Jaipur royal family is descendent of Lord Ram from his son Kush

jaipur royal familyThe Kachchwaha rulers of Amber-Jaipur trace their descent from Kush, the son of Ram, an incarnation of Lord Vishnu. Ram was the universal monarch, but he divided his entire empire into eight parts amongst his sons and nephews. The offshoots of his second son Kush moved their strongholds from eastern to central India and finally sometime in the11th century Prince Dulha Rai left his patrimony of Narwar for Dausa in Eastern Rajasthan. He was a brave man, married to the daughter of a Chauhan Chief of Moran. With the help of the Moran chief he captured Dausa and Bhandarej and after consolidating his position also annexed Manch (Ramgarh), defeated the Bargujar chief of Deoti (Rajorgarh- Paranagar region). His chivalrous acts are narrated in bardic tales and also in a love lyric originally composed by Kushal Labh, a Jain resident of Jaisalmer in 16th cent. In Dingal entitled- “Dhola Maru Ra Duha”, it is an extremely popular theme in the entire Hindi belt. Different versions in regional dialects are sung throughout the year by the bards. His son and successor Kakil Dev was equally brave and established his control over Amber-Bairath region. He made Amber his capital and built the Ambikeshwar Mahadeva Temple. Prince Pajwan Dev was the great- grandson of Kakil. His heroic deeds are amply narrated in “Prithvi Raj Raso” as he was said to be married to a cousin of Prithvi Raj III or Rai Pithora (1178-1192), the famous Chauhan ruler of Sambhar- Ajmer. Pajwan fought bravely on the side of Prithvi Raj in the campaigns against the Chandelas of Mahoha and Jaichand of Kanauj; and also in the battle of Tarain. After Pajwan, his successors Malesi, Jonsi, Udaikaran, Narsingh, Banvir and Chandra Sen ruled over the Kachhwaha State of Amber and the clan multiplied rapidly during this period. A number of offshoots sprang up from Udai Karan, which caused internal feuds. Maharaja Prithvi Raj (1503-1527 AD.) was the disciple of a Vaishnava saint, Krishna Das Payhari, and was a gallant warrior and a farsighted ruler. He formed twelve Kotris of his Kachchwaha State and divided it amongst his sons and kinsmen to remove the chances of a feud in the future. He actively participated in the battle of Khanua (March 1527 AD) and was the major partner of the Rajput confederacy formed under the umbrella of Rana Sanga of Mewar against Babar. The outcome of this war adversely affected the cause of the Rajputs. Rana Sanga and Prithvi Raj Kachchwaha were severely wounded; the latter died in November, 1527.
Maharaja Prithvi Raj was succeeded by his son Puranmal, who could rule only for a very short period from 5th November 1527 to 19th January 1534. Bhim Dev (1534- 37), Ratan Singh (1537-48 AD) and Askaran (1548) succeeded him one after the other. Maharaja Bharmal the fourth son of Prithvi Raj and his Rathore queen Apurva Devi or Bala-Bai was crowned on 1st June 1548 A.D. on the Gaddi of Amber. Under the spiritual influence of his teacher (Guru) named Krishna Das he embraced Vaishnavism and was bestowed with idols of Narsingh and Sitaramji. He made pilgrimages to Dwaraka ji and other religious centres. A Mughal General Majnu Khan introduced Maharaja Bharmal to young Akbar at Delhi (Dec. 1556) and subsequently Bharmal’s family became a close ally of Akbar and this alliance continued for well over two centuries. This alliance proved to be of great help to both parties. Akbar and his successors continued to gain loyal devotion of the Kachhwahas. To quote Sir Jadunath Sarkar, the famous historian: “The house of Kachchwahas supplied Akbar and his successors the cool penetrating brain power, the unfailing political insight, the great administrative skill and the inborn power of leadership of a Man Singh, a Mirza Raja Jai Singh and a Sawai Jai Singh.”
भगवान राम का वंशज है ये राजपरिवार, ऐसी है इस रॉयल फैमिली की लाइफ
जयपुर.15 अगस्त 1947 देश को अंग्रेजों से आजादी मिलने के साथ ही राजशाही भी खत्म हो गई। इसके बाद भी कई राज परिवार ऐसे रहे जो आज भी उसी शानो शौकत के लिए जाने जाते हैं। लोग आज भी उन्हें अपना राजा मानते हैं। ऐसा ही है जयपुर राजघराना। बता दें की एक अंग्रेजी चैनल को दिए इंटरव्यू में जयपुर की महारानी पद्मिनी देवी ने बताया था कि वे राम के वंशज हैं।जानें इस परिवार के बारे में…
– इस इंटरव्यू में पद्मिनी ने बताया था की उनका परिवार राम के बेटे कुश के परिवार के वंशज हैं।
– उनके पति और जयपुर के पूर्व महाराज भवानी सिंह कुश के 309 वे वंशज थे।
– फिलहाल जयपुर का घराने की भागदौड़ महाराज सवाई मानसिंह के बेटे-बेटियों के जरिए संभाली जा रही है।
– 21 अगस्त 1912 को जन्मे महाराजा मानसिंह ने तीन शादियां की थी। पहली शादी 1924 में 12 साल की उम्र में जोधपुर के महाराजा सुमेर सिंह की बहन मरुधर कंवर से हुई थी।
– मानसिंह की दूसरी शादी उनकी पहली पत्नी की भतीजी किशोर कंवर से 1932 में हुई। इसके बाद 1940 में उन्होंने गायत्री देवी से तीसरी शादी की।
12 साल की उम्र में पद्मिनी का पोता बना राजा
-महाराजा सवाई मानसिंह और उनकी पहली पत्नी मरुधर कंवर के बेटे भवानी सिंह की शादी पद्मिनी देवी से हुई थी। उनकी इकलौती बेटी हैं दीया कुमारी।
– दीया कुमारी की शादी नरेंद्र सिंह से हुई। उनके दो बेटे पद्मनाभ सिंह और लक्ष्यराज सिंह हैं और बेटी हैं गौरवी। दीया वर्तमान में जयपुर से बीजेपी विधायक हैं।
– पद्मनाभ सिंह 12 साल की उम्र में जयपुर रियासत संभालने लगे तो दूसरे बेटे लक्ष्यराज सिंह ने महज 9 साल में यह जिम्मेदारी संभाली।
– महाराजा ब्रिगेडियर भवानी सिंह का कोई बेटा नहीं था। उन्होंने 2002 में अपनी बेटी दीया कुमारी के बेटों को गोद लिया था। भवानी सिंह के निधन के बाद 2011 में उनके वारिस के तौर पर पद्मनाभ सिंह का राजतिलक हुआ था और छोटे बेटे लक्ष्यराज 2013 में गद्दी पर बैठे।
– हालांकि, देश में रजवाड़ों को पूरी तरह से खत्म कर दिया गया है, पर अभी भी राजघरानों में अब भी परंपरा में शामिल राजतिलक की रस्म कर राज्य का वारिसाना हक सिम्बॉलिक तौर पर ट्रांसफर किया जाता है।
गायत्री देवी की बहू का है थाईलैंड राजघराने से रिश्ता
– गायत्री देवी के बेटे जगत सिंह ने थाईलैंड की राजकुमारी प्रियनंदना रंगसित से शादी की थी। देवराज और लालित्या उन्हीं की संतान हैं। आगे चल कर जगत सिंह और प्रियनंदना के रिश्ते में खटास आ गई और दोनों अलग हो गए।
– राजकुमारी प्रियनंदना अपने बेटे देवराज और बेटी लालित्या को लेकर थाईलैंड लौट गईं। जगत सिंह की 1997 में मौत हो गई।
ऐसी है लाइफ स्टाइल

– महारानी पद्मिनी देवी अक्सर शहर में होने वाले छोटे-बड़े कार्यक्रमों में चीफ गेस्ट बनकर पहुंचती हैं।
– वहीं उनकी बेटी दिया कुमारी श्रीगंगानगर से एमएलए हैं। वे अक्सर राजस्थान में होने वाले कई इवेंट्स में दिखती हैं।
– इसके साथ दिया कुमारी के बेटे औऱ जयपुर के राजा पद्मनाभ सिंह इंडिया की पोलो टीम के प्लेयर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *