1000 years old city lies submerged in Bhopal’s lake

lake cityThis photo you are seeing has been sketeched as per descritions of historians, who claim that en entire city lies submerged in Bhopal’s lake.
Upper Lake, is a large lake which lies on the western side of the capital city of Madhya Pradesh, Bhopal. It is a major source of drinking water for the residents of the city, serving around 40% of the residents with nearly 30 million imperial gallons (140,000 m3) of water per day.[2] Bada talaab, along with the nearby Chhota Talaab, meaning small lake in Hindi, cons
According to the local folklore, Bhojtal is said to have been built by the Paramara Raja Bhoj during his tenure as a king of Malwa (1005–1055). He is also said to have established the city of Bhopal (also named after him, then as Bhojpal) to secure the eastern frontier of his kingdom. There is a legend why they built the lake. Once king Bhoj suffered from skin disease and all Vaidyas (Doctor in English) failed to cure him. Then, one day a saint told the king to build a tank to combine 365 tributaries and then have a bath in it to wipe out the skin disease. Bhoj called upon his engineers to build up a huge tank. They spotted a place near river Betwa, which was 32 km away from Bhopal. It was found that it has only 359 tributaries. A Gond Commander Kalia fulfilled this shortage. He then gave the address of an invisible river. After merging the tributaries of this river the number 365 was completed.[4]

The lake was created by constructing an earthen dam across the Kolans River. An eleven gate dam called the Bhadbhada dam was constructed at Bhadbhada in 1965 at the southeast corner of the Lake, and now controls the outflow to the river Kaliasote.
The lake was known as the Upper Lake or Bada Talab (“Big Pond”) until March 2011 it was renamed to Bhojtaal in honour of the Great King Raja Bhoj who built it.[5] A huge statue of Raja Bhoj, standing with sword, was also installed on a pillar on one corner of the lake to cement the name of Bhopal as the city of lakes[6]
Geography
Bhojtal is situated on the west central part of Bhopal city and is surrounded by Van Vihar National Park on the south, human settlements on the east and north, and agriculture fields on the west.[3] It has an area of 31 km2, and drains a catchment or watershed of 361 km2. The watershed of the Upper Lake is mostly rural, with some urbanized areas around its eastern end. The Kolans was formerly a tributary of the Halali River, but with the creation of the lake using an earthen dam and a diversion channel, the upper reach of the Kolans River and Bada Talaab now drain into the Kaliasote River.
Since the construction of the lake in the 11th century, Bhopal city has grown around it. The people are religiously and culturally attached to the lakes. The lakes meet their needs of water supply and they wash clothes in them (very harmful for the lake ecosystem), cultivate water chestnut in Bhojtal and lotus in Chhota Talaab. The idols of gods and goddesses are also immersed in the lake during religious festivals, though the local administration is advising devotees not to do so. The Takia island in Upper lake has a tomb of the Shah Ali Shah Rahamatullah Alla, which has religious and archaeological significance.[7]
इस तालाब में डूबी है 1000 साल पुरानी रियासत, पानी के नीचे बसा है पूरा शहर
यह फोटो इतिहास के शोधकर्ता संगीत वर्मा की परिकल्पना पर आधारित और हमारे आर्टिस्ट गौतम चक्रवर्ती द्वारा बनाया गया है। इस पूरे दावे की सच्चाई गहन शोध के बाद ही सामने आ पाएगी।
भोपाल.एमपी में भोपाल के बड़े तालाब के भीतर सवा सौ फुट सिल्ट के नीचे क्या इस तरह की ऐतिहासिक विरासत छुपी हुई है, यह सवाल हमेशा उठता रहा है। भास्कर ने विशेषज्ञों से सच जानने की कोशिश की…
-नेशनल मॉन्युमेंट्स अथॉरिटी (एनएमए) की चेयरपर्सन सुस्मिता पांडे का कहना है कि बड़े तालाब में डूबे अवशेषों के प्रभावी प्रमाण हैं।
-सेटेलाइट सर्वे से भोपाल का अनजाना अध्याय खुलेगा। यह देश की अनूठी अंडरवॉटर खोज होगी।
-महापौर आलोक शर्मा ने केंद्रीय शहरी विकास मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर को सौंपे एक प्रस्ताव में भोपाल को ह्दय योजना में शामिल करने की जरूरत बताई है ताकि प्राचीन विरासत को सहेजा जा सके।
-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओशनोलॉजी, नगर निगम और विज्ञान भारती की पहल पर एक से तीन दिसंबर तक भोपाल में एक सेमिनार हो रहा है।
-इसका विषय है-राजा भोज और उनका स्थापत्य। पहली बार बड़े तालाब में डूबे शहर के अवशेषों पर चर्चा होगी। इसमें कई देशों के ऐसे विशेषज्ञ आएंगे, जो राजा भोज की विरासत के जानकार हैं।
सबूत हैं दो बुर्ज अौर दीवारें
-दो पहाड़ियों के बीच कोलांस नदी का प्राचीन बहाव है। इस समय एक पहाड़ी पर बोट क्लब है। सामने दूसरी पर वीआईपी रोड।
-राजा भोज ने एक हजार साल पहले इसी बहाव पर बांध बनाया। कमला पार्क और पुराने शहर को जोड़ने वाला रोड इसी बांध पर है।
-वर्ष 2011 में राजा भोज की प्रतिमा जिस बुर्ज पर स्थापित हुई, वह और तालाब के भीतर जाती एक पूरी दीवार इस विरासत के सबूत हैं।
-अगर वीआईपी रोड की ओर से इनकी खोजबीन शुरू होती है तो बुर्ज के आगे ही प्राचीन संरचनाएं दिखना शुरू हो जाएंगी।
भाेज ने बड़ा तालाब क्यों बनवाया था?
-बीच तालाब से यहां जलस्तर करीब 30 फुट है। इसके नीचे हजार साल में करीब सवा सौ फुट मोटी सिल्ट जमा है। सबसे नीचे ये अवशेष हैं।
-भोजपुर मंदिर के सामने भोज ने भीमकुंड बनवाया था, विस्तार करीब 600 वर्ग किमी था। मंडीदीप उसमें द्वीप की तरह था। उसे भरने के लिए कोलांस पर बांध बना।
-रिसर्चर संगीत वर्मा के अनुसार कई घाट, मंदिर और इमारतें तालाब के भीतर हैं, जो भोज का बांध बनने के पहले नदी के किनारे विकसित थे।
-सेटेलाइट इमेज में वीआईपी रोड के समांतर कई चौकाेर रचनाएं पानी में अब भी साफ नजर आती हैं।
-पुरातत्वविद् पूजा सक्सेना ने तालाब के अासपास 15 बुर्ज चिह्नित किए। उनका मानना है कि डूबे हुए अवशेष गोंड कालीन हो सकते हैं, क्योंकि भोज के समय तालाब का जलस्तर कम था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *