Weird story of Punar Janm, father is 37 and daughter 40 years old

rebirthJaipur/Alwar > A weird story of Punar Janm (rebirth) has come to fore here. 37 years old Ramesh Chandra is carrying out all responsibilities of his earlier birth. Resident of Alwar, Ramesh took Bhaat for his daughter of previous Janm Prem Devi to Jaipur . He recounted a number of things of his previous birth. All concerned persons are satisfied with his version.

जयपुर/अलवर।यहां पुनर्जन्म का मामला सामने आया है। इतना ही नहीं पुनर्जन्म होने का दावा करने वाला 37 साल शख्स अपने पिछले जन्म के सारे रिश्ते इस जन्म में भी निभा रहा है। अलवर के पिनान के रहने वाले रमेशचंद गुरुवार को अपने पिछले जन्म की बेटी प्रेमदेवी के बेटे की शादी में भात लेकर पहुंचे और अपनी उस जन्म की बेटी से बहुत सारी बातें की।क्या है पूरा मामला…

अलवर के ही इसवाना गांव में रहने वाली प्रेमदेवी की उम्र चालीस साल है। और उनके पिछले जन्म के पिता 37 साल के हैं। रमेश योगा टीचर हैं। शादी में पहुंचे गांव के लोगों को उन्होंने बताया कि कैसे अपने पिछले जन्म की बातें याद आईं थीं।

ऐसे याद आया पिछला जन्म

– रमेशचंद बताते हैं कि पिछले जन्म में वह इसवाना गांव में धोलाराम मीणा के नाम से जाने जाते थे। उनकी शादी भौती देवी से हुई थी और 1977 में उसकी पीपल के पेड़ से गिर कर मौत हो गई थी।

– भौती देवी उस समय प्रेग्नेंट थी और धोलाराम की मौत के तीन महीने बाद उनके एक बेटी हुए। जिसका नाम प्रेमदेवी रखा गया।

पास ही के गांव में हुआ पुनर्जन्म

– 24 जुलाई, 1979 में अलवर जिले के ही जामडोली गांव में धोलाराम का जन्म हुआ। इस जन्म में उनका नाम रमेशचंद मीणा रखा गया।

– जब रमेश 3 साल के थे तब वह बीमार हो गए। इस पर रमेश की दादी उन्हें शहर लेकर गई तो बीच में इसवाना गांव आया।

– रास्ते में रमेश ने इसवाना गांव की लोकेशन देखी तो उसे पिछले जन्म की यादें आने लगी, लेकिन उस समय वह अपनी भावनाओं को सही तरीके से प्रकट नहीं कर पाया और अपनी बाते दादी को नहीं समझा पाए।

– इस घटना के बाद रमेश अपनी दादी से पिछले जन्म को लेकर हमेशा बहस करते रहते और बताते कि, इसवाना गांव में मेरा पिछला जन्म हुआ था।

– रमेश की बुआ इसवाना गांव में ही रहती थीं। रमेश की दादी ने अपने परिवार के लोगों को भेजकर पता लगाया कि धोलाराम मीणा क्या पेड़ से गिरकर मरा है। रमेश की सारी बातें सही निकली। उस समय ये मामला शांत हो गया।

पत्नी को बताई सीक्रेट बातें

– जब रमेश छह साल के हुए तो उनकी इसवाना गांव में रहने वाली बुआ के यहां किसी की शादी थी। रमेश शादी में आए और किसी से बिना पूछे अपने पुराने घर पहुंच गए। और अपनी पिछले जन्म की पत्नी भौती देवी से बातें करने लगे।

– रमेश ने भौती देवी को कई सरी सीक्रेट ऐसे बातें बताई जिससे भौती देवी को यकीन हो गया कि रमेश ही धोलाराम हैं।

– तब से लेकर अभी तक रमेश अपने पिछले जन्म के गांव में जाते रहते है। रमेश ने प्रेमदेवी की शादी में कन्यादान भी किया था।

– साल 2012 में भौतीदेवी की हार्ट अटैक से मौत हो गई है।

योगा टीचर है रमेश

– रमेश योगा टीचर है जो जयपुर में होम विजिट पर योगा सिखाते है। रमेश की इस जन्म की पत्नी का नाम गुड्‌डी देवी है। इनके तीन बच्चे है सबसे बड़ा बेटा भगवान सहाय जयपुर से ही इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है।

– बेटी रेखा मीणा की शादी हो गई है, वहीं सबसे छोटे बेटे गौरव मीणा ने 10वीं क्लास का एग्जाम दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *