Father kills 3 years old daughter by throwing her in canal

murderFaridabad: A man threw his 3 years old daughter in a canal causing her death. Dheeraj had filed FIR with police that she was kidnapped from in front of his house. However, it was revealed after 4 days that he was himself murderer of his daughter. Most probably he sacrified her for good fortune on the advice of a tantrik.
मरने से पहले बेटी कहती रही मुझे मां के पास जाना है, पिता ने दी थी ऐसी मौत
फरीदाबाद. तीन साल की सोनाक्षी मर्डर मिस्ट्री को पुलिस ने सुलझा लिया है। बच्ची के पिता ने ही उसे गुड़गांव नहर में फेंका था। आरोपी को क्राइम ब्रांच डीएलएफ की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के सामने आरोपी ने बताया कि जिस वक्त वह अपनी बेटी को नहर में फेंक रहा था, उस समय वह मासूम छाती से लिपटी हुई थी। वह उसे फेंकने लगा तो सोनाक्षी ने कहा कि पापा मुझे मत फेंको, मुझे घर ले चलो, मैं मम्मी के पास जाना चाहती हूं। क्या थी हत्या की वजह…
– 11 जुलाई की शाम को शहर में तेज बरसात हो रही थी। बैंक कर्मचारी धीरज अपने घर के बाहर चारपाई पर बैठा था। उसकी गोद में तीन साल की बेटी सोनाक्षी थी।
– शाम 5.30 बजे के आसपास धीरज बेटी को घुमाने की बात कहकर अपनी स्कूटी पर ले गया। वह उसे बाटा फ्लाईओवर से सेक्टर-12 कोर्ट वाली रोड से होते हुए बाइपास रोड पर पहुंचा। वहां से वह सीही स्वर्गाश्रम के पास रुका।
– यहां से 10 कदम पहले बन रहे नए पुल के रास्ते गुड़गांव नहर पर पहुंचा। इसके बाद किनारे पहुंचकर धीरज ने बेटी को नहर में फेंक दिया। बच्ची को फेंकने के बाद वह वापस घर पहुंचा और अपनी बेटी के किडनैपिंग का शोर मचा दिया।
क्या दिया था पुलिस को बयान
– आरोपी धीरज ने 11 जुलाई की रात को करीब 10 बजे के आसपास पुलिस को शिकायत दी थी कि उसकी 3 साल की बेटी सोनाक्षी घर के सामने से किडनैप हो गई।
– धीरज ने पुलिस को बताया था कि वह अपनी बेटी को नजदीकी पार्क में झूला झुलाने ले गया था। उसे पार्क से लाकर वापस घर के सामने छोड़ दिया था।
– उसने यह भी बयान दिया था कि उसने बेटी को घर के अंदर जाते हुए देखा था। 12 जुलाई को सोनाक्षी का शव फतेहपुर तगा गांव के पास गुड़गांव नहर से बरामद हुआ था।
– धीरज के बयान पर पुलिस ने पहले किडनैपिंग और शव मिलने के बाद हत्या का केस दर्ज किया था। जांच हुई तो धीरज की कहानी झूठी निकली और वह खुद हत्यारोपी निकला।
दैनिक भास्कर ने उठाए थे सवाल, जुटाए थे तथ्य
– बच्ची के किडनैपिंग के बाद 12 जुलाई को जब उसका शव बरामद हुआ तो दैनिक भास्कर ने बच्ची के घर व आसपास जाकर गहन पड़ताल की थी।
– छानबीन से पता चला कि सोनाक्षी के परिजन व पड़ोसियों ने पिता को उसे ले जाते हुए तो देखा था लेकिन वापस लाते हुए नहीं देखा। यही नहीं जहां बच्ची का घर है, वह एक बेहद तंग गली है। उस गली में स्कूटर-बाइक के आने-जाने की आवाज बहुत तेज गूंजती है।
– धीरज ने बच्ची को वापस छोड़ने का जो समय बताया, उससे आधे घंटे पहले और एक घंटे बाद तक उस गली में कोई स्कूटर-बाइक ही नहीं आया था। इसके अलावा बच्ची के शरीर पर पहने हुए नए वस्त्रों को लेकर भी सवाल उठाए थे।
– इसी खबर के आधार पर पुलिस ने शिकायतकर्ता धीरज को पूछताछ के लिए हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की तो वह टूट गया।
हत्या के पीछे बता रहा अलग-अलग कहानियां
– धीरज बेटी की हत्या के पीछे अलग-अलग कहानियां बता रहा है। एक कहानी तो उसने यही बताई कि उसे एक तांत्रिक मिला था, जिसने कहा यदि वह कन्या की बलि देगा तो आर्थिक तंगी दूर हो जाएगी।
– दूसरी कहानी वह बता रहा है कि सोनाक्षी जिद्दी थी, उसका वह बहुत खर्चा कराती थी। वह उससे तंग था। तीसरी कहानी वह पारिवारिक बता रहा है। पारिवारिक कारणों के चलते वह सोनाक्षी से नफरत करता था।
कड़ी पूछताछ में बताई सच्चाई
– कोतवाली प्रभारी प्रीतपाल सांगवान ने बताया कि पुलिस ने घटनास्थल का कई बार जांच की । वह ऐसी तंग गली थी कि कोई भी बच्ची का किडनैप नहीं कर सकता था। बस एक ही थ्योरी बन रही थी कि बच्ची अपने ही किसी परिचित के साथ गई होगी।
– इसके बाद एक सीसीटीवी फुटेज में धीरज अपनी बेटी को ले जाते हुए तो दिखा लेकिन वापस आते हुए नहीं दिखा। और भी कई अन्य पहलुओं पर जांच की तो सारा संदेह धीरज पर ही गया। क्राइम ब्रांच डीएलएफ की टीम ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की तो वह टूट गया। उसने जुर्म कबूल कर लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *