How BSF Jawan Tej Bahadur died, social media discusses news

Tej BahadurSocial media posts on Wednesday claimed that BSF whistleblower jawan, Tej Bahadur Yadav, had been killed. The Border Security Force (BSF) spokesperson and Yadav’s wife Sarmila denied these rumours to Outlook.

Guess what? It was fake. “He’s hale and hearty,” says the PRO of BSF, Shubhendu Bhardwaj. Tej Bahadur’s wife too has refuted the rumour of his death.

So where did the picture originate? As it turns out, the image is of a CRPF jawan killed in Chattisgarh according to Manatelangana.

He first made news with a video he posted that showed poor quality of food being served. Later, on he went on a hunger strike and it came to light that the soldier has a lot of ‘Facebook friends’ from Pakistan. Even Delhi CM Arvind Kejriwal once tried to defend him.

खाने की शिकायत के बाद चर्चा में आए जवान की मौत का सच, वायरल हुई फोटो

सोशल मीडिया पर वायरल इस मुद्दे पर छिड़ी हुई है बहस।

रेवाड़ी.सेना में खराब खाना परोसने का वीडियो वायरल करके सुर्खियों में आए BSF जवान तेज बहादुर के शहीद होने की खबर सोशल मीडिया पर वायरल है। इससे उनकी पत्नी शर्मिला यादव को काफी धक्का पहुंचा है। बता दें कि जवान का शिकायती वीडियो पिछले दिनों वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट किए गए 4 वीडियो में ये आरोप लगाया था कि बॉर्डर पर जवानों को ठीक से खाना तक नहीं दिया जाता। जानें आखिर क्या है इस मौत का सच…

– सोशल मीडिया पर जवान की मौत की खबर आने के तुरंत बाद तेजबहादुर की पत्नी ने उनसे कॉन्टेक्ट किया तो उन्होंने खुद की पूरी तरह फिट बताया है।

– शर्मिला ने भास्कर को बताया कि वह ठीक हैं और ड्यूटी कर रहे हैं। उनकी मांग है कि इस तरह की गलत अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सरकार कार्रवाई करे।

अाखिर कहां से वायरल हुई ये फर्जी खबर

– बताया जा रहा कि ये फोटो छत्तीसगढ़ में शहीद हुए CRPF जवान की है, जिसकी शक्ल तेजबहादुर से काफी हद तक मिलती है।

– इस वायरल खबर के बारे में आशंका जताई जा रही है कि ये खबर किसी पाकिस्तानी ट्वीटर हैंडल से जनरेट की गई है। हालांकि, इस बात की पुष्टि नहीं हुई है।

– वहीं, BSF ने भी सोशल मीडिया पर जवान तेज बहादुर यादव की मौत की फोटोज को पूरी तरह से खारिज कर दिया है।

– दरअसल सोशल मीडिया पर वायरल हो रही फोटो में तेजबहादुर को चोटें लगी हुईं भी नज़र आ रही हैं।

यहीं नहीं थमा था ये विवाद

– जम्मू-कश्मीर में तैनात BSF के जवान तेज बहादुर का शिकायती वीडियो वायरल होने के बाद उन्हें LOC से शिफ्ट कर प्लम्बर का काम सौंप दिया गया था।

– इसके बाद उसका एक ऑडियो क्लिप वायरल हुआ। इसमें उन्होंने कहा था कि BSF अफसर मुझे डिसिप्लन तोड़ने का आरोपी बता रहे हैं। अगर ऐसा है तो फिर मुझे 14 अवॉर्ड क्यों दिए गए?

– इस पर BSF आईजी डीके उपाध्याय ने बताया कि LOC पर तैनात फोर्स का राशन आर्मी सप्लाई करती है। ऐसे में, उसमें खराबी कैसे हो सकती है?

– BSF आईजी (जम्मू रेंज) डीके उपाध्याय ने इसके जवाब में कहा था कि तेज बहादुर का 2010 में सीनियर अफसर पर बंदूक तानने के लिए कोर्ट मार्शल हुआ था। परिवार का ख्याल करते हुए बर्खास्त करने के बजाय 89 दिन जेल में रखकर नौकरी बहाल कर दी गई। 20 साल के करियर में 4 बार कड़ी सजा मिल चुकी है।

– बता दें कि सीएजी की पिछले साल सामने आई रिपोर्ट में कहा गया था कि आर्मी के सर्वे में खुलासा हुआ कि 68% जवान खाने को असंतोषजनक या फिर लो लेवल का मानते हैं। सैनिकों को लो क्वालिटी का मीट और सब्जी दी जाती है। राशन भी कम होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *