This 17 years old Indian girl set to create history formula race

formulaNEW DELHI — Vadodara’s young racer Mira Erda will become the first Indian female driver to compete in one of the highest classes of Formula Racing in the country after signing up for the Euro JK series in the upcoming JK Tyre- FMSCI National Racing Championship.

Erda, who began her journey as one of the youngest in national karting, had been competing in LGB Formula 4 till last year. She proved herself to be equal to bigger and stronger boys there too, winning the Formula 4 Rookie Champion of the Year during the annual FMSCI awards.

By signing up at just 17 for JK Euro, which features the BMW FB02 car, she will be among the youngest Indian drivers to race at this level.

“Ever since I started racing as a 9-year-old I have been dreaming of becoming a Formula 1 racer,” Mira said, on her way back from school.

“I want to thank JK Tyres and FMSCI for this wonderful opportunity as this is one huge jump forward towards realising my dream,” she added.

Interestingly, Mira who is preparing for her Twelfth Class boards, will have a packed season as she plans to not only race in the National Championship but also in national rallies and international karting competitions.

“This is very good news for Indian motorsport,” Sanjay Sharma, Head of JK Motorsports who sponsor and conduct the National Racing Championship, said.

“It will encourage other girls to take up the sport as well. I must congratulate Mira for this huge jump. I am sure she will do well at this level too,” he added.

Mira has already participated in about 75 races both at the national and the international level.

महज 17 साल की है ये फार्मूला रेसर, एेसा करने वाली देश की पहली लड़की

वडोदरा। शहर की प्रतिभाशाली युवा रेसर मीरा ईरडा देश में आयोजित फार्मूला रेसिंग की हाईएस्ट स्पर्धा में भाग लेने वाली देश की पहली महिला ड्राइवर बनने की दिशा में आगे बढ़ते हुए इतिहास रचेंगी। उसका समझौता जेके टायर्स एफएमएससीआई नेशनल रेसिंग स्पर्धा की यूरो जेके सीरीज के लिए हुआ है। केवल 17 साल की उम्र में देश की यंगेस्ट फार्मूला-4 चैम्पियन बनने वाली प्लेयर बन गई है। एक साल में ही नेशनल चैम्पियन…

 

फार्मूला-4 में स्थान प्राप्त करने के बाद मीरा ईरडा एक ही साल में नेशनल चैम्पियन बन गई। इस उपलब्धि के आधार पर उसका सेलेक्शन फार्मूला-4 की एडवांस रेस सीरीज बीएमडब्ल्यू के लिए हुआ। इस रेस की सीजन आगामी जुलाई महीने में शुरू होने वाली है। इसमें 230 कि.मी. प्रति घंटे की मेक्सिमम स्पीड पर इस केटेगरी की रेस होती है।

अब तक 75 चैम्पियनशिप में भाग लिया

अपने कॅरियर की शुरुआत नेशनल गो-कार्टिंग स्पर्धाओं में सबसे युवा रेसर के रूप में शामिल होकर की। पिछले साल तक उसने फार्मूला-2 चैम्पियनशिप में रुकी चैम्पियन ऑफ ईयर के रूप में पुरस्कार भी जीता। मीरा के लिए आगामी समय काफी चुनौतीभरा है। वह केवल नेशनल ही नहीं, परंतु इंटरनेशनल कार्टिंग चैम्पियनशिप में भी भाग लेना चाहती है। मीरा अभी तक 75 चैम्पियनशिप में भाग ले चुकी हैं।

BMW FB02 चलाने के बाद फार्मूला-1 रेसर बनने का सपना

17 साल की उम्र में जेके यूरो के साथ कांट्रेक्टेड मीरा ने बताया कि मैंने 9 साल की उम्र में रेसिंग को कॅरियर के रूप में अपनाया था। F 1 रेसर बनने का सपना है। जो धीरे-धीरे साकार हो रहा है। अपने इस सपने को साकार करने के लिए मुझे काफी चुनौतियों का सामना करना होगा। BMW FB02 चलाने के बाद मेरा सपना फार्मूला वन रेसर बनने का है। इसके लिए मुझे जेके टायर्स ने काफी मदद की है।

18 ड्राइवर्स को हराकर लक्ष्य हासिल किया

बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट पर हाल ही में नेशनल चैम्पियनशिप हुई। 12 रेस के सीजन में मीरा ने उम्र और अनुभव के आधार पर सीनियर प्लेयर के गोल पर फोकस कर रुकी क्लास में मात दी थी7 गो कार्टिंग का अनुभव और आउट ऑफ बॉक्स आइडियाज जीत के कारण थे। 5 कि.मी. के ट्रेक पर 8 लेप पूरा करने की चुनौती थी। इसमें उसने 18 ड्राइवर्स को हराकर लक्ष्य हासिल किया।

साउथ ईस्ट एशिया चैम्पियनशिप का टार्गेट

फार्मूला की इस रेसिंग सीजन को कम्पलिट करने के बाद अगला टार्गेट साउथ ईस्ट एशिया फार्मूला चैम्पियनशिप है। मीरा ईरडा ने बताया कि इस सीजन में अच्छा परफार्मेंस होगा। इसके बाद इस चैम्पियनशिप पर नजर है, जो आगामी महीनों में मलेशिया, फिलिपाइंस, सिंगापोर के विभिन्न ट्रेक पर होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *