Six years old girl gangraped in Jalaun of Uttar Pradesh

rapeShamefully, a six years old girl was gangraped in Jalaun of Uttar Pradesh. What is more shameful is that no stretcher was provided and mother of the minor girl is carrying her from one place to another in the hospital on her back. three of the accused have been arrested.

6 साल की मासूम से गैंगरेप, इलाज के लिए कंधे पर उठाए घूमती रही मां

जालौन में 6 साल की बच्ची के साथ हुई गैंगरेप की घटना के बाद प्रशासन व अस्पताल की बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है। इलाज के अभाव में पीड़‍िता को कंधे पर उठाकर मां हॉस्पिटल का चक्कर लगा रही है।

जालौन.यूपी के जालौन में 6 साल की बच्ची के साथ हुई गैंगरेप की घटना के बाद प्रशासन व अस्पताल की बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है। जिसमें 3 आरोपियों को अरेस्ट कर लिया गया। बच्ची को गंभीर हालत में जिला हॉस्पिटल में रेफर किया गया। लेकिन यहां 2 दिन तक उसका किसी भी तरह से इलाज नहीं किया गया और न ही उसका मेडिकल चेकअप किया गया। आर्थिक परेशानी से जूझ रहे परिजन इलाज के लिए बच्ची को कंधे पर लटकाए घूमते रहे।

ये है पूरा मामला…

– बता दें कि 31 मई को कुठौंद थाना क्षेत्र के निनावली कोठी गांव की है। जहां 6 साल की मासूम अपने पिता के साथ घर के बाहर सो रही थी, तभी गांव के रहने वाले वीरेंद्र, दिनेश और सुशील रात में शराब के नशे में मासूम को देख उसका मुंह दबा कर उठा ले गए।

– जंगल में ले जाकर उससे गैंगरेप किया और खून से लथपथ छोड़ मौके से फरार हो गए। मासूम गायब मिली तो परिजनों और गांव वाले उसे खोजने हुए जंगल की तरफ पहुंचे जहां नहर के किनारे वह खून से लथपथ पड़ी मिली।

– लोग उसे उठाकर घर ले आए। पूछने पर उसने पूरी घटना सुनाई। उसने बताया कि गांव के 3 लोगों ने उसके साथ ऐसा किया।

– बच्ची के मुताबिक, भागने से पहले इन लोगों ने बच्ची को फांसी लगाकर मारने की भी काशिश की। लेकिन रस्सी कमजोर थी, तो टूट गई। इसीलिए वो बच गई। जिसके बाद परिजन उसे लेकर थाने आ गए और पूरी जानकारी दी। गंभीर हालत में चिकित्सकों ने उसे जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। – घटना को अंजाम देने वाले तीन आरोपियों को भी पुलिस ने अरेस्ट कर जेल भेज दिया। एसपी द्वारा इसकी प्रेस कांफ्रेंस की गई। वहीं दूसरी ओर बच्ची की सुध नहीं ली गई।

 

परिजनों ने ये कहा

– परिजनों ने बताया कि घटना के बाद ही बच्ची की हालत खराब थी। घटना के एक दिन भी प्रशासन और जिला अस्पताल के लोगों ने बच्ची की सुध नहीं ली। यहां तक कि उसका मेडिकल चेकअप तक नहीं हुआ। दर्द को कम करने के लिए उसे एक टेबलेट तक नहीं दी गई।

– कहा कि उनके पास इतने रुपए नहीं थे कि वह कही और बच्ची का इलाज कराते। परिजन इलाज के लिए बच्ची को कंधे पर लटकाए घूमते रहे, लेकिन किसी ने नहीं सुनी।

– मामला सामने आने के बाद सीएमओ जालौन ने गुरुवार देर रात जिला अस्पताल में बच्ची के इलाज के आदेश दिए। इसके बाद अस्पताल ने बच्ची का इलाज नहीं करते हुए झांसी के मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया।

सीएमओ ने ये कहा

– डॉ. अलपना बरतारिया ने कहा कि पीड़िता को झांसी अस्पताल में रेफर किया जा रहा है। हॉस्पिटल के अंदर उन्हें एंबुलेंस की सुविधा दी जा रही है। संस्थान के अंदर पीड़िता से पैसे मांगे जाने की शिकायत मिली है। जिसकी जांच करवाकर कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *