Woman shoots husband, packs body in box in car to dispose off but arrested

murderMohali: A woman Seerat Kaur shot dead her husband Ekamdeep Singh Dhillon in  Mohali, Phase-3B. She kept the dead body in BMW car to dispose if off but was arrested before she could do so. However, Seerat Kaur has fled away and is being searched by the police.

The box was very heavy. Seerat Kaur tried to put it in the car but failed. Then she called an auto rickshaw passing by for help. The driver put the box in the car but while returning he noticed that his hands were stained by blood. The auto driver immediately informed the police, who rushed to the place and recovered the box and dead body. But in the meantime, Seerat Kaur managed to escape. However, she was arrested later on.

latest Hindi news

8 लाख की रोलेक्स घड़ी पहनता था पति मृतक एकमदीप सिंह ढिल्लों

चंड़ीगढ़।मोहाली में रविवार सुबह 19 मार्च को सूटकेस में एक लाश मिली थी। यह लाश फेज-3बी 1 की कोठी में 15 दिन पहले किराए पर रहने आए एकम ढिल्लों की थी । जिसे ढिल्लों की पत्नी सीरत दो बाय ढाई फुट के सूटकेस में डालकर ठिकाने लगाने जा रही थी। एकम के पिता जसपाल सिंह का कहना है कि इसी महिला ने मेरे बेटे की हत्या की है जो अब बार-बार बयान बदलकर पुलिस और कोर्ट को गुमराह कर रही है। पिता का ये भी कहना है की मेरे बेटे के पास रुपए की कमी नहीं थी वह 8 लाख की रोलेक्स कंपनी की घड़ी पहनता था। ढाई फुट के सूटकेस में डाली पति की लाश…

जज के सामने महिला बदल रही बार-बार अपना बयान

एकम मर्डर केस में मुख्य आरोपी सीरत को पुलिस ने बुधवार को मोहाली कोर्ट में पेश किया। सीरत ने फिर अपना बयान पलट दिया। कहा कि एकम ने खुद अपने आपको गोली मारी थी। यह सुनकर जज बोले कि पहले उसने कोर्ट में खुद कबूला था कि उसने ही एकम को गोली मारी थी। इसका मतलब वो झूठ बोल रही है। जज ने कहा कि अभी तो सीरत बार-बार अपना बयान बदलेगी। इससे पहले सीरत को दो दिन पहले जब कोर्ट में पेश किया गया था तो उसने कहा था उसने सेल्फ डिफेंस में एकम को गोली मारी थी।

पहनता था 8 लाख की रोलेक्स

एकम के पिता जसपाल सिंह का कहना है कि सीरत पुलिस को गुमराह कर रही है। उसने कहा कि एकम शराब पीकर उसे पीटता था, पैसे मांगता था और प्रॉपर्टी की मांग करता था। जसपाल सिंह ने कहा कि एकम ऐसा शख्स था जिसने अपने करोड़ों रुपए की प्रॉपर्टी सास जसविंदर कौर के नाम करवाई हुई है। यह प्रॉपर्टी मुल्लांपुर व नयागांव के आसपास है। इसके अलावा गुड़गांव में दो 60 लाख के शोरूम खरीदे हुए हैं। वह भी सास व पत्नी के नाम पर है। इन दोनों शोरूम से अभी भी प्रति माह 60 हजार रुपए किराया आता है। जिस शख्स ने अपनी कमाई दूसरे के नाम कर दी हो, वह किसी दूसरे की प्रॉपर्टी क्यों मांगेगा। एकम के छोटे भाई दर्शन ने बताया कि एकम को महंगी घड़ियों, गाड़ी व जूतों का शौक था। उसके पास करीब 8 लाख की रोलेक्स कंपनी की वॉच थी।

सीरत ने पुलिस को खोल के चक्कर में उलझाया:

पूछताछ में पुलिस को सीरत ने बताया था कि उसने गोली मारने के बाद खोल और अपने मोबाइल फोन लखनौर-लांडरां स्थित एक गटर में फेंक दिया था। गत दिवस पुलिस सीरत काे लेकर भी गई थी। लेकिन पुलिस को वहां कुछ नहीं मिला। पुलिस ने बुधवार को फिर से फेज-3बी1 स्थित एकम के घर की सर्च की। जहां से पुलिस को एक टेबल के नीचे छुपाया हुआ गोली का खोल मिला है। इसके अलावा एकम के सिर से पार होने के बाद जिस दीवार में गोली लगी पुलिस ने उसको भी मार्क किया है।

घड़ी की सुईयां रुकी रात 1 बजकर 44 मिनट पर

earlier news

माेहाली में घर के बाहर रविवार सुबह सूटकेस में एक लाश मिली। लाश थी इसी घर में 15 दिन पहले किराए पर रहने आए एकम ढिल्लों की। पहले उससे मारपीट की गई फिर जबरन बाथरूम ले जाकर गोली मार दी गई। 6 फीट साढ़े 3 इंच के एकम की लाश को दो बाय ढाई फीट के सूटकेस में डालकर उसकी पत्नी सीरत ही ठिकाने लगाने जा रही थी। इस सूटकेस को कार में रखना सीरत के लिए अकेले मुमकिन नहीं था। उसने बाहर खड़े ऑटो ड्राइवर की मदद ली। ऑटो ड्राइवर के हाथ में खून लगा तो उसने शोर मचाया। सीरत ने पहले भाई को किया फोन…

– लाश को छोड़कर भागी सीरत ने पहले भाई को फोन किया। थोड़ी देर एक पार्क में बैठी रही और फिर ब्यूटी पार्लर चली गई। यहां से चंडीगढ़ में रहने वाले अपने दोस्त को फोन किया। तब तक पुलिस फोन को ट्रेस करने लगी थी।

– सीरत उस दोस्त तक पहुंची तो पुलिस ने उसे वहीं पकड़ लिया। वहां से एक प्रॉपर्टी डीलर की कार में उसे क्राइमब्रांच लाया गया। सीरत को मीडिया से बचाते हुए अंधेरा होने के बाद थाने लाए।

– थाने की लाइटें बंद कर दी गईं। सीआईए इंचार्ज अतुल सोनी, डीएसपी सिटी-1 आलम विजय व एसपी सिटी-1 परमिंदर सिंह ने यहां उससे पूछताछ की।

– सीरत सूटकेस छोड़कर भाग निकली और ऑटोवाले ने पुलिस बुला ली। देर शाम सीरत को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। हत्या के पीछे लव ट्रेंगल बताया जा रहा है। सीरत की दोस्ती अपने भाई विनय प्रताप बराड़ के दोस्त से थी। इसी चक्कर में सीरत ने विनय और उसके दोस्त के साथ मिलकर पति को रास्ते से हटा दिया।

– एकम के हत्या की प्लानिंग हो रही है इसकी जानकारी सीरत की मां जसविंदर कौर को भी थी। इसीलिए पुलिस ने एफआईआर में सीरत, विनय, उसके दोस्त और जसविंदर कौर के खिलाफ केस दर्ज किया है।

– एकम पर गोली सीरत के इस दोस्त ने ही दागी। रविवार तड़के इस घर में ही रिवॉल्वर से दो गोलियां दागी गईं, एक एकम के कान के पास लगी, दूसरी रिवॉल्वर में ही फंसी रह गई।

– आरोपी शनिवार रात से ही एकम को खत्म करने की प्लानिंग करके इसी घर में मौजूद थे। एकम देर रात घर आया। पहले उससे मारपीट की गई फिर जबरन बाथरूम ले जाकर गोली मार दी गई। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। सीरत के मामा अजीतइंद्र सिंह मोफर कांग्रेसी नेता हैं।

कार की चाबी गुम होने के कारण पकड़ाए

– कत्ल के बाद बाथरूम की फर्श व दीवारों, सीढ़ियों से खून के धब्बे मिटाए गए। चूक हुई हड़बड़ाहट में कार की चाबी गुम होने से। एकम की लाश को सूटकेस में पैक करने के बाद सीरत नीचे गई और कार को खोला। फिर ऊपर से व्हील लगे सूटकेस को 16 सीढ़ियों से उतारकर नीचे लाई।

– विनय और उसका दोस्त बाहर इंतजार कर रहे थे, जो सूटकेस नीचे उतरने पर लंबी की तरफ निकले, जहां एक तय जगह पर सीरत से मिलना था और लाश ठिकाने लगानी थी। सूटकेस नीचे उतारने के बाद सीरत यह भूल गई कि कार की चाबी कहां रखी है।

– सीरत ने सोचा पहले डिक्की में सूटकेस को डाल दिया जाए। उससे अकेले सूटकेस उठाकर डिक्की में नहीं रखा गया। बाहर खड़े ऑटो ड्राइवर तूल बहादुर से मदद मांगी।

– बहादुर ने मदद की तो उसके हाथ पर खून लग गया जो सूटकेस से रिस रहा था। बहादुर ने खून के बारे में पूछा तो सीरत ने अपना हाथ दिखाया और कहा कि कट गया है।

– बहादुर का शक दूर नहीं हुआ और उसने फेज 3ए की मार्केट में जाकर वहां खड़ी पीसीआर पार्टी को बता दिया। तब तक सीरत सूटकेस और कार वहीं छोड़कर फरार हो चुकी थी। पुलिस वहां पहुंची तो उन्हें सूटकेस में लाश मिली।

पुलिस से सीरत ने कहा… पति शराब पीकर मारता था, सेल्फ डिफेंस में चलाई गोल

– सीरत ने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की। कहा- पति काम नहीं करता था, बेवजह शक करता था और शराब पीकर पीटता था।

– क्रशर था वह भी बेच दिया, जो पैसे आए वह अपने पिता और भाई के परिवार पर ही लगाने लगा। शनिवार रात एकम नशे में घर आया और पीटने लगा।

– उसने लाइसेंसी रिवॉल्वर से मुझे मारने की कोशिश की। मैंने गन छीनकर उस पर ही गोली चला दी। जब पुलिस ने बताया कि पिस्टल एकम की नहीं है।

– इससे वह फंस गई और सच बता दिया। एकम के भाई ने भी पुलिस को बताया है कि उसने आठ महीने पहले ही छोड़ दी थी शराब।

– सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने बाकी आरोपियों को भी पकड़ लिया है लेकिन गिरफ्तारी नहीं दिखाई है।

पति के रिश्तेदार बोले- लड़की का चाल-चलन ठीक नहीं

थाने में एकम के रिश्तेदारों ने बताया कि सिरत का चाल चलन ठीक नहीं था। यह बात करीब चार महीने पहले एकम को पता चली थी। इससे वह परेशान था। दो दिन पहले ही दोनों बच्चों की कसम दिलाकर सिरत को यह सब छोड़ने को कहा था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *