Does this insect (chudail) cuts women’s hair?

insectA rare insect has been caught cutting hair of women at Ganeshpura locality of Morena city in Madhya Pradesh. The insect is called maiki. However, no such incident has come to fore from any other part of India where a purpourted chudail is cutting hair of women.
चोटी काटने वाला समझ पकड़ ली ये अजीब चीज, फिर ये सच्चाई आई सामने
मुरैना के गणेशपुरा में महिला को चोटी के नीचे लगा कोई कीड़ा काट रहा है। हाथ से टटोला तो एक कीड़ा हाथ में आ गया।

महिलाओं की चोटी काटने वाले ‘मैकी’ का सच आया सामने?महिलाओं की चोटी काटने वाले ‘मैकी’ का सच आया सामने?
इस युवक ने पकड़ा बाल काटने वाल इंसेक्ट
ग्वालियर. चोटी कटने की घटनाएं और उनसे जुड़ी अफवाहों का सिलसिला अब तक थमा नहीं है। मैकी बीटल के बाल काटने की अफवाह निराधार साबित होने के बाद मुरैना में एक अजीब सा इंसेक्ट पकड़ा गया है। पकड़ने वाले का दावा है कि इंसेक्ट घर की महिला के बाल को काट रहा था। काटे जाने का अहसास हुआ तो उसने टटोल कर देखा, इस पर हाथ में इंसेक्ट आ गया और चीख निकल गई। अजीब से कीड़े को देखने जुट गया मोहल्ला, पकड़ने वाला बोला यही काटता है बाल….

– बीते 2 माह से लड़कियों और महिलाओं के चोटी कटने की घटनाओं की खबरें आ रहीं हैं। गांव देहात से शुरू हुई घटनाओं के बाद शहरी महिलाओं की चोटी कटने की घटनाएं भी सामने आईं। – अफवाहें उड़ीं कि बंगाल से आई डायनें इन घटनाओं के लिए जिम्मेदार हैं, जो अंधविश्वास साबित हुईं। इसके बाद अफवाह फैली कि इंसेक्ट मैकी बीटल चोटी कटने की घटनाओं के लिए जिम्मेदार है। छानबीन के बाद ये अफवाह निराधार साबित हुई।
– अब बीते मंगलवार को मुरैना के गणेशपुरा में एक महिला को चोटी के नीचे ऐसा लगा कि कोई कीड़ा काट रहा है। उसने हाथ से टटोला तो एक कीड़ा उसके हाथ में आ गया। कीड़ा उसकी चीख निकल गई। चीख सुनकर परिवार और पड़ोस के लोग इकट्ठे हो गए। महिला ने कीड़ा एक युवक के हाथ में रख दिया।
कीड़े के हैं डंक जैसे पैने अंग, लिपटे हुए थे कटे बाल
– लोगों ने देखा कि कीड़े के डंक जैसे अंगों में ढेर सारे बाल फंसे हुए थे। बाल काटने वाले कीड़े के पकड़े जाने की खबर फैली तो मोहल्ले भर की भीड़ जमा हो गई और लोगों ने उसे एक पारदर्शी डिब्बे में कैद कर लिया।
किरेटीनयुक्त पदार्थ खाता है ये कीड़ा
– वैज्ञानिक डॉ.विनायक तोमर ने बताया कि कोलियोप्टेरा प्रजाति का ये बीटल इंसेक्ट चारों तरफ से प्रोटेक्टिव स्केलेटल के घेरे में सुरक्षित रहता है। इसके माउथपॉड और डंक जैसे पॉड्स पाए जाते हैं।
– ये इंसेक्ट प्रोटीन युक्त मटेरियल खाता है, और बाल केरेटिन प्रोटीन से बने होते हैं। भोजन के लिए ये इंसेक्ट पॉड्स के जरिए जिलेटिन मटेरियल टार्गेट पर डालता है, जिससे पहले उसके उपर एक सफेद लेयर बनती है, जिससे वह गल कर अलग हो जाता है।
– डॉ.विनायक के मुताबिक भारतीय महिलाएं रात में सोने से पहले बाल खोल लेती हैं, इस वजह से अगर ये इंसेक्ट सिर में घुस जाए तो इसके पॉड्स से निकले जिलेटिन से बाल अलग हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *