Hindu parents embrace Islam after murder of son who became Muslim

IslamEight members of the family of the 31-year-old man, who was brutally murdered by a suspected group of RSS workers for converting to Islam in November last year, in Kerala’s Muslim-dominated Malappuram have decided to follow his footsteps.
Aneesh Kumar alias Faisal Pullani’s two sisters, a brother-in-law, and five of their children converted last week. Pullani’s mother Meenakshi Amma (Jameela) embraced Islam a month after her son’s killing.
Fearing backlash, Pullani’s family was moved to a safe location where they were learning basic tenets of the religion, a close relative said adding that their conversion was approved by Maunanthul Islam Sabha, a religious school in Ponnani.
Faisal, who worked as a driver in Saudi Arabia, was hacked to death in Kodinhi village on November 19, 2016, a year after he converted to Islam. Later, the police arrested 12 people, including his brother-in-law K Vinod, in connection with the murder.
His family members said Vinod, an active worker of the Vishwa Hindu Parishad (VHP), had earlier threatened to kill him if he acted on his “conversion aspirations”. He was killed three days before he was to fly to join his workplace.
“After her husband, Vinod, turned an accused in the case his wife (Faisal’s sister) had applied for divorce and she also embraced Islam,” the family member said adding that the local Muslim community is looking after the entire family now.
Since all the accused are out on bail, a peace committee was convened two days ago in Kodinhi to foil any attempt to vitiate the atmosphere. Police have also tightened vigil in the area.
“India is a secular-democratic country. We will not allow anyone to vitiate the communal fabric,” said district panchayat president AP Unnikrishnan. “Their conversion was not out of rage or protest. They were influenced by the religion and no coercion is there. It is their individual choice,” he added.
After Pullani’s murder, there were fears of a communal flare-up but the situation was brought under control thanks to the dotting mahal (mosque) committees, which took a pledge that they will uphold the communal tradition of the district.
“In Kodinhi village there are 3,000 Muslim families and 200 Hindu families. During the burial of Faisal though there were taqbir chants, but many mahal committees took to loud speakers to announce that it was our duty to protect our Hindu brethren,” Komukutty Haji, secretary of the peace committee, said explaining how they defused the situation.
However, the Bharatiya Janata Party maintained it was only opposing monetary-involved conversions.
“We are not against conversion. But if it is induced by coercion or monetary involvement naturally it will spark social and communal tension. We have reports that in certain cases money is involved,” said BJP’s Malappuram district secretary Ravi Thelath adding that the Kodinhi incident was an isolated one.
इस्लाम कबूलने पर RSS ने किया बेटे का कत्ल,अब माँ बाप भी बने मुसलमान।पढ़े पूरी ख़बर।
केरल के मल्लापुरम जिले के 30 वर्षीय फैसल (पहले अनील कुमार) की हत्या के करीब 10 महीने बाद उनके पिता कृष्णा नायर और मुसलमान हो गये।  फैसल की हत्या का आरोप राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (एसएसएस) के कार्यकर्ताओं पर लगा था।
नायर अपने परिवार में मुसलामन बनने वाले आखिरी शख्स हैं। उनका परिवार मल्लापुरम के कोडिनजी गांव में रहता है। फैसल की 19 नवंबर 2016 को हत्या के बाद उनकी मां मीनाक्षी आरएसएस को चुनौती देते हुए सार्वजनिक रूप से मुसलमान बन गई थीं। दो महीने पहले फैसल की दो बहनों, साले और पंच बच्चे भी मुसलमान बन गये। पुलिस के अनुसार अगड़ी जाति से आने वाले नायर दो हफ्ते पहले एक स्थानीय मस्जिद में मुसलमान बने। उनके साथ उनकी पत्नी, बेटियां और पोते-पोतियां भी थे। कहा जा रहा है कि नायर का पूरा परिवार इस समय मल्लापुरम के मरकाजुल हिदाया में नए मुसलमान बनने वालों को दी जाने वाली तालीम हासिल कर रहा है।
पुलिस के एक अधिकारी ने बताया, “फैसल के एक साले विनोद को छोड़क पूरा परिवार मुसलमान बन चुका है। विनोद फैसल की हत्या में आरोपी है। मुसलमानों के लिए फैसल शहीद है और उसके परिवार को हर संभव मदद दे रहे हैं। इसी से वो लोग मुसलमान बनने को प्रेरित हुए।” फैसल सऊदी अरब की राजधानी रियाद में ड्राइवर के रूप में काम करता था। वो साल 2015 में मुसलमान बन गया था। अगस्त 2016 में उसकी पत्नी और तीन नाबालिग बच्चे भी मुसलमान हो गये। कथित तौर पर इलाके के आरएसएस कार्यकर्ता इससे नाराज थे। फैसल की हत्या के बाद आरएसएस और बीजेपी से जुड़े 12 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।
पुलिस के अनुसार हत्यार के आरोपियों को डर था कि फैसल अपने परिवार में बाकी लोगों को भी मुसलमान बनने के लिए उकसा सकता है। पुलिस के अनुसार विनोद ने ही संदिग्धों को फैसल की गतिविधियों की जानकारी दी थी। पुलिस के अनुसार हत्या का मुख्य आरोपी 47 वर्षीय मदाथिल नारायण तिरूर में आरएसएस कार्यवाहक है। वो पहले भी एक मुसलमान बने व्यक्ति की हत्या में संदिग्ध था और पिछले साल जुलाई में सुप्रीम कोर्ट से बरी हुआ था। फैसल की हत्या के सभी आरोपियों को हाल ही में जमानत मिली है। 25 अगस्त को फैसल की हत्या के एक संदिग्ध 24 वर्षीय के बिपिन की हत्या कर दी गयी। पुलिस के अनुसार फैसल की हत्या का बदला लेने के लिए बिपिन की हत्या करने की आशंका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *