Guard shoots 3 persons and then ends his life

murderA bank security guard killed his wife and two neighbours, both brothers, when he fired indiscriminately at people in a fit of rage before committing suicide at Madhya Pradesh’s Ashok Nagar on Friday afternoon.

According to police, the guard Lakhan Raghuvanshi, said to be allegedly mentally unstable, had a fight with his wife and then created ruckus in his residential area under Kotwali police station while hurling abuses at people. After listening to his shouting, people came out of their houses. He then suddenly started firing indiscriminately with his licensed rifle.

In the firing, he killed his wife and two neighbours Vikas Jain and Sanjay Jain, both brothers. Another local resident was injured. Raghuvanshi also fired at least 20 rounds in air. When police force reached the spot, he shot himself dead.

The incident created panic among residents in the area. Police took the situation in its control.

Superintendent of police Ashoknagar Santosh Singh Gour said, “It couldn’t be known immediately who were the persons killed by the guard. Later, their identity was established and it came to be known that the woman killed by him was in fact his wife.”

He said Raghuvanshi was allegedly mentally unstable. Police were investigating the matter to find out the reason behind the guard’s act.

सरेआम गोलियां चलाता रहा गार्ड, जो सामने आया बेरहमी से मार दिया

फायरिंग करते हुए लखन का यह फोटो भास्कर के फोटो जर्नलिस्ट मुकेश मिश्रा ने क्लिक किया तो लखन ने उन्हें भी बंदूक लेकर दौड़ा लिया। इसके कुछ देर बाद उसने खुद को गोली मार ली। घटना की वजह फिलहाल साफ नहीं हो पाई है।

अशोकनगर/भोपाल.एमपी के अशोकनगर में एक सिक्योरिटी गार्ड पर गोली चलाने का इतना जुनून सवार हो गया कि जो सामने आया गोली से उड़ा दिया। पहले पत्नी, फिर दो पड़ोसियों को गोली मारी। 1 घंटे तक वह बंदूक लहराकर तांडव मचाता रहा लेकिन पुलिस का कहीं नामो-निशान तक नहीं था। उसके बाद गार्ड ने खुद को भी गोली मार ली।क्या है मामला…

नाल गले से सटाकर खुद को भी गोली मार ली

-शहर के शांतिनाथ मंदिर मार्ग स्थित हाउसिंग बोर्ड में दिनदहाड़े एचडीएफसी बैंक में कार्यरत गार्ड लखन रघुवंशी ने पत्नी शीलाबाई की गोली मारकर हत्या कर दी।

-फायरिंग की आवाज सुनकर पड़ोसी विकास जैन बाहर निकले तो लखन ने उन्हें भी गोली मार दी।

-दो हत्याएं करने के बाद लखन लाइसेंसी बंदूक लहराते हुए दहशत फैलाता रहा।

-खबर मिलने पर विकास का भाई संजय पहुंचा तो लखन ने उसे भी गोली मार दी।

-विकास के छोटे भाई सचिन पर भी दो फायर किए लेकिन वह बच गया।

-जो भी उसके पास जाने की कोशिश करता वह उसे बंदूक लेकर दौड़ा लेता।

-लोगों ने पुलिस को भी सूचना दी लेकिन तकरीबन एक घंटे तक पुलिस मौके पर नहीं पहुंची।

-तकरीबन घंटे भर बाद पुलिस की गाड़ी का सायरन सुनाई दिया तो लखन ने बंदूक की नाल गले से सटाकर खुद को भी गोली मार ली।

पुलिस पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा

-तीन हत्याओं की सूचना के बाद भी एक घंटे देरी से पहुंची पुलिस पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। पुलिस आैर इलाकाई लोगों के बीच जमकर झड़प हुई।

-लोगों ने दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग करते हुए पोस्टमार्टम हाउस में हंगामा कर दिया।

-जानकारी मिलते ही कलेक्टर बीएस जामोद और एसपी संतोष सिंह गौर पाेस्टमार्टम हाउस पहुंचे। एसपी ने इस मामले में दो पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने के आदेश दिए तब कहीं शाम 7 बजे पाेस्टमॉर्टम हो सका।

-कलेक्टर ने मृतक भाइयों के परिवार को शासन की तरफ से एक-एक लाख रुपए और प्रभारी मंत्री की तरफ से दो लाख सहायता राशि पीड़ित परिवार को देने की घोषणा की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *