Muslim names like Saddam, Islam and Jihad banned in China

chinaChina has banned dozens of Islamic names like ‘Saddam’ and ‘Jihad’ for babies belonging to the restive Muslim-majority Xinjiang province, in a move that would prevent children from getting access to education and government benefits, a leading rights group said on Tuesday.

Xinjiang authorities have recently banned dozens of names with religious connotations common to Muslims around the world on the basis that they could “exaggerate religious fervour,” the Human Rights Watch (HRW) said.

Islam, Quran, Mecca, Jihad, Imam, Saddam, Hajj, and Medina are among dozens of baby names banned under ruling Chinese Communist Party’s “Naming Rules For Ethnic Minorities,” an official was quoted as saying by Radio Free Asia.

Children with banned names will not be able to obtain a “hukou,” or household registration, essential for accessing public school and other social services, it said.

The new measures are part of China’s fight against terrorism in this troubled region, home to 10 million Muslim Uyghur ethnic minority.

This is the latest in a slew of new regulations restricting religious freedom in the name of countering “religious extremism,” the HRW said.

Conflicts between the Uyghur and the Han, the majority ethnic group in China who also control the government, are common in Xinjiang.

A full list of names has not yet been published and it is unclear exactly what qualifies as a religious name, it said.

On April 1, Xinjiang authorities imposed new rules prohibiting the wearing of “abnormal” beards or veils in public places and imposing punishments for refusing to watch state TV or radio programmes.

These policies are blatant violations of domestic and international protections on the rights to freedom of belief and expression, the HRW said.

Punishments also appear to be increasing for officials in Xinjiang who are deemed to be too lenient.

In January, the authorities imposed a “serious warning” on an official for complaining to his wife through a messaging app about government policies.चीन के शिनजियांग में सद्दाम-जिहाद समेत कई मुस्लिम नामों पर लगा बैन

बीजिंग. चीन ने मुस्लिम मेजॉरिटी वाले शिनजियांग प्रोविंस में इस्लाम से जुड़े सद्दाम, जिहाद जैसे दर्जनों नामों पर बैन लगा दिया गया है। ह्युमन राइट्स वॉच ग्रुप का कहना है कि इसके जरिए ऐसे बच्चों को एजुकेशन और गवर्नमेंट से मिलने वाले हकों से दूर रखा जाएगा। बता दें कि शिनजियांग में करीब एक करोड़ उइगर मुस्लिम रहते हैं। दो करोड़ की आबादी वाले इस प्रोविंस में उनकी मेजॉरिटी है। गवर्नमेंट फैसेलिटीज नहीं मिलेंगी…

– शिनजियांग अथॉरिटी ने हाल ही में धार्मिक मायने वाले दर्जनों मुस्लिम नामों पर बैन लगाया है। ये नाम दुनियाभर में बहुत कॉमन हैं।

– एक ऑफिशियल के हवाले से रेडियो फ्री एशिया ने बताया कि जिन नामों को बैन किया गया है उनमें इस्लाम, कुरान, मक्का, जिहाद, इमाम, सद्दाम, हाजी और मदीना शामिल हैं।

– बताया गया है कि बैन किए गए नाम वाले बच्चों का हाउसहोल्ड रजिस्ट्रेशन नहीं होगा, स्कूलों में एडमिशन नहीं मिलेगा और दूसरी सोशल सर्विसेज नहीं दी जाएंगी।

– उनका कहना है कि ये उपाय चीन के इस इलाके में आतंकवाद के खिलाफ जारी जंग का एक हिस्सा हैं।

कट्टरता से मुकाबले के नाम पर आजादी पर रोक

– ह्युमन राइट्स वॉच (एचआरडब्ल्यू) का कहना है कि धर्मिक कट्टरता से मुकाबला करने के नाम पर धार्मिक आजादी पर रोक लगाने के उपायों में यह बिल्कुल नया है। ये पॉलिसीज फ्रीडम और एक्सप्रेशन के राइट्स का वाॅयलेशन है।

– हालांकि, बैन किए गए सभी नामों की लिस्ट अभी जारी नहीं की गई है। यह भी पूरी तरह साफ नहीं है कि रिलीजियस नाम सिलेक्ट कैसे किए गए हैं।

1 अप्रैल को दाढ़ी और नकाब पर लगाया था बैन

– 1 अप्रैल को जिंजियांग अथॉरिटीज ने कुछ नए रूल्स लागू किए थे। इनमें लंबी दाढ़ी रखने और पब्लिक प्लेस पर हिजाब या बुर्का पहनने पर बैन लगाया गया था।

– उस वक्त सरकारी टीवी ओर रेडियो को देखने-सुनने से इनकार करने पर सजा भी तय की गई थी।

– शिनजियांग में इससे पहले रमजान के दौरान लोगों के रोजा रखने पर भी बैन लगाया जा चुका है।

उइगर-हान में टकराव आम बात

– बता दें कि चीन के शिनजियांग में हान और उइगर कम्युनिटी में टकराव आम बात है।

– शिजियांग में उइगर मेजॉरिटी में हैं तो हान की आबादी पूरे चीन में सबसे ज्यादा है। देश में हान कम्युनिटी की ही सरकार है।

– यह प्रोविन्स धार्मिक कट्टरता का शिकार है। चीन पिछले कुछ सालों से शिनजियांग के उइगर मुस्लिम कम्युनिटी का लगातार दमन कर रहा है। हालांकि, चीन ने दावा किया है कि शिनजियांग के मुस्लिमों के लीगल, कल्चरल और रिलिजियस राइट्स पूरी तरह सिक्योर हैं।

– शिनजियांग में पिछले कुछ सालों में कई हिंसक मुठभेड़ भी हुई हैं। चीन सरकार ने इन मुठभेड़ों के लिए आतंकियों और अलगाववादियों को जिम्मेदार ठहराया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *