Doctor couple’s decomposed bodies found in courtyard

suicideRaipur: Bodies of doctor couple Dr G.K. Suryawanshi and Dr Usha Suryavanshi were decomposing for last many years in the courtyard of their house in Kawarda city. Suicide note was written on an almirah saying, “tumhen meri zaroorat naheen”. It appears that the doctor murder his wife and then consumed poison to end his own life.

डॉक्टर कपल की आंगन में 3 दिन से सड़ रही थी लाश, अलमारी पर लिखी ये बात

कवर्धा में तीन दिन से घर के आंगन में पड़ी थी डॉक्टर दंपती की लाश। अलमारी पर लिखा मिला सुसाइड नोट।

कवर्धा/रायपुर. कवर्धा जिला अस्पताल में पदस्थ डॉक्टर दंपती की घर के आंगन में मिली लाश मिली है। दुर्गंध आने के बाद पड़ोसियों की नजर पड़ी तो उन्होंने पुलिस को खबर की। मौके पर नजर आ रहा है ये क्राइम सीन…

-जिला अस्पताल में लगभग 11 साल से पदस्थ डॉ. जीके सूर्यवंशी और उनकी पत्नी डॉ. उषा सूर्यवंशी की लाश गुरुवार सुबह उनके मकान में मिली।

-दोनों लाशें पिछले तीन दिनों से घर में ही पड़ी थीं।

-गुरुवार सुबह छत पर चढ़े पड़ोसियों ने आंगन में नजारा देखते ही पुलिस को सूचना दी।

-शुरुआती जांच में पुलिस अफसरों ने दावा किया कि पूरा मामला मर्डर और फिर सुसाइड का है। यानि डॉ. जीके सूर्यवंशी ने पहले डॉ. उषा को मौत के घाट उतारा, फिर जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी कर ली।

दोनों लाशें डिकंपोज्ड हो गई

-पुलिस के मुताबिक डॉ. दंपत्ति की लाश उनके मकान के पीछे आंगन में मिली। डॉ. उषा के सिर पर चोट के निशान थे। फर्श पर खून भी बहा था। इसके ठीक बाजू में डॉ. सूर्यवंशी की बॉडी पड़ी थी।

-दोनों लाशें डिकंपोज्ड हो गई थीं और दुर्गंध आ रही थी।

-पंचनामा के बाद पुलिस अफसरों ने दावा किया कि घटना 48 घंटे पुरानी है। यानि 4 अप्रैल की रात वारदात हुई होगी।

सिर पर वजनदार पत्थर से हमला

-कोतवाली थाना प्रभारी जेएस सग्गू ने बताया कि शुरुआती जांच और घटनास्थल को देखने के बाद ऐसा लग रहा है कि डॉ. जीके सूर्यवंशी व पत्नी डॉ. उषा के बीच विवाद हुआ था।

-विवाद बढ़ने पर पति ने पत्नी के सिर पर वजनदार पत्थर से हमला कर दिया। इससे पत्नी की मौत हो गई।

-बाद में पश्चाताप होने पर डॉ. सूर्यवंशी ने जहर खाकर खुदकुशी कर ली।

घर के दरवाजे खुले हुए थे

-मौका-ए-वारदात पर जिस तरह के हालात नजर आए हैं, उसे देखकर डॉ. दंपत्ति के मौत के पीछे किसी तीसरे शख्स का हाथ होने की भी आशंका बनी हुई है। क्योंकि घर के दरवाजे खुले हुए थे।

-कोई भी अजनबी आसानी से अंदर आ-जा सकता था। हालांकि पुलिस अफसर इस पर खुलकर बयान नहीं दे रहे हैं। पुलिस इस पहलू पर भी जांच कर रही है।

-शवों को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल के मरच्यूरी में सुरक्षित रखवा दिया गया है।

-गौरतलब है कि डॉ. जीके सूर्यवंशी एमबीबीएस डीएमआरई सोनोग्राफी विशेषज्ञ थे तथा पत्नी डॉ. उषा सूर्यवंशी एमबीबीएस डीए स्त्री रोग विशेषज्ञ थी।

-दोनों 2006 से कबीरधाम जिला अस्पताल में पदस्थ थे। उनके दो बच्चे हैं, जो दूसरे शहरों में पढ़ाई कर रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *