CRPF trainee commits suicide due to sexual harassment by CRPF commando

suicideCRPF trainee Kirti Shere committed due to sexual harassment by CRPF commando and his 7 friends at Baramati city. CRPF commando Ganesh Rau is post in Bihar.
CRPF कमांडो कर रहा था ब्लैकमेल, फिर इस लड़की ने उठाया ये स्टेप
कीर्ति शेरे पुलिस भर्ती की ट्रेनिंग देने वाली एक एकादमी में ट्रेनिंग ले रही थी।
पुणे. बारामती शहर में कंपीटिटिव एग्जाम की तैयारी कर रही 25 वर्षीय युवती ने गुरुवार शाम फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। सुसाइड नोट में उसने लिखा है कि CRPF कमांडो और उसके सात साथियों से तंग आकर यह उसने ये कदम उठाया है। युवती ने उन पर फिजिकल रिलेशन बनाने के लिए दबाव डालने का आरोप लगाया है। पुलिस ने आठ लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है, जिसमें दो लेडीज शामिल हैं। यह है पूरा मामला…..

-कीर्ति शेरे (25) नामक स्टूडेंट अपने घर वालों के साथ बारामती तहसील के जलोची गांव में रहती थी।
-वह बारामती में कंपीटिटिव एग्जाम की तैयारी कर रही थी, उसने एक क्लास भी ज्वाइन कर ली थी।
– कीर्ति द्वारा लिखे गए सुसाइड नोट के मुताबिक, पिछले दो तीन साल से आठ लोग उसे फिजिकल रिलेशन बनाने के लिए ब्लैकमेल कर रहे थे, लेकिन उनकी दाल गलने नहीं दी।
-आरोपियों में बिहार में कार्यरत सीआरपीएफ कमांडो गणेश राउत भी शामिल है जिसने प्यार करने का नाटक कर और शादी का झांसा देकर युवती को धोखा दिया।
– लड़की ने पुलिस से अपने घर वालों को दोषी न ठहराने अपील की है और लिखा है कि, उन्हें इस बारे में कुछ पता नहीं है।
क्या लिखा है सुसाइड नोट में ?

-कीर्ति द्वारा लिखे सुसाइड नोट में लिखा है आठ लोगों की वजह से मजबूरन सुसाइड कर रही है।
-मेरी लाइफ काफी अच्छी थी, लेकिन समाज के कुछ बुरे लोगों की वजह से मुझे ये स्टेप उठाना पड़ा।
-मैने सुसाइड नोट में जिनका उल्लेख किया है, उन सबको कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए।
– गणेश राउत और महादेव निगड़े को सरकारी नौकरी से निकाला जाए। एेसे लोग देश से भी गद्दारी कर सकते हैं।
-इन लोगो ने मेरी लाइफ बर्बाद की और उल्टा मुझे ही बदनाम करने की धमकी दी है।
-इनके खाने के और दिखाने के दात अलग हैं। कई बार मुझे प्रताड़ित किया गया है। सेक्स रिलेशन बनाने के लिए ब्लैक मेल किया है, लेकिन मैने उनका प्लान चौपट किया।
-मैंने इस बारे में अपने घर वालों को बताया नहीं था, क्योंकि मुझे डर था कि मेरी पढ़ाई बंद हो जाती।
-कमांडो गणेश राउत ने मदद का हाथ देकर मेरा विश्वासघात किया। मैने जीवन में काफी दुख सह लिया था।
– मैं अपने घर वालों को दुखी नहीं देखना चाहती थी, इसलिए उनको इस बारे में कुछ भी नहीं बताया।
-आरोपी मेरे घरवालों को पहचानते थे, लेकिन मैंने उनके बारे में कभी नहीं घरवालों को बताया।
-कीर्ति ने आगे लिखा है कि, मुझे सुसाइड करने के लिए उकसाने वाले कमांडो गणेश राउत, गोरख राउत, शीतल, सुप्रिया, महेश, किरण निगड़े, संजय निगड़े सचिन काटे को सख्त सजा मिलें।
-उसनेे यह भी लिखा है कि सचिन काटे उसे मुंह बोली बहन मानता था, लेकिन उसकी नीयत खराब थी। वह काफी गिरा हुआ इंसान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *