Dog meat is sold at Rs. 180 per kg, favourite dish in Indian states Nagaland and Meghalaya

dogsDog meat is tasty dish not only in China, but ndian states Nagaland and Meghalaya also. Recently, Police in central Assam’s Samaguri town rescued 75 drugged street dogs that were to be sold for meat in Nagaland, and arrested four men who were shipping them in a pick-up van. But 22 of them died later because of starvation and asphyxiation. The dogs, with their mouths taped or stitched, were heaped on top of each other, police said.
“We acted on a tip-off to intercept the vehicle around 10pm on Thursday and arrest the four. The way they were ferrying the dogs was inhuman,” Rajib Barman, officer in-charge of Samaguri police station, said.
The quartet – Raju Momin, Prakash Momin, Sanil Sangma and Paweng Sangma – revealed that they had lured stray dogs with spiked biscuits from the Rupohi area of Nagaon district.
They taped or stitched the unconscious dogs’ mouths to stop them from barking, thereby attracting suspicion. “The four said they were expecting good money for the dogs from clients in Dimapur,” Barman said.
The vehicle has been seized and the quartet detained under the animal cruelty law. Samaguri police handed the rescued dogs on Thursday night to People For Animals (PFA), an animal rights campaign group, which runs a shelter in Guwahati. The rescued animals were brought to the shelter.
“The dogs seemed disoriented. They are recovering, but it is a pity we could not save the 22 that died on the way,” PFA’s Sangeeta Goswami said.
Dog meat is a delicacy for many in Nagaland and Mizoram. But the Nagaland government, under pressure from adjoining states, has been contemplating a ban on dog meat.
Last July, the government asked the state’s directorate of municipal affairs to issue an order to all urban bodies to stop capturing stray dogs for slaughter and meat.
The directive followed a legal notice sent to the government by NM Kapadia, an Assam-based advocate. He said dog meat is consumed in the belief that it contains iron and has curative properties.
Police and animal rights activists have in the past five years saved at least 2,200 dogs en route to slaughterhouses in Nagaland and Mizoram.
भारत में यहां उबालकर खाए जाने थे कुत्ते, कू-कू की आवाज करते ऐसे मिले
एक एनजीओ की पहल पर एक वेयरहाउस पर छापा मारा गया तो वहां से 26 मासूम डॉग्स बोरियों में बंद मिले जिनके मुंह बंद थे और हाथ बंधे। इन डॉग्स की उम्र 3 महीने से लेकर 8 साल तक थी। आखिर क्या होना था इतने सारे डॉग्स का…
-वैसे तो चीन के बारे में सुना जाता है कि वहां कुत्तों का मीट खाया जाता है लेकिन भारत में भी कुछ राज्य ऐसे हैं जहां कुत्तों का मीट खाया जाता है।
-ऐसा ही एक मामला नार्थ ईस्ट इंडिया के मेघालय में सामने आया है जहां 26 कुत्तों का रेस्क्यू किया गया।
-दरअसल एक एनजीओ ‘जस्ट बी फ्रेंडली’ की पहल पर तीन वेयरहाउस पर छापे मारे तो वहां से 26 डॉग्स बोरियों में बंधे मिले।
-इन डॉग्स को मीट मार्केट में बेचा जाना था, उससे पहले ही इन्हें छुड़ा लिया गया।
-डॉग्स को इतने बुरे तरीके से पैक किया गया था कि उन्हें बोरी में से निकालने में ही 20 मिनट लग रहे थे।
ऐसे खुला मामला
– एनजीओ ‘जस्ट बी फ्रेंडली’ के एक डॉक्टर को सूचना मिली कि कार में कुछ कुत्तों को स्मगलिंग करके मेघालय से नगालैंड ले जाया रहा है।
-मेघालय में जोवई के निकट हाइवे पर उस कार को पकड़ा गया तो उसमें तीन छोटे कुत्ते बैग्स में पैक करके रखे हुए थे।
-उनसे जब पूछताछ की तो तीन वेयर हाउसों पर छापा मारा जहां से 23 और कुत्तों को रेस्क्यू किया गया।
-जब कुत्तों को रेस्क्यू किया गया तो वे बुरी हालत में मिले।
-26 डॉग्स में 7 डॉग्स को वहीं पड़ोसियों को दे दिया गया जो उनकी देखभाल करेंगे।
180 रुपए किलो में बिकता है डॉग का मीट
-भारत में कई जगह इन डॉग्स को गर्म पानी में उबाला जाता है जिससे उनकी चमड़ी अलग हो जाती है। फिर इनका मीट 180 रुपए प्रति किलो में बेचा जाता है।
-भारत में तो डॉग्स का मीट बैन है लेकिन मिजोरम और नगालैंड में डॉग्स का मीट खाया जाता है। इसके लिए इन डॉग्स की स्मगलिंग होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *