिलकर सकेतड़ी में अवतार के घर से वीरेंद्र को उठा लिया। फिर उसे गाड़ी के अंदर डाला और खिड़की खोलकर उसे सिर के बल गिरा दिया।

– युवकों ने गाड़ी की स्पीड बढ़ा दी। सड़क पर वीरेंद्र को 800 मीटर दूरी तक घसीटा गया। उसके दांत टूटते गए, आंख-कान छिलते गए। रोड पर खून के निशान की लाइन बनती गई।

पार्षद के प्रेशर में नतमस्तक पुलिस…

अवतार ने बताया कि उसने सेक्टर-5 पुलिस थाने में शिकायत दी थी, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। पार्षद के प्रेशर के चलते पुलिस ने मॉन्टी को थाने में भी नहीं बुलाया। इससे उनके हौसले बुलंद हुए और इसी के चलते सोमवार को उन्होंने वीरेंद्र का मर्डर कर दिया। अगर पुलिस कार्रवाई करती तो शायद मॉन्टी हमला करने के लिए आता ही नहीं।

अब फोन नहीं उठा रहे डीसीपी…

सेक्टर-5 के एसएचओ ललित कुमार ट्रेनिंग पर गए हैं। वहीं, जब डीसीपी अनिल धवन को कॉल की तो उन्होंने फोन नहीं उठाया।

इनेलो पार्षद का बेटा 9 दिन के रिमांड पर…

पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद मॉन्टी और उसकेे दोस्त हरमन को 7 दिन के रिमांड पर लिया है। पुलिस ने एक अन्य आरोपी को पकड़ा है, जिसमें भैंसा टिब्बा निवासी कलक उर्फ त्रिलोक को सेक्टर-19 के रेलवे फाटक से गिरफ्तार किया गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *