Dowry menace worst in Bihar: IAS groom gets arbitrary price, banker Rs. 30 lakh

dowry'Patna: Dowry menace has reached its worst in Bihar. IAS groom gets arbitrary price while a banker Rs. 30 lakh. Five years ago, if a Rs 10-15 lakh wedding was big, now negotiations for grooms from affluent families start at Rs 30 lakh, going up to Rs 1 crore or more. And it is not just the money.

Maruti cars have been replaced by luxury cars and VCRs by home theatres. Instead of Banarasi zari sarees for the bride’s trousseau, her parents now buy heavy lehngas with real gold and silver work on them, often with designer labels.

The demand is for receptions in “marriage palaces”- huge, palatial wedding venues. Chefs are flown in for multi-cuisine wedding dinners. All this is usually paid for by the bride’s family. “The rich revel in the exchange of their black money, but the pressure on the other classes to ape them has serious social consequences.

 

बिहार में दहेज का रेट 25% बढ़ा: IAS को मुंहमांगी कीमत, बैंकर को 30 लाख तक

पटना. बिहार में पिछले साल के मुकाबले दहेज का रेट करीब 25% बढ़ गया है। आईएएस को मुंहमांगी कीमत मिल रही है तो बैंकर का रेट भी 10 से 30 लाख रुपए तक है। डेढ़-दो साल पहले एक बैंक क्लर्क का रेट 6-8 लाख था, लेकिन अब 7 से 10 लाख तक है। इसी तरह बाकी कैटेगरी के वर के लिए भी रेट में जबरदस्त ग्रोथ हुई है। DainikBhaskar ने बिहार में दहेज के रेट को लेकर अपनी पड़ताल के दौरान कई लोगों से कॉन्टैक्ट किया। इनमें वो लोग भी हैं जिन्होंने हाल ही में अपनी बेटी की शादी की है या वर की तलाश में हैं। लड़की अच्छी जॉब में है तो भी दहेज देना पड़ेगा…

– सिंह साहब ने अभी हाल ही में अपनी बेटी की शादी की है। बेटी सरकारी बैंक में क्लर्क है। वर ढूंढ़ने निकले तो रेट का पता चला। लड़की नौकरी कर रही है, इसके बावजूद वर पक्ष की पहली शर्त कैश ही थी। पच्चीस परिवारों में रिश्ता लेकर गए। हर जगह कमोबेश 10 लाख रुपए कैश की मांग की गई। जेवर अलग से। दो साल पहले की बात है।

– शर्मा जी बेटी की शादी के लिए आईएएस वर ढूंढ़ने निकले थे। 5 करोड़ तक की पेशकश की। पर वर पक्ष 8 करोड़ से नीचे नहीं आया। यह बिहार में दहेज की छोटी सी तस्वीर है।

जेवर-जमीन में भी डील

– लोगों ने दहेज लेने के अपने-अपने तरीके इजाद कर रखे हैं। कुछ लोग कैश की जगह लड़की पक्ष से जमीन और जेवर में ही डील करते हैं। लड़के के नाम से जमीन लिखवा लिया या फिर यह कह दिया कि लड़की को इतने तोला सोने का जेवर पहना कर विदा कीजिएगा।

रेस्टोरेंट की तरह मैन्यू

– दहेज में कैश, जेवर और गाड़ी तो जरूरी है ही। इसके बाद भी लंबी लिस्ट होती है। इलेक्ट्रॉनिक गुड्स के ब्रांड तक तय किए जाते हैं। लिस्ट में खाने-पीने के मैन्यू और बारात ठहराने के लिए एसी और नॉन एसी कमरों तक की शर्त रखी जाती है। बैंड कौन सा होगा, ये तभी तय किया जाता है।

नोटबंदी के बाद किस्तों में ले रहे पैसे

– 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी के बाद भी बिहार में देहज के रेट में कोई गिरावट नहीं आई। दो साल पहले तक क्लर्क लड़के के लिए दहेज के तौर पर 6 से 8 लाख रुपए तक की डिमांड होती थी, अब यह बढ़कर 7 से 10 लाख हो चुकी है। बैंक ट्रांजैक्शन से पकड़ में न आएं, इसलिए लोग किस्तों में दहेज की रकम ले रहे हैं। फैमिली के अलग-अलग मेंबर्स के खाते में भी पैसे ट्रांसफर कराए जा रहे हैं। वैसे दोनों ही पक्ष बैंक खाते में सीधे कैश ट्रांजैक्शन से बच रहे हैं।

जाति के आधार पर भी कम-ज्यादा मिलता है दहेज

> ब्राह्मण-राजपूत-कायस्थ-वैश्य

लड़का अगर सरकारी नौकरी में है तो

– आईएएस-60 लाख से एक करोड़ कैश। महंगी गाड़ी और फ्लैट। (कैश बढ़ भी सकता है)

– आईपीएस और अलॉयड सर्विस-50 से 75 लाख कैश। 25 लाख का सामान, जेवर।

– क्लास वन अफसर (जैसे बैंक पीओ)-20 से 30 लाख कैश। फोर व्हीलर।

– क्लास टू अफसर-10 से 15 लाख कैश। फोर व्हीलर।

– क्लास थ्री अफसर (जैसे क्लर्क)- 7 से 10 लाख कैश। हैसियत के हिसाब से कार या बाइक।

– क्लास 4 सर्विस- 3 से 5 लाख कैश। बाइक।

लड़का अगर प्राइवेट नौकरी में है तो

– क्लास वन-7 से 10 लाख कैश। फोर व्हीलर।

– क्लास टू- 5 लाख कैश। फोर व्हीलर।

– क्लास थ्री-3 लाख कैश। 50 हजार की गाड़ी।

– क्लास 4-तीन लाख तक कैश।

> भूमिहार-कुर्मी-कुशवाहा-यादव

लड़का सरकारी नौकरी में है तो

– आईएएस-80 लाख से डेढ़ करोड़ कैश। महंगी गाड़ी और फ्लैट। (वर के बैकग्राउंड के हिसाब से कैश 5 करोड़ तक जा सकता है।)

– आईपीएस और अलॉयड सर्विस-75 लाख से 1 करोड़ कैश। 25 लाख का सामान, जेवर।

– क्लास वन (बैंक पीओ)-20 से 30 लाख कैश। फोर व्हीलर।

– क्लास टू-10-15 लाख कैश। फोर व्हीलर।

– क्लास थ्री (क्लर्क)-7 से 10 लाख कैश। हैसियत के हिसाब से कार या बाइक।

– क्लास 4 सर्विस-3 से 5 लाख कैश, बाइक।

लड़का अगर प्राइवेट नौकरी में है तो

– क्लास वन-7 से 10 लाख कैश। फोर व्हीलर।

– क्लास टू- 5 लाख कैश। फोर व्हीलर।

– क्लास थ्री-3 लाख कैश। 50 हजार की गाड़ी।

– क्लास 4- तीन लाख तक कैश।

– भूमिहार और कुर्मी जाति में अगर लड़के के हिस्से अगर 2 से 4 बीघा जमीन है तो सिपाही या नियोजित शिक्षक को 10 से 12 लाख रुपए तक दहेज में कैश।

– यादव जाति में भी कमोबेश दहेज का यही रेट है। जमीन और अपना मकान हो तो कैश में बढ़ोतरी संभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *