Suicide note: Blue Whale game is fatal attraction

blue whaleA 19-year-old college student found hanging from a ceiling fan in his Madurai home on Wednesday scrawled these lines about the addictive and dangerous Blue Whale Challenge online game responsible for scores of teenage deaths around the world, including India.
J Vighnesh said in his note: “You can enter it, but cannot exit the game.”
He could be Tamil Nadu’s first casualty of the game that provokes players to do self-destructive tasks for 50 days before taking the final step of death by suicide.
Police in the southern state said on Thursday they are investigating the contact numbers on the teenager’s mobile phone and members of a WhatsApp group he was a part of.
According to Madurai police superintendent Manivannan, a tattoo of a whale made using a sharp object was found on his left hand.
“The players etch the picture of a whale on their arm … this is a sure-shot indication of impending danger to the life of teenagers,” he said.
The second-year BCom student of Mannar Thirumalai Naicker College used his mother’s sari to hang himself.
His distraught mother told a private television channel she saw strange marks on his body and asked him about it. “He told me, ‘It is nothing Amma, nothing will happen to me’,” she said.
She discovered about three days ago that her son was hooked on the deadly internet game and said around 75 children were in group playing the game.
“I request the government to save these children. No mother should face the misfortune of losing a child and go through the trauma.”
Madurai collector Veera Raghava Rao promised to form a special team for spreading awareness in schools and colleges and counsel students and parents “to check the menace”.
The Tamil Nadu tragedy is the latest in a string of cases reported from across India of deaths or suicide attempts linked to the game developed in Russia.
A Class 10 student with a whale mark on his hand was admitted to a government hospital in Assam capital Guwahati this week after he showed abnormal behaviour.
In West Bengal, two teenage girls suspected to be playing the macabre game were interrogated and counselled on Thursday. School authorities said the girls “were in a trance” and one of them cut her hand.

19 साल के स्टूडेंट ने सुसाइड नोट में लिखा- ‘ब्लू व्हेल’ गेम नहीं बल्कि…
मामला तमिलनाडु का है, जहां मदुरै के 19 साल के छात्र विग्नेश ने सुसाइड कर लिया।
मदुरै/नई दिल्ली. डेथ गेम ‘ब्लू व्हेल’ ने एक और युवा की जान ले ली। ताजा मामला तमिलनाडु का है, जहां मदुरै के 19 साल के छात्र विग्नेश ने सुसाइड कर लिया। बुधवार सुबह पिता ने उसे फंदे से लटका पाया। इस गेम से मौत का देश में छठा मामला है।
-विग्नेश बीकॉम सेकेंड ईयर का छात्र था। पुलिस के मुताबिक उसके हाथ पर ब्लू व्हेल की इमेज बनी थी। उसके कमरे से सुसाइड नोट भी मिला है।
-इसमें लिखा है, ‘ब्लू व्हेल कोई गेम नहीं बल्कि खतरा है। एक बार इसमें घुसने के बाद आप इससे निकल नहीं सकते।’
-विग्नेश की मां ने बताया कि हाथ पर निशान के बारे में पूछने पर उसने कहा था- आप चिंता मत करो। मुझे कुछ नहीं होगा।
-पुलिस के अनुसार वह जिस ग्रुप में गेम खेल रहा था, उससे 75 टीनएजर्स और जुड़े हैं।
-इस गेम के खिलाफ स्कूलों और लोगों में जागरूकता अभियान चलाने के लिए पुलिस और प्रशासन ने स्पेशल सेल बनाई है।
‘ब्लू व्हेल’ के संदिग्ध लिंक की पहचान के लिए बनेगी कमेटी
-ब्लू व्हेल गेम पर बैन के बावजूद इसके लिंक सक्रिय होने को सरकार ने गंभीरता से लिया है। सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने जांच के आदेश दिए हैं कि रोक के बावजूद यह गेम कैसे एक्टिव है।
-उन्होंने कहा कि साइबर हमला और ऐसे लिंक आने वाले समय में बड़ी चुनौती बनने वाले हैं। इसलिए सभी इंडस्ट्री को साइबर सुरक्षा अधिकारी नियुक्त करने को कहा है।
गूगल सर्च के मुताबिक ‘ब्लू व्हेल’ खोजने में दुनिया के टॉप 10 शहरों में 7 भारत के; कोच्चि अव्वल, सालभर में यहां 100 गुना बढ़ी सर्चिंग
-तमिलनाडु के मदुरै में ब्लू व्हेल गेम चैलेंज के चलते 19 साल के युवा ने जान दे दी। सरकार द्वारा रोक लगाने के बावजूद गेम काफी सर्च किया जा रहा है।
-30 अगस्त तक गूगल सर्च के ट्रेंड से मिले डाटा के मुताबिक कोच्चि में नेट पर यह गेम दुनिया में सबसे ज्यादा सर्च किया गया। सालभर में कोच्चि में इसकी 100 गुना ज्यादा बार सर्चिंग हुई।
-दुनिया के टॉप 10 शहरों में 7 भारत के हैं। तिरुवनंतपुरम दूसरे और कोलकाता तीसरे पर है। बेंगलुरू छठे पर है। टॉप 10 में अन्य भारतीय शहर गुवाहाटी, मुंबई और दिल्ली भी हैं।
-भारत के अलावा अन्य देशों के तीन शहर सैन-ऐंटोनियो, नैरोबी और पेरिस शामिल हैं। वहीं सर्च करने वाले टॉप देशों में भारत चौथे नंबर पर है।
फेसबुक पर परिजनों की चिंता: हमारे घरों में घुस रहा है यह गेम, अलर्ट रहना ही होगा
-हाल में नई दिल्ली में रहने वाली प्रियंका बंसल ने अपनी सात साल की भतीजी का वाकया फेसबुक पर शेयर किया है। प्रियंका के मुताबिक ‘एक दिन जब वो स्कूल से आई तो उसने अपनी मां से ‘ब्लू’ की स्पेलिंग पूछी।
-थोड़ी देर बाद ‘व्हेल’ की। मां को लगा उसने ऐसे ही पूछ लिया होगा। रात में उसने मुझसे पूछा, ‘बुआ ये ब्लू व्हेल गेम क्या है?’ ये सुनकर मैं दंग थी।
-मैंने उससे पूछा कि क्या वो व्हेल के बारे में बात कर रही है? उसने कहा, व्हेल नहीं ब्लू व्हेल गेम। मैंने डराने के लिए कहा कि गेम के बारे में क्यों पूछ रही हो? ये गेम तो भूत का है।
-इतना सुनते ही उसने रोना शुरू कर दिया। उसने अपने पापा के मोबाइल में गेम डाउनलोड किया था और स्कूल बस के दो ‘भइया’ ने ये गेम डाउनलोड करने को कहा था।
-हमें लगा कि ये सलाह देने वाले बड़ी क्लास के स्टूडेंट होंगे लेकिन भतीजी ने बताया ‘वो बच्चे पांचवी में पढ़ते हैं। गेम को खोलने पर बड़ी सी व्हेल दिखी। उसकी बॉडी में कुछ मास्क जैसा था तो मैं डर गई।’
-हालांकि बच्ची बहुत छोटी थी इसलिए शायद इंस्ट्रक्शन समझ नहीं पाई और गेम में आगे की स्टेज पर नहीं जा सकी। अगर वो वाकई गेम शुरू कर आगे बढ़ जाती तो… यह गेम धीरे-धीरे हमारे घरों में घुस रहा है, हमें अलर्ट रहना ही होगा।’
बच्चे को ये समझा पाना बहुत मुश्किल है कि सुसाइड क्या है
-प्रियंका अकेली नहीं हैं। बहुत सी ऐसी माएं हैं जो इस डर के साए में जी रही हैं।
-दिल्ली की ही मंजू के दो बच्चे हैं। बेटी 9 साल की है और बेटा 17 का। उनका कहना है उनकी बच्ची ने तो इस गेम का जिक्र अभी तक नहीं किया है पर बेटा इस बारे में जानता है।
-उसके मोबाइल में पासवर्ड है इसलिए वो ये नहीं जानतीं कि वो क्या देखता है और मोबाइल में क्या-क्या है।
-उनके मुताबिक छोटे बच्चे को रोक सकते हैं पर 17 साल के किशोर को कैसे समझाएं? मोबाइल देना भी मजबूरी है।
-उन्होंने बेटे से कह दिया है कि अगर वो कोई ऐसा गेम डाउनलोड करे तो बता जरूर दे। श्वेता की दो बेटियां हैं। एक दस साल की है और छोटी पांच की।
-बड़ी बेटी ने स्कूल की वैन में इस गेम के बारे मे सुना। उसने ही अपनी मां को बताया कि ये गेम कैसे खेलते हैं। और आखिर में क्या होता है।
-शीतल कहती हैं कि पांच साल के बच्चे को ये समझा पाना बहुत मुश्किल है कि सुसाइड क्या है। ऐसे में उन्होंने अपनी दोनों बेटियों से सिर्फ ये कहा कि यह बुरा गेम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *